खोज

मेकोलाईव में राहत सामग्री प्राप्त करने का इंतजार करते लोग मेकोलाईव में राहत सामग्री प्राप्त करने का इंतजार करते लोग  (ANSA)

रूसी हमलों के बीच यूक्रेनी कलीसिया की मदद

कलीसियाएँ यूक्रेन के लिए आपातकालीन सहायता पहुँचा रही हैं, जब राज्य की आपातकालीन सेवा का कहना है कि दक्षिणी शहर मेकोलाइव पर रातभर रूसी हमले में कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई है और देशभर में रूसी मिसाइल हमले जारी हैं। मिशनरी ऊष्मा, आशा और लाखों लोगों को भोजन प्रदान कर यूक्रेनी कलीसिया की मदद कर रहे हैं ताकि मानव पीड़ा कम की जा सके।

उषा मनोरमा तिरकी वाटिकन सिटी

इस युद्धग्रस्त राष्ट्र में रूसी मिसाइलों के द्वारा कई ठिकानों पर हमले के बाद कीव में लोग पानी के लिए कतार में हैं। यूक्रेन की राजधानी का एक हिस्सा बिना बिजली और पानी के रह गया है। कीएव के महापौर भिताली क्लीतस्को ने कहा कि 40 प्रतिशत निवासी बिना रनिंग वॉटर के हैं। 270,000 अपार्टमेंटों में सोमवार शाम से बिजली गायब है।

हालांकि अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि वे अधिकांश लोगों के लिए बिजली बहाल करने में कामयाब हुए; किन्तु और अधिक कटौती की उम्मीद है क्योंकि रूस ऊर्जा ग्रिड और अन्य आवश्यक बुनियादी सुविधाओं को निशाना बना रहा है।

उन्हें चिंता है कि लाखों लोगों को एक क्रूर और संभावित घातक सर्दी का सामना करना पड़ेगा। ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब यूक्रेनी लोगों ने घर को गर्म रखने के लिए कथित तौर पर फर्नीचरों को काट कर लकड़ी जमा कर लिया है।  

यही कारण है कि अमरीकी मिशन दल स्लाविक सुसमाचार संघ ने यूक्रेन के सैंकड़ों गिरजाघरों के साथ "यूक्रेन जाड़ा गर्म और आशा परियोजना" जारी की है। संघ ने कहा है कि वह स्थानीय कलीसिया को जेनेरेटर, लकड़ी, कोयला और थर्मल कंबल प्रदान करनेवाला है जहाँ परिवार आश्रय ले सकते हैं एवं अत्यधिक ठंढ से राहत पा सकते हैं।    

कंबल एवं जेनेरेटर को जर्मनी और पड़ोसी देश पोलैंड के द्वारा पार किया जाएगा जबकि लकड़ी एवं कोयले को यूक्रेन से ही खरीदा जाएगा।

मिशनियों ने कहा है कि स्थानीय कलीसिया सीमावर्ती क्षेत्रों में पहले से ही करीब 7 लाख लोगों को भोजन प्रदान कर रहे हैं साथ ही युद्ध शुरू होने के समय से ही आशा के सुसमचारी संदेश को बांट रहे हैं।

भूख का सामना कर रहे लाखों लोगों के लिए एक उम्मीद है। काला सागर अनाज निर्यात सौदे का समन्वय करनेवाले संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्ववाले केंद्र का कहना है कि अनाज ले जानेवाले तीन और जहाजों ने मंगलवार को यूक्रेनी बंदरगाह छोड़ा।

अधिकारियों ने बताया कि इससे पहले सोमवार को 12 अन्य जहाज 354,500 टन भोजन लेकर यूक्रेन से रवाना हुए थे।

रूस द्वारा यूक्रेन पर काला सागर में सुरक्षा गलियारे का उपयोग करने के दोषारोपन के साथ रोकने की कोशिश के बावजूद जहाजों ने यूक्रेन से छोड़ने में कामयाबी हासिल की।

यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमिर ज़ेलेंस्की ने रूस पर "दुनिया को भूख से ब्लैकमेल करने" का आरोप लगाया है, जिससे मास्को इनकार करता है।"

यूक्रेन को दुनिया की रोटी की टोकरी के रूप में देखा जाता है, और युद्ध ने दुनिया भर में सुरक्षित खाद्य आपूर्ति के बारे में चिंता बढ़ा दी है।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

02 November 2022, 16:12