खोज

Vatican News
हवाई अड्डे में बच्चे ने संत पापा को गुलदस्ता देते हुए स्वागत किया हवाई अड्डे में बच्चे ने संत पापा को गुलदस्ता देते हुए स्वागत किया 

संत पापा फ्राँसिस संयुक्त अरब अमीरात पहुंचे

3 फरवरी रविवार शाम को संत पापा का विमान अबू धाबी के राष्ट्रपति हवाई अड्डे पर उतरा। एक आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल ने संत पापा फ्रांसिस का स्वागत किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

अबू धाबी, सोमवार 4 फरवरी 2019 (वाटिकन न्यूज) : संयुक्त अरब अमीरात के प्रेरितिक राजदूत, महाधर्माध्यक्ष फ्रांसिस्को मोंटेचेलो पादील्ला ने विमान के रुकते ही संत पापा फ्राँसिस का स्वागत करने के लिए विमान में प्रवेश किया हुए क्योंकि संत पापा अपनी प्रेरितिक यात्रा के लिए संयुक्त अरब अमीरात पहुंचे थे।

संत पापा का स्वागत

क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल-नाहयान ने विमान से उतरते और अमीरात की मिट्टी पर कदम रखते ही संत पापा का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया।

जैसे ही संत पापा हवाई अड्डे में दाखिल हुए, पारंपरिक वेश-भूषा में दो बच्चों ने संत पापा को फूलों का गुलदस्ता भेंट किया और एक बच्चे ने संयुक्त अरब अमीरात में उनका स्वागत स्पानी भाषा में किया।

उसके बाद संत पापा फ्राँसिस को पूर्व-पश्चिम के बीच संवाद को मजबूत करने की अपनी खोज में सहयोग देने वाले और अपने पुराने मित्र अल-अजहर के ग्रैंड इमाम, अहमद अल-तैयब ने आलिंगन कर स्वागत किया।

संयुक्त अरब अमीरात के इतिहास में संत पापा फ्राँसिस पहले परमाध्यक्ष हैं जिन्होंने अरब प्रायद्वीप पर पैर रखा है।

ऐतिहासिक यात्रा का विषय है, "मुझे अपनी शांति का वाहक बना," और यह इस क्षेत्र के लिए और दुनिया के लिए शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के मूल्यों को आगे बढ़ाने और विभाजनकारी विचारधाराओं, संप्रदायों, राजनीतिक दलों के प्रति पूर्वाग्रह और निष्ठा को दूर करने के लिए तत्काल अपील करता है।

प्रतीक चिन्ह (लोगो)

यात्रा हेतु प्रतीक चिन्ह के रूप में एक कपोत अपनी चोंच में जैतून की डाली ली हुई है। कपोत का रेखाचित्र श्वेत में पीले रंग से निर्मित किया गया है जो वाटिकन के झंड़े का प्रतीक है और संयुक्त अरब अमीरात के झंडे को भी कबूतर में अंकित किया गया है जो देश में शांति के अग्रदूत संत पापा फ्राँसिस की यात्रा को दर्शाता है।

प्रेरितिक यात्रा द्वारा आधिकारिक लोगो पर एक जैतून की शाखा ले जाने वाले कबूतर की तरह, संत पापा फ्राँसिस ने मानव जाति के भविष्य के लिए आशा के संदेश के साथ शांति दूत के रूप में खाड़ी क्षेत्र में पैर रखा है।

04 February 2019, 15:56