खोज

नाइजीरिया के अबुजा में एक पुलिस अधिकारी जले हुए जेल वाहन के पास है नाइजीरिया के अबुजा में एक पुलिस अधिकारी जले हुए जेल वाहन के पास है  (AFP or licensors)

यूएन मानवअधिकार परिषद से नाइजीरियाई लोगों के अधिकारों के संरक्षण की अपील

जैसा कि नाइजीरिया में अशांति और उग्रवाद जारी है, अंतर्राष्ट्रीय काथलिक प्रवासन आयोग संयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार परिषद से सभी नाइजीरियाई लोगों के अधिकारों के संरक्षण की दिशा में काम करने की अपील करता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

नाईजीरिया, बुधवार 28 सितम्बर 2022 (वाटिकन न्यूज)  : नाइजीरिया में मानवाधिकार की स्थिति को लेकर गंभीर चिंता है। 26 सितंबर को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद की 51वीं बैठक को संबोधित करते हुए, अंतर्राष्ट्रीय काथलिक प्रवासन आयोग (आइसीएमसी) ने जोर देकर कहा कि "नाइजीरियाई लोग दु:खद रूप से अपने जीवन और संपत्ति को खो रहे हैं और हिंसा से बचने के लिए देश के कई क्षेत्रों में विस्थापित हो रहे हैं, वैश्विक समुदाय अब उदासीन दर्शकों के रूप में खड़ा नहीं हो सकता है।”

आयोग ने इस बात पर प्रकाश डाला कि "इस संकट के आयामों को हमारे सदस्य संगठनों और भागीदारों द्वारा स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय बहुपक्षीय एजेंसियों जैसे कि संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों के समन्वय के कार्यालय द्वारा सूचित किया गया है।"

कई संगठन

आइसीएमसी के बयान पर अन्य विश्वास-आधारित और अन्य नागरिक समाज संगठन, अंतरराष्ट्रीय कारितास, कारितास नाइजीरिया, संत पापा जॉन तेईस्वें का समुदाय, वीदेस, आईआईएमए, न्यू ह्यूमानिटी और वर्ल्ड एवांजेलिकल अल्लेयांस द्वारा सह-हस्ताक्षर किए गए।

संगठनों ने नाइजीरिया के काथलिक धर्माध्यक्षों की हाल की अपील, ... "हमारे देश में असुरक्षा की बिगड़ती स्थिति के साथ-साथ आतंकवादियों और विद्रोहियों, अपहरणकर्ताओं और डाकुओं की गतिविधियों को प्रतिध्वनित किया ... गिरजाघरों और अन्य पूजा स्थलों में यात्रियों और उपासकों पर हमले बहुत बार-बार हुए हैं ... हम नागरिक अधिकारियों से नाइजीरियाई लोगों के जीवन और संपत्ति की सुरक्षा हेतु उनकी संवैधानिक जिम्मेदारी के लिए खड़े होने का आह्वान करना जारी रखते हैं ..."

बयान का समापन हिंसा के मूल कारणों को याद करते हुए और नाइजीरियाई सरकार से देश में सभी लोगों की रक्षा करने की अपील करते हुए किया गया।

"हम नाइजीरिया की सरकार को ओएचसीएचआर और एचआरसी की विशेष प्रक्रियाओं के साथ अपने सहयोग को मजबूत करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, विशेष रूप से धर्म और विश्वास की स्वतंत्रता पर जनादेश के साथ और आईडीपी पर मानव अधिकारों की प्रभावी ढंग से रक्षा करने और आगे विस्थापन और जीवन के नुकसान को रोकने की अपील करते हैं।"

मोन्सिन्योर रॉबर्ट विटिलो

बयान के बारे में वाटिकन न्यूज से बात करते हुए, आईसीएमसी के महासचिव मोन्सिन्योर विटिलो ने कहा कि पूर्वोत्तर नाइजीरिया और साथ ही देश के अन्य हिस्सों में धार्मिक चरमपंथी हिंसा मौजूद है।

हालांकि, उन्होंने कहा, "इसमें से बहुत कुछ वास्तव में धार्मिक नहीं है, क्योंकि यह धर्म का झूठा हेरफेर है जो ये चरमपंथी लाते हैं। मोन्सिन्योर विटिलो ने कहा कि वे नाइजीरिया में हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों में कई धर्माध्यक्षों और अन्य धर्मप्रातीय अधिकारियों के संपर्क में रहे हैं।

उन जगहों पर कलीसिया के अधिकारी भी कारितास और आईसीएमसी के संपर्क में हैं, जो "प्रभावित धर्मप्रांतों को प्राथमिक सहायता प्रदान करेंगे, क्योंकि नाइजीरिया में दस लाख से अधिक लोग आंतरिक रूप से विस्थापित हो गए हैं।"

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

28 September 2022, 16:07