खोज

Vatican News
पनामा में भारत के तीर्थयात्री पनामा में भारत के तीर्थयात्री 

पनामा विश्व युवा दिवस में भारत के तीर्थयात्री

पनामा में 34वाँ विश्व युवा दिवस शुरू हो चुका है जिसमें भारत के कुल 56 युवा भाग ले रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

संत पापा फ्राँसिस के साथ पनामा में विश्व युवा दिवस में भाग लेने हेतु भारत के युवा 15 जनवरी को पनामा सिटी पहुँचे जिनका स्वागत संतियागो दी वेरागुआस धर्मप्रांत के अतालाया पल्लीवासियों ने किया।

भारत के उन युवाओं के साथ 9 पुरोहित, एक धर्मबहन, कोट्टायाम के सहायक धर्माध्यक्ष जोसेफ पनडारासेरिल और भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के युवा आयोग के महासचिव फादर दीपक थॉमस भी पनामा गये हुए हैं।

फादर थॉमस ने एशियान्यूज को बतलाया कि उन्होंने आध्यात्मिक, सांस्कृतिक और सामाजिक कार्यक्रमों में भाग लिया है। 17 जनवरी को ख्रीस्तयाग के दौरान भारतीय प्रतिनिधियों ने देश की संस्कृति का प्रदर्शन किया।

अगले दिन उन्होंने मिशन एवं साझा पर्यटन में भाग लिया जिसमें उन्होंने प्रेरितिक विश्व पत्र "लौदातो सी" में संत पापा फ्राँसिस के आह्वान के प्रत्युत्तर के रूप में वृक्ष रोपण भी किया।  

सप्ताह के अंत में, उन्हें खेलकूद में सहभागी होने एवं परिवार के साथ समय व्यतीत करने का अवसर मिला। उन्होंने बच्चों के साथ मस्ती किया और संतियागो दी वेरागुआस के धर्माध्यक्ष से भी मुलाकात की।

पनामा के अतिथि

पनामा गये भारतीय युवाओं में से एक नादिन पेरेइरा ने एशियान्यूज को बतलाया कि किस तरह एतालाया में गर्मजोशी के साथ उनका स्वागत किया गया। माध्यरात्रि जब वे वहाँ पहुँचे तब लोगों ने नृत्य एवं संगीत के साथ उनका स्वागत किया जो 20 घंटे की विमान एवं 4 घंटे की बस यात्रा की उनकी थकान को दूर कर दिया।

"धर्मप्रांत के कार्यक्रमों" में भाग लेने हेतु अतालाया के हरेक परिवार में दो भारतीय का स्वागत किया गया है।  

दूसरी भारतीय युवा रीनीता जुलियाना फ्राँसिस है ने बतलाया कि दूसरे देशों के तीर्थयात्री संत योहन सुसमाचार लेखक पल्ली में ठहरे हैं। उन्होंने अपने परम्परागत परिधान में अपने देश के सैंकड़ों ध्वज लहराये तथा पनामा के सैनिकों द्वारा बजाये गये ताल में नृत्य प्रस्तुत किया। जब संध्या हो गयी तब तीर्थयात्रियों ने प्रभु की स्तुति एवं महिमा के गीत गाये। उसके बाद मौरितुस, कोलोम्बिया, ब्राजील, होनडूरस, मेक्सिको और भारत के प्रतिभागियों ने नृत्य प्रस्तुत किया।

संत पापा फ्राँसिस ने पनामा वासियों की सराहना करते हुए कहा, "वे मेहमाननवाज, भावनात्मक और उदार लोग हैं।" वे अपनी संस्कृति एवं परम्परा पर गर्व करते हैं विशेषकर, स्पानी संगीत।

रीनीता ने कहा कि यूखरिस्त में गायक दल एवं विश्वासियों की सहभागिता अनोखी थी। पनामा शहर में भारतीय युवा संत एदूविगस कलीसिया के मेहमान हैं।

24 January 2019, 17:42