Cerca

Vatican News
शांति के प्रतीक कपोत उड़ाते संत पापा शांति के प्रतीक कपोत उड़ाते संत पापा  (AFP or licensors)

शांति की सेवा में अच्छी राजनीति

वाटिकन प्रेस कार्यालय ने 52वें विश्व शांति दिवस के लिए संत पापा फ्राँसिस के संदेश को प्रकाशित किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 18 दिसम्बर 2018 (रेई)˸ मंगलवार को प्रकाशित संदेश में संत पापा ने 52वें विश्व शांति दिवस के अवसर पर इन शब्दों से अभिवादन किया है, "इस घर को शांति" (लूक.10.5) संत पापा का यह अभिवादन सुसमाचार में येसु द्वारा शिष्यों को निर्देश देते हुए कहा गया था। संत पापा ने गौर किया है कि येसु ने जिस घर का जिक्र किया है वह है प्रत्येक परिवार, समुदाय, देश एवं महाद्वीप। 

शांति की सेवा में

विश्व शांति दिवस के उपलक्ष्य में अपने संदेश में संत पापा ने "शांति की सेवा में अच्छी राजनीति" की भूमिका पर चिंतन किया है। उन्होंने कहा है कि जो लोग राजनीतिक जिम्मेदारी लेते हैं उनका कार्य उदारता एवं मानवीय मूल्यों पर आधारित होना चाहिए।

राजनीतिक बुराई के खिलाफ चेतावनी

संत पापा ने संदेश में उन बुराइयों से बचकर रहने हेतु चेतावनी दी है जो राजनीति पर दुष्प्रभाव डालते हैं, खासकर, भ्रष्टाचार, जातिवाद, विदेशी लोगों से घृणा एवं पर्यावरण की चिंता नहीं करना आदि।

जब राजनीतिक शक्ति का लक्ष्य कुछ ही लोगों के हित की रक्षा करना हो जाता है तब भविष्य के साथ समझौता किया जाता एवं युवा अपने साहस खोने के प्रलोभन में पड़ जाते हैं।

संत पापा ने राजनीतिक नेताओं को प्रोत्साहन दिया कि वे युवाओं की क्षमताओं एवं आकांक्षाओं को बढ़ावा दें ताकि शांति स्थापित की जा सके। उन्होंने कहा कि इस तरह आमघर के निर्माण में सभी अपना योगदान दे सकते हैं चाहे वह एक ही पत्थर क्यों न हो।

शांति का आधार

संत पापा फ्राँसिस ने डराने एवं धमकाने की राजनीति को अस्वीकार किया तथा हथियार के अनियंत्रित प्रसार का विरोध किया। उन्होंने कहा कि शांति प्रत्येक व्यक्ति की प्रतिष्ठा, नियमों की कद्र, सार्वजनिक भलाई एवं पर्यावरण के सम्मान और अतीत की पीढ़ी द्वारा प्राप्त नैतिक परम्परा पर आधारित होती है।

चुनौतियों को लेना

संदेश के अंत में, संत पापा ने कहा है कि शांति "आपसी जिम्मेदारी और मनुष्यों पर परस्पर निर्भरता में आधारित एक महान राजनीतिक परियोजना का फल है" किन्तु यह एक ऐसी चुनौती है जिसके लिए हमेशा एक नया कदम लेने की आवश्यकता है जिसमें हृदय एवं आत्मा का परिवर्तन जुड़ा है।

18 December 2018, 16:49