खोज

संत पापा फ्राँसिस क्वेबेक में संत पापा फ्राँसिस क्वेबेक में  (Vatican Media)

कनाडा में येसु समाजी: हम सभी को बेहतर करना चाहिए

साल्ट एन्ड लाइट मीडिया के सीईओ जेसुइट फादर एलन फोगार्टी ने कनाडा में येसु समाजियों के साथ संत पापा फ्राँसिस की बैठक में भाग लेने के बाद अपने विचार साझा किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

क्वेबेक, सोमवार 1 अगस्त 2022 (वाटिकन न्यूज) : जेसु समाजियों के साथ संत पापा फ्राँसिस की बैठक में भाग लेने के बाद, साल्ट एन्ड लाइट मीडिया के सीईओ, फादर एलन फोगार्टी, निजी बैठक को "शानदार" बताया। वाटिकन न्यूज के ग्रिसेल्डा म्युचुअल से बात करते हुए, जेसुइट पुरोहित ने उल्लेख किया कि "घर पर" संत पापा अपने "जेसुइट भाइयों" के साथ कैसा महसूस करते थे।

संत पापा: हम में से एक

संत पापा फ्राँसिस अपने भाईयों के साथ एक घेरे में बैठे थे और फादर फोगार्टी का कहना है कि बैठक बहुत ही आरामहायक और व्यक्तिगत थी।

फादर फोगार्टी कहते हैं, "आप बता सकते हैं कि जैसा कि उन्होंने विभिन्न बिंदुओं को प्रस्तुत किया और जैसा कि हमने प्रश्न पूछे थे, संत पापा जवाब देने में बहुत ही खुले और बहुत ईमानदार थे और हर चीज में, वह सिर्फ हम में से एक थे।"

कनाडा में संत पापा फ्राँसिस के साथ बिताए "महत्वपूर्ण" सप्ताह को देखते हुए, फादर फोगार्टी ने कहा कि किस तरह से संत पापा ने "हमें ऐसी छवियां दीं जिनसे हम जुड़ सकते थे और सोच सकते थे कि हम वास्तव में व्यक्तियों के रूप में कैसे जुड़ सकते हैं।"

उनके सबसे सुसंगत बिंदुओं में से एक यह था कि प्रत्येक व्यक्ति, मूलवासी और गैर-मूलवासी, सभी को एक साथ काम करना होगा और सभी को एक साथ काम करने का फैसला करना चाहिए।

फादर फोगार्टी ने कहा, "यह सिर्फ कनाडा नहीं है, लेकिन दुनिया भर में क्योंकि उपनिवेशवाद और उपनिवेशवाद और मूलवासी हर जगह हैं।"

पूर्ण संतुलन प्राप्त करना

फादर फोगार्टी ने अपनी आशा व्यक्त की कि संत पापा फ्राँसिस के प्रेरितिक यात्रा से रोम में वापस आने के बाद इस यात्रा से "वास्तव में व्यावहारिक चीजें" आ सकती हैं।

उन्हें उम्मीद है कि एक प्रतिक्रिया के रूप में लोग यह कहना शुरू कर देंगे कि "मैं अब खुद को बदलने जा रहा हूँ"।

क्यों? "क्योंकि मैं समझता हूँ कि क्या हो रहा है। मैं उन लोगों को समझता हूँ जो आहत हैं। मैं उन लोगों को समझता हूँ जो आवासीय विद्यालयों का हिस्सा हैं, साथ ही कलीसिया के दृष्टिकोण को भी समझते हैं, जो बचे हुए मूलवासियों और कलीसिया की स्थिति के बीच संतुलन बनाने की कोशिश करते हैं।"

येसु यहाँ है

फादर फोगार्टी आगे कहते हैं, "उनके लिए यहां आना एक वास्तविक प्रयास था क्योंकि जैसा कि हम उन्हें अपने घुटने की तकलीफ से जूझते हुए देखते हैं, वे कलसिया के प्रति प्रेम दिखाना चाहते थे।"

संत पापा यह दिखाना चाहते थे कि "आगे भी तय करना का रास्ता है।"

फादर फोगार्टी उन प्रवचनों में से एक का उदाहरण देते हैं जिसमें संत पापा ने कहा था कि "हम यह नहीं देखते हैं कि येसु हमारे साथ चल रहे हैं और एक पल आश्चर्य रूप में आता है और हम उन्हें रोटी तोड़ते समय पहचानते हैं।"

फादर फोगार्टी अपनी आशा व्यक्त करते हैं कि हमारे पास भी "वह क्षण होगा जहां हम रोटी चोड़ते हुए येसु को पहचान पायेंगे और कह सकेंगे कि हाँ, येस हमारे बीच यहाँ हैं।"

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

01 August 2022, 15:49