Cerca

Vatican News
लीबिया के प्रवासी लीबिया के प्रवासी  (AFP or licensors)

प्रवासियों की सुरक्षा और गरिमा हेतु संत पापा की अपील

रविवार को संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में देश विदेश से इकट्ठे हजारों तीर्थ यात्रियों और विश्वासियों के साथ देव दूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद संत पापा फ्राँसिस ने भूमध्य सागर पार करने वाले प्रवासियों की तरफ से अंतरराष्ट्रीय समुदाय से उनकी सुरक्षा हेतु अपील की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 23 जुलाई 2018 (रेई) : रविवार 22 जुलाई को संत पापा फ्राँसिस ने संत पेत्रुस महागिरजाघर के प्रांगण में विश्वासियों के साथ देव दूत प्रार्थना का पाठ करने के बाद "भूमध्यसागर में प्रवासियों से भरी जहाजों" के बारे में अपील की, जिसे कुछ सप्ताह से खबरों में बताया गया है।

अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील

संत पापा फ्राँसिस ने कहा, "मैं इस त्रासदी के लिए अपना दर्द व्यक्त करता हूँ।" उसके बाद उन्होंने प्रवासियों और उनके परिवारों के लिए अपनी भावनाओं और प्रार्थनाओं का आश्वासन दिया।

उन्होंने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से अपील की कि वे तत्काल निर्णय लें और बचाव कार्य शुरु कर दें ताकि इस तरह की त्रासदियों से बचा जा सके और त्रासदियों का सामना कर रहे सभी लोगों की सुरक्षा, मानवाधिकारों के सम्मान और गरिमा" की गारंटी दी जा सके।

विदित हो कि कुछ दिनों पहले इतालवी धर्माध्यक्षों ने बेहतर जीवन की तलाश में अपने देश को छोड़ने के लिए मजबूर हजारों प्रवासियों के साथ सम्मान और मानवता के साथ व्यवहार करने की अपील की थी।

माल्टा में, एक उलटे नाव के लोग सुरक्षित

माल्टा के तट से रविवार 22 जुलाई को 19 प्रवासियों को बचा लिया गया जिनमें एक गर्भवती महिला और एक बच्चा भी था। लीबिया से आने वाली नाव उल्ट गई, लेकिन बचावकर्ता सभी लोगों को बचाने में कामयाब रहे। लीबिया तट रक्षकों ने 40 प्रवासियों को बचाया और उन्हें त्रिपोली के नौसेना बेस में स्थानांतरित करने के लिए आगे बढ़े। बार्ज ने मोरक्को, मिस्र, सीरिया और नाइजीरिया से लोगों की मेजबानी की। इस बीच, लीबिया और एनजीओ "ओपन आर्म्स" के बीच तनाव बढ़ा। स्पानी संगठन ने कुछ प्रवासियों को बचाने में विफलता के लिए त्रिपोली और रोम की निंदा की है।

23 July 2018, 16:27