बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
जेनेवा में संत पापा पॉल छठे जेनेवा में संत पापा पॉल छठे  (wcc photo)

धन्य पापा पॉल छठे की 40वीं पुण्यतिथि

संत पापा फाँसिस ने रविवार को धन्य पापा पॉल छठे की 40वीं बरसी को याद किया। 6 अगस्त 1978 की रात 9.40 को उन्होंने आखिरी सांस ली और इस संसार से विदा हो गये।

माग्रेट सुनीता मिंज - वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 6 अगस्त 2018 (रेई) : धन्य पापा पॉल छठे जिन्हें आगामी 14 अक्टूबर को संत पापा फ्राँसिस संत घोषित करेंगे, आज सोमवार 6 अगस्त को उनकी 40वीं पुण्य तिथि है।

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में उपस्थित तीर्थयात्रियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के उपरांत सभी को याद दिलाते हुए कहा,"चालीस साल पहले धन्य पापा पॉल छठे - आधुनिकता का पापा - इस धरती पर अपना आखिरी समय बिताया। 6 अगस्त, 1978 की शाम को उनकी मृत्यु हो गई।"

संत पापा फ्राँसिस अगले 14 अक्टूबर को धन्य पापा पॉल छठे के संत घोषणा का इन्तजार करते हुए कहते हैं,"हम उन्हें बड़े आदर और कृतज्ञता के साथ याद करते हैं" और उनके संत घोषणा की प्रतीक्षा करते हुए हम उनसे प्रार्थना करते हैं कि वे "स्वर्ग से कलीसिया और दुनिया में शांति के लिए प्रार्थना करें।

धर्माध्यक्षों की धर्मसभा के दौरान संत घोषणा

वाटिकन ने आधिकारिक तौर पर मार्च में घोषणा की थी, कि धन्य पापा पॉल छठे की संत घोषणा का समारोही मिस्सा बलिदान धर्माध्यक्षों की धर्मसभा के दौरान होगा।  इस संस्था की स्थापना खुद धन्य पापा पॉल छठे ने की थी।

संत पापा फ्राँसिस ने रोम धर्मप्रांत के पुरोहितों और डीकनों के साथ वार्तालाप के दौरान धन्य पापा पॉल छठे की संत घोषणा की पुष्टि की थी।

धन्य पापा पॉल छठे ने 1963 से 1978 तक काथलिक कलीसिया का नेतृत्व किया था। 1962 से 1965 तक चल रहे द्वितीय वाटिकन महासभा की अगुवाई करने के कारण वे 'आधुनिकता के पापा' के रूप में जाने जाते हैं क्योंकि उन्होंने पूजन पद्धति, गुरुकुल में प्रशिक्षण, धर्मशास्त्रीय अध्ययन और कलीसियाई जीवन के कई अन्य क्षेत्रों में परिवर्तन लाया था।  

धर्माध्यक्षों की धर्मसभा

धन्य पापा पॉल छठे ने कलीसिया के संचालन में दुनिया भर के धर्माध्यक्षों की भागीदारी का विस्तार करने के उद्देश्य से 1965 में धर्माध्यक्षों की धर्मसभा की शुरुआत की।

धर्माध्यक्षों की अगली धर्मसभा वाटिकन में 3 से 28 अक्टूबर तक होगा, जिसमें ‘युवाओं और बुलाहट’ संबंधी विषयों पर चर्चा होगी।

06 August 2018, 16:42