खोज

गिरजाघर में  हुए हमले  में घायल हुए लोग अस्पताल में भर्ती हैं गिरजाघर में हुए हमले में घायल हुए लोग अस्पताल में भर्ती हैं  (ANSA)

नाइजीरिया धर्माध्यक्ष ने प्रार्थना की कि मसीह का प्रकाश अंधकार में चमके

ओन्डो के धर्माध्यक्ष जूड अरोगुंडेड ने धर्मप्रांत के विश्वासियों के लिए प्रार्थना की, जहां रविवार को एक भीषण हमले में नाइजीरिया के ओन्डो राज्य के ओवो में संत फ्रांसिस जेवियर गिरजाघऱ में दर्जनों विश्वासी मारे गए थे। अभी भी कई लोग इस भयावह खबर के सदमे से जूझ रहे हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

ओन्डो, बुधवार 08 जून 2022 (वाटिकन न्यूज) : ओंडो राज्य के ओवो स्थित संत फ्रांसिस जेवियर पल्ली में पेन्तेकोस्त रविवार को पवित्र मिस्सा समारोह के दौरान अज्ञात हथियारबंद लोगों ने धावा बोल दिया। बच्चों सहित कम से कम 50 विश्वासियों को गोली मार दी और कई अन्य को घायल कर दिया और एक भयानक दृश्य पीछे छोड़ गये। कई रिपोर्टों के अनुसार, बंदूकधारियों ने हमले में विस्फोट भी किया था।इस घातक घटना की नागर और धार्मिक अधिकारियों ने निंदा की है और संत पापा फ्राँसिस ने सोमवार को ओन्डो धर्मप्रांत के धर्माध्यक्ष और विश्वासियों को एक तार भेजा, जिसमें उन्होंने हमले के लिए अपना दुख व्यक्त किया और "अकथनीय कृत्य" से प्रभावित लोगों को अपनी आध्यात्मिक निकटता से आश्वस्त किया।"

वाटिकन न्यूज के साथ एक साक्षात्कार में, ओन्डो के धर्माध्यक्ष जूड अरोगुंडेड ने अपने धर्मप्रांत की पल्ली वासियों के इस कठिन समय के बारे में बात की और बताया कि कैसे विश्वासी रविवार के हमले के सदमे, दर्द और दुख से उबरने की कोशिश कर रहे हैं।

सदमा और दहशत

रविवार के हमले की खबर मिलने पर अपनी प्रतिक्रिया का वर्णन करते हुए धर्माध्यक्ष अरोगुंडेड कहते हैं, "मेरी पहली भावना पूर्ण अविश्वास थी ... एक इंसान ऐसा कैसे कर सकता है? यह कहां से आ रहा है?"

वे यह समझ नहीं पा रहे थे कि कोई मारने के इरादे से कैसे एक पवित्र स्थान में, गिरजाघऱ में जा सकता है।  

वे बताते हैं कि उसने तुरंत सुरक्षा कर्मियों और किसी भी प्रभावशाली व्यक्ति को फोन करना शुरू कर दिया, जिसे वह जानता था कि स्थिति में कौन मदद कर सकता है। हालांकि, सदमे और अराजकता के बीच, उन्होंने प्रभु से मदद लेना नहीं भूला: "मैं अपने प्रभु येसु मसीह को थामे हुए, पवित्र संस्कार के संदूक के सामने चला गया।"

 घायल अस्पताल में भर्ती

वर्तमान स्थिति के बारे में बताते हुए, धर्माध्यक्ष अरोगुंडेड कहते हैं कि अभी भी कई घायल लोग हैं जो हमले के बाद अस्पताल में भर्ती हुए हैं।

वे बताते हैं कि कई लोगों को अभी भी चिकित्सा देखभाल, गोली निकालने और एक्स-रे की आवश्यकता है ताकि यह पता लगाया जा सके कि उन्हें किस प्रकार की चोटें लगी हैं। मामूली चोटों वाले कुछ लोगों को छुट्टी दे दी गई है लेकिन अफसोस की बात है कि कुछ की सर्जिकल ऑपरेशन के दौरान मौत भी हुई है। कुल मिलाकर, हमले के लगभग 80-90 पीड़ितों की स्थिति स्थिर है।

वे हमले में मारे गए कई लोगों माता-पिता, बच्चे, पूरा परिवार के लिए शोक व्यक्त करते हैं। जिनमें धर्मप्रांत के एक सेमिनरियन के माता-पिता दोनों शामिल हैं।

 संत पापा की निकटता

धर्माध्यक्ष अरोगुंडेड घातक हमले के मद्देनजर नागरिक और धार्मिक दोनों क्षेत्रों से निकटता के संदेशों का स्वागत करते हैं।

वे विशेष रूप से टेलीग्राम और सांत्वना भरे शब्दों के लिए संत पापा फ्राँसिस के प्रति आभार व्यक्त किया और कहा कि वे जल्द ही अपने धर्मप्रांत में त्रासदी की पूरी रिपोर्ट वाटिकन भेजेंगे।

धर्माध्यक्ष ने गौर किया कि कलीसिया के इतिहास में ऐसी घटनायें नई नहीं हैं, फिर भी कलीसिया ने अपने अच्छे कार्यों को दूर नहीं होने दिया है।

इन दिनों, धर्माध्यक्ष पीड़ितों के परिवारों और हमले में अपने प्रियजनों को खोने वालों तक पहुंच रहे है, सांत्वना प्रदान कर रहे हैं। हर तरह से मदद करने के प्रयासों में भली इच्छा रखने वाले लोग भी उनकी मदद करते रहे हैं।

उन्होंने कहा, "दुख और पीड़ा का सामना करते हुए, हमारे लोग विश्वास में दृढ़ हैं।" दारुण स्थिति के बावजूद, वे अभी भी ईश्वर को पुकार रहे हैं। कुछ लोगों का कहना है कि यह ईश्वर की दया है, नहीं तो और भी बुरा हो सकता था। ”

अंधकार के बीच आशा

जैसा कि नाइजीरिया में कलीसिया इन कठिन समय से उबरने के लिए संघर्ष कर रही है, धर्माध्यक्ष अरोगुंडेड ने राष्ट्र को और ओन्डो धर्मप्रांत के विश्वासियों को एक संदेश दिया।

"हम इस पर काबू पा लेंगे। यह एक कठिन समय है। पर यह भी बीत जाएगा और हमारे पास एक मजबूत कलीसिया, एक बेहतर कलीसिया, एक अधिक सुंदर कलीसिया होगी जिस पर दुनिया गर्व कर सकती है।"

इस संबंध में, वे अपने धर्माध्यक्षीय आदर्श वाक्य से सांत्वना प्राप्त करते हैं: "प्रभु मेरा प्रकाश और मेरा सहायक है,"  उनका दृढ़ विश्वास है कि प्रभु अपने लोगों की सहायता के लिए आएंगे।

 

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

08 June 2022, 16:04