Cerca

Vatican News
आप्रवासी आप्रवासी   (AFP or licensors)

विश्व आप्रवासी एवं शरणार्थी दिवस मनाया जाएगा सितम्बर में

संत पापा फ्राँसिस ने विश्व शरणार्थी एवं आप्रवासी दिवस को सितम्बर माह के अंतिम रविवार के दिन निर्धारित किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक एवं वाटिकन प्रवक्ता ने 20 नवम्बर को एक विज्ञप्ति जारी कर कहा है कि विभिन्न धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के आग्रह पर संत पापा फ्राँसिस ने विश्व शरणार्थी एवं आप्रवासी दिवस में परिवर्तन कर, इसे सितम्बर माह के अंतिम रविवार को निर्धारित किया है। इसके अनुसार आगामी 105वाँ विश्व शरणार्थी एवं आप्रवासी दिवस 29 सितम्बर 2019 को मनाया जाएगा।

विश्व शरणार्थी एवं आप्रवासी दिवस की शुरूआत 1914 में प्रथम विश्व युद्ध के कुछ महीनों पहले हुई थी, जब संत पापा पियुस दसवें ने इटली के लाखों लोगों की दुर्दशा देखी थी जो शताब्दी के आरम्भ में विदेशों में विस्थापित हुए थे। संत पापा ने ख्रीस्तियों का आह्वान किया था कि वे विस्थापितों के लिए प्रार्थना करें। उसके बाद उनके उत्तराधिकारी संत पापा बेनेडिक्ट 15वें ने आप्रवासियों का दिवस निर्धारित किया ताकि इटली के विस्थापितों की आध्यात्मिक एवं आर्थिक मदद की प्रेरिताई को सहायता प्रदान की जा सके।  

सन् 1952 में विस्थापित दिवस ने बड़ा रूप लिया तथा स्थानीय कलीसियाओं को एक तिथि निश्चित करने का निर्देश दिया गया। संत पापा जॉन पौल द्वितीय प्रथम संत पापा थे जिन्होंने सन् 1985 में विस्थापितों की समस्याओं तथा इस क्षेत्र में कलीसिया के कार्यों पर प्रकाश डालते हुए एक संदेश प्रकाशित किया था।

2004 में विस्थापितों एवं खानाबदोशों की देखभाल हेतु गठित परमधर्मपीठीय समिति ने इसका विस्तार करते हुए इसमें शरणार्थियों को भी जोड़ दिया। इस तरह 2005 से संत पापा जॉन पॉल द्वितीय के आदेश पर, प्रभु प्रकाश पर्व के बाद दूसरे रविवार को विश्वव्यापी कलीसिया में प्रवासियों और शरणार्थियों का विश्व दिवस मनाया जाने लगा।

अंततः 105वां विश्व आप्रवासी एवं शरणार्थी दिवस के अवसर पर 14 जनवरी 2018 को संत पापा फ्राँसिस ने संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में देवदूत प्रार्थना के अंत में घोषित किया था कि अब इसे सितम्बर के अंतिम रविवार को मनाया जाएगा।

20 November 2018, 17:34