Cerca

Vatican News
मानव तस्करी पर रोक मानव तस्करी पर रोक 

मानव तस्करी के खिलाफ विश्व दिवस पर संत पापा का ट्वीट

संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीट प्रेषित कर मानव तस्करी के शिकार लोगों की पुकार सुनने और उनकी मदद के लिए आगे आने का आह्वान किया।

माग्रेट सुनीता मिंज - वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 30 जुलाई 2018 (रेई) : सोमवार 30 जुलाई मानव तस्करी के खिलाफ विश्व दिवस पर संत पापा फ्राँसिस ने ट्वीट प्रेषित कर मानव तस्करी के शिकार लोगों की पुकार सुनने और उनकी मदद के लिए आगे आने का आह्वान किया।

संदेश में उन्होंने लिखा, “आइये, हम मानव तस्करी और शोषण में फंसे हमारे भाइयों और बहनों का रूदन सुने। वे व्यापार की वस्तुएँ नहीं हैं। वे इंसान हैं और उनके साथ इन्सान की तरह व्यवहार किया जाना चाहिए।”  

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार 29 जुलाई को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्राँगण में एकत्रित तीर्थयात्रियों के साथ देवदूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद सभी पुरुषों और महिलाओं को अन्याय की निंदा करने और मानव तस्करी के "शर्मनाक अपराध" के खिलाफ दृढ़ता से खड़े होने की अपील की।

मानवता के खिलाफ अपराध

संत पापा फ्राँसिस ने बार-बार मानव तस्करी की निंदा की है। माना जाता है कि दुनिया भर में 40 मिलियन लोग इसके शिकार हैं।  इसे "मानवता के खिलाफ अपराध" कहा जाता है।

विदित हो कि कलीसिया ने 8 फरवरी, संत जोसेफिन बखिता के त्योहार दिवस को  मानव तस्करी के खिलाफ प्रार्थना और जागरूकता का अंतरराष्ट्रीय दिवस चिह्नित किया है। सूडान के जीवन संरक्षक संत ने दासता से आजादी और विश्वास की यात्रा की थी। उनका जीवन इतिहास उदासीनता और शोषण से परे आशा को प्रेरित करता है।

‘लाओदातो सी’ में मानव तस्करी को चुनौती

अमरीका में वाटिकन के स्थायी पर्यवेक्षक एवं प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष बेर्नादितो औजा ने गत वर्ष 23 जून को मानव तस्करी निराकरण पर आधारित सत्र को सम्बोधित किया। महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि संत पापा फ्राँसिस ने प्रेरितिक विश्व पत्र ‘लाओदातो सी’ में मानव-विज्ञान और नैतिक मूल के बारे में स्पष्ट कहा है कि "अपने लाभ के लिए व्यक्ति को वस्तुओं के रूप में व्यवहार करना, उन्हें बेगारी कराना या गुलाम बनाना अथवा उनका यौन शोषण, संस्कृति को चुनौती दे रहा है।  उन्होंने कहा कि यह संस्कृति भ्रष्ट मानव परिस्थिति से प्रभावित है जिसमें मानव को शोषणकर्ताओं के लाभ हेतु साधन के रूप में देखा जाता है, जैसा कि चीजों का प्रयोग किया जाता और फेंक दिया जाता है। उन्होंने कहा कि यदि हम मानवीय तस्करी में यौन, आर्थिक और अन्य तरह के शोषण से मानव अधिकारों की रक्षा करने के बारे में गंभीर हैं, तो हमें ईमानदारी और दृढ़तापूर्वक इसकी मांग करनी चाहिए।

30 July 2018, 16:28