खोज

Vatican News
वेनेज़ुएला के महागिरजाघर में प्रार्थना करते लोग वेनेज़ुएला के महागिरजाघर में प्रार्थना करते लोग  (AFP or licensors)

वेनेज़ुएला संकट के शान्तिपूर्ण समाधान का आह्वान

वेनेज़ुएला में जारी राजनैतिक संकट की पृष्ठभूमि में सन्त पापा फ्राँसिस ने "न्यायिक और शांतिपूर्ण समाधान" का आह्वान किया है। पनामा के निकटवर्ती राष्ट्र वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति मादुरो ने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ ली है किन्तु विपक्षी नेताओं ने वोटों में धांधली का आरोप लगाकर चुनावों का बहिष्कार कर दिया था। उसी के बाद से विपक्षी नेता हुआन गोइदो की अपील के बाद वेनेज़ुएला में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन शुरू हो गए थे जिन्होंने अब हिंसक रूप धारण कर लिया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

पनामा सिटी, सोमवार, 28 जनवरी 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): वेनेज़ुएला में जारी राजनैतिक संकट की पृष्ठभूमि में सन्त पापा फ्राँसिस ने "न्यायिक और शांतिपूर्ण समाधान" का आह्वान किया है. पनामा के निकटवर्ती राष्ट्र वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति मादुरो ने दूसरे कार्यकाल के लिए शपथ ली क किन्तु विपक्षी नेताओं ने वोटों में धांधली का आरोप लगाकर चुनावों का बहिष्कार कर दिया था. उसी के बाद से विपक्षी नेता हुआन गोइदो की अपील कब बाद वेनेज़ुएला में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन शुरू हो गए थे जिन्होंने अब हिंसक रूप धारण कर लिया है.

वेनेज़ुएला में शान्ति की अपील

रविवार को पनामा सिटी में ख्रीस्तयाग समारोह के उपरान्त सन्त पापा फ्राँसिस ने "प्रभु ईश्वर से आर्त याचना की कि प्रभु वेनेज़ुएला के संकट को समाप्त करने हेतु ऐसे समाधान की खोज में मदद करें जिसमें मानवाधिकारों का सम्मान एवं जनकल्याण सुनिश्चित्त किया जा सके."

वाटिकन ने इससे पहले भी वेनेज़ुएला के राष्ट्रपति निकोलस मादुरो तथा वेनेज़ुएला के विपक्षी दल के बीच मध्यस्थता के प्रयास किये हैं. सन्त पापा फ्राँसिस ने रविवार को यह नहीं कहा कि वे विपक्षी दल की दलीलों को सही मानते हैं अथवा विपक्ष को समर्थन देते हैं किन्तु संयुक्त राज्य अमरीका के साथ-साथ वेनेज़ुएला के काथलिक धर्माध्यक्ष भी विपक्षी नेता हुवान गोईदो का समर्थन कर रहे हैं जिन्होंने स्वतः को वेनेज़ुएला का राष्ट्रपति घोषित कर दिया है.

रोगियों से मुलाकात   

मेट्रो पार्क स्थित सन्त जॉन पौल को समर्पित मैदान में ख्रीस्तयाग समारोह के बाद सन्त पापा फ्राँसिस ने पनामा सिटी में "काज़ा होगार एल बोन समारितानो" नामक कलीसिया द्वारा एड्स रोगियों के लिये संचालित आश्रम की भेंट कर सम्पूर्ण पनामा के समक्ष स्वीकृति का शक्तिशाली सन्देश प्रसारित किया जहाँ एड्स रोग को कलंक माना जाता है. इस सन्दर्भ में आश्रम के निर्देशक फादर दोमिंगो एस्कोबार ने कहा, "हम यहां जिन लोगों की मदद करते हैं, उनमें से कई को उनके परिवार ने अस्वीकार कर दिया गया है, गलियों के, रास्तों के लोगों ने भी इन्हें अस्वीकार कर दिया है किन्तु यहाँ ये ी्रीस्तीय दया का अनुभव करते हैं ासा कि कलीसिया चाहती है. "

उदासीनता समाप्त करें 

येसु ख्रीस्त के सुसमचार में निहित भले समारी के दृष्टान्त की सन्त पापा फ्राँसिस ने याद दिलायी जिसने ज़रूरतमन्द और घायल अजनबी का उपचार किया था तथा समाज में निर्धनों एवं रोगियों के प्रति उदासीनता को अन्त का आह्वान किया, क्योंकि, उन्होंने कहा, "उदासीनता घायल कर सकती और मार भी डाल सकती है. किसी को केवल चन्द सिक्कों के लिये और कुछ दूसरों को अशुद्ध होने के डर से. " सन्त पापा ने कहा कि भले समारी का दृष्टान्त यह दर्शाता है कि हमारा पड़ोसी सबसे पहले एक व्यक्ति है जिसका किसी भी हालत में बहिष्कार या उपेक्षा नहीं की जा सकती.

28 January 2019, 11:39