खोज

संत पापा फ्राँसिस पवित्र भूमि के संरक्षक फ्राँचेस्को पाटोन से मुलाकात करते हुए संत पापा फ्राँसिस पवित्र भूमि के संरक्षक फ्राँचेस्को पाटोन से मुलाकात करते हुए  (ANSA)

पवित्र भूमि वह जगह है जहाँ ख्रीस्तीय ठोस एकता में रहते हैं, फादर पाटोन

पवित्र भूमि के संरक्षक, फादर फ्रांचेस्को पाटोन, पवित्र भूमि के पत्रकारों और संत पापा के साथ हुई मुलाकात के बारे में वर्णन करते है, और पुष्टि करते हैं कि विभिन्न संप्रदायों के स्थानीय ख्रीस्तीय ठोस एकता में रहना चाहते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 19 जनवरी 2022 (वाटिकन न्यूज) : "मैं यह कहने का साहस करूंगा कि पवित्र भूमि वह स्थान है जहां ख्रीस्तीय समुदाय एकता के सबसे करीब हैं। मैं कहूंगा कि पवित्र भूमि में हम ख्रीस्तीय एकता के सिद्धांत के बारे में कम बोलते हैं और एकता का अभ्यास अधिक करते हैं।" उक्त बात संत पापा फ्राँसिस के साथ हुई बैठक के तुरंत बाद, पवित्र भूमि के संरक्षक फ्रांसिस्कन फादर पाटोन वाटिकन न्यूज के अलेसांद्रो दी बुसोलो के साथ हुए एक साक्षात्कार में कही।

फादर फ्रांचेस्को पाटोन, ओएफएम ने ख्रीस्तीय एकता के लिए प्रार्थना सप्ताह की शुरुआत में येसु की भूमि में ख्रीस्तियों के जीवन के आकलन की पेशकश की।

प्रभु प्रकाश/क्रिसमस पर एकता का ठोस संकेत

सोमवार को, संत पापा ने पवित्र भूमि पत्रिका के पत्रकारों से कहा कि उन्होंने पहली बार देखा है कि ख्रीस्तीय "पवित्र भूमि में पहले से ही एकता के करीब हैं।"

फादर पाटोन ने इस एकता के एक ठोस उदाहरण के रूप में 6 जनवरी की पेशकश की, क्योंकि काथलिक उस दिन प्रभु प्रकाश का पर्व मनाते हैं जबकि पूर्वी कलीसिया क्रिसमस का महोत्सव शुरु करती हैं।

"उस दिन, व्यावहारिक रूप से पूर्व और पश्चिम के सभी ख्रीस्तीय उस चरनी के चारों ओर मिलते हैं जहाँ माँ मरिया ने बालक येसु को रखा था। ऐसे लोग हैं जो प्रभु प्रकाश का पर्व मनाते हैं और जो क्रिसमस मनाना शुरू करते हैं: लोगों को यह समझने के लिए कभी-कभी उस छवि को दिखाना अच्छा होगा, जहाँ स्पष्ट भ्रम के बीच भी, उस ग्रोटो में एक तरह की ख्रीस्तीय एकता है। ”

बच्चों को युद्ध के आघात से बाहर निकालना

फादर फ्रांचेस्को पाटोन ने यह भी याद किया कि संत पापा फ्राँसिस ने पत्रकारों को इब्राहीम के बच्चों के बीच भाईचारे की कहानी बताने के लिए प्रोत्साहित किया था। फादर पाटोन ने कहा कि मुसलमानों की मदद से मध्य पूर्व में एक साथ काम करने वाले ख्रीस्तियों का एक और उदाहरण सीरिया में पाया जा सकता है।

फादर पाटोन के अनुसार, अलेप्पो में लड़ाई के बाद, कई बच्चों को पिता के बिना छोड़ दिया गया था और इसलिए, राज्य में उनका पंजीकृत नहीं किया जा सका। उन्होंने कहा कि स्थानीय फ्रांसिस्कन पल्ली ने धर्माध्यक्ष और स्थानीय मुस्लिम मुफ्ती शेख महमूद अक्कम के साथ काम किया, ताकि "इन बच्चों को एक नाम और भविष्य दिया जा सके।हम बच्चों और युवाओं को कई वर्षों तक चल रहे युद्ध के कारण हुए आघात से उबरने में मदद करने के लिए एक परियोजना शुरु कर पाये। ये सभी भाईचारे के संकेत हैं जो व्यक्ति की भलाई के नाम पर संभव हो पाया।”

येसु की मातृभूमि की तीर्थयात्रा

साक्षात्कार के अंत में फादर पाटोन ने आशा व्यक्त की कि तीर्थयात्री जल्द ही अधिक संख्या में पवित्र भूमि की यात्रा करने में सक्षम होंगे। उन्होंने कहा कि येसु की भूमि की तीर्थयात्रा "विश्वास में परिपक्व" होने का एक महत्वपूर्ण तरीका है, "उन स्थानों के संपर्क में आने से जहां ईश्वर का वचन प्रकट हुआ था, जहां उन्होंने देह धारण किया और हमारे उद्धार के लिए, हमारे लिए अपना जीवन दिया।"

Thank you for reading our article. You can keep up-to-date by subscribing to our daily newsletter. Just click here

19 January 2022, 15:29