खोज

महाधर्माध्यक्ष एरिक दी मोलाँ - बूफों महाधर्माध्यक्ष एरिक दी मोलाँ - बूफों   (AFP or licensors)

दुराचार मामले में 11 धर्माध्यक्षों के शामिल होने की खबर से चौंकी फ्राँसीसी कलीसिया

फ्राँस के दक्षिण-पश्चिमी शहर लूर्द में एक प्रेस सम्मेलन में, फ्राँस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष, महाधर्माध्यक्ष एरिक दी मोलाँ - बूफों ने प्रकट किया है कि कुल 11 धर्माध्यक्ष यौन दुष्कर्म या उसे ढंकने के मामले में दोषी ठहराये गये हैं। जिनमें कार्डिनल जाँ पियर रिकार्द भी शामिल हैं। जिन्होंने रविवार को प्रेषित एक संदेश में स्वीकार किया है कि उन्होंने 35 साल पहले एक किशोरी के साथ दुष्कर्म किया था।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

फ्रांस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सी ई एफ) के अध्यक्ष ने व्यक्त किया कि सोमवार को जब 11 धर्माध्यक्षों पर यौन दुराचार या उसे ढंकने के मामले सामने आये तब वे हैरान रह गये।    

सोमवार को धर्माध्यक्षों की शरद सत्र के दौरान, रेइम्स के महाधर्माध्यक्ष एरिक ने लूर्द के एक प्रेस सम्मेलन में बतलाया कि कलीसिया के कुछ उच्च अधिकारियों को या तो आपराधिक या धर्मवैधानिक अभियोजन, या दोनों का सामना करना पड़ रहा है।

उनमें से एक हैं कार्डिनल जाँ पियेर रिकार्द, जो फ्राँसीसी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के दो बार अध्यक्ष रहे हैं और इस समय विश्वास के सिद्धांत के लिए वाटिकन विभाग के सदस्य हैं।

कार्डिनल रिकार्द ने बाल यौन दुराचार के आरोप को स्वीकारा

फ्राँस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन को सम्बोधित संदेश जिसको महाधर्माध्यक्ष मोलाँ बूफों ने पढ़ा, कार्डिनल रिकार्द ने स्वीकार किया है कि 35 साल पहले जब वे एक पुरोहित थे, उन्होंने "एक 14 साल की लड़की के साथ निंदनीय व्यवहार किया था।"

78 वर्षीय कार्डिनल ने कहा, "इसमें कोई संदेह नहीं है कि मेरे व्यवहार से उस व्यक्ति के लिए गंभीर और दीर्घकालिक परिणाम हुए," बतलाया है कि उन्होंने महिला और उसके परिवार से माफी मांगी है और वे एक लम्बी आध्यात्मिक साधना में जा रहे हैं।

धर्माध्यक्ष हैरान

महाधर्माध्यक्ष ने प्रेस से कहा कि कार्डिनल रिकार्द के द्वारा सार्वजनिक रूप से स्वीकृति धर्माध्यक्षों को चौकानेवाली थी।  

उनके मामले में यौन शोषण के आरोपी फ्राँसीसी धर्माध्यक्षों की संख्या कुल ग्यारह हो गई है। इनमें क्रेतेइल के धर्माध्यक्ष मिशेल सनतीर शामिल हैं  जिन्हें परमधर्मपीठ ने "दो वयस्क पुरुषों के आध्यात्मिक दुर्व्यवहार" के लिए प्रतिबंधित किया था, हालांकि इस विहित प्रतिबंधों की खबर हाल के हफ्तों में ही सामने आई है।

यौन दुराचार पर आरोपी 11 धर्माध्यक्ष

महाधर्माध्यक्ष दी मोलाँ - बूफों के अनुसार, छह अन्य धर्माध्यक्षों, जिनमें से एक की मृत्यु हो चुकी है, पर पहले ही राज्य या कलीसिया की न्यायपालिका द्वारा यौन शोषण का आरोप लगाया जा चुका है। दो सेवानिवृत धर्माध्यक्षों पर फ्राँस के अधिकारियों द्वारा जाँच प्रक्रिया जारी है और वे भी कलीसिया की प्रक्रिया के निशाने पर हैं। अधिकारियों को एक और धर्माध्यक्ष की सूचना दी गई है, लेकिन अभियोजकों ने अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है, जबकि परमधर्मपीठ ने उन्हें अपने कर्तव्यों से निलंबित कर दिया है। अंततः, धर्माध्यक्ष आंद्रे फोर्ट को 2018 में आठ महीने की निलंबित जेल की सजा सुनाई गई थी।

सनतीर के मामले पर टिप्पणी करते हुए, फ्राँसीसी धर्माध्यक्षों के अध्यक्ष ने स्वीकार किया कि "हर स्तर पर गंभीर कमियाँ और शिथिलता" रही हैं।

सीआईएएससी रिपोर्ट

नवीनतम खुलासे धर्माध्यक्ष और धर्मसमाजियों द्वारा स्थापित एक स्वतंत्र आयोग द्वारा एक रिपोर्ट के प्रकाशन के ठीक एक साल बाद हुए हैं, जिसमें 1950 के दशक से अब तक कलीसिया के पुरोहितों, उपयाजकों और कलीसिया के सदस्यों द्वारा नाबालिगों के व्यापक दुरुपयोग की पुष्टि की गई थी।

2,500 पेज की रिपोर्ट को ढाई साल के शोध के बाद 4 अक्टूबर 2021 को जारी किया गया था जो प्रकट करता है कि 70 साल की अवधि में फ्राँस में करीब 3,30,000 लोग नाबालिग के रूप में कलीसिया के अंदर यौन दुराचार के शिकार हुए हैं।  

रिपोर्ट जारी किये जाने के बाद धर्माध्यक्षों ने ठोस कारर्वाई करने तथा कलीसिया में यौन दुराचार के संकट को दूर करने के उपायों में बदलाव लाने का संकल्प लिया।

फ्राँसीसी धर्माध्यक्षों का सम्मेलन मंगलवार को समाप्त हुआ जिसमें मुख्य रूप से पुरोहितों के ऐतिहासिक यौन दुराचार के अपराध के संबंध में संचार और पारदर्शिता को ध्यान केंद्रित करना।

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

09 November 2022, 16:50