खोज

कहानी
Vatican News

‘लौदातो सी’ से प्रेरित है रोस्सानो उद्यान

इटली स्थित कालाब्रिया की खूबसूरत भूमि एतिहासिक रुप में समृद्ध है, लेकिन प्रदूषण के कई रूपों से भी प्रभावित है। कुछ अगुस्टीनियन धर्महनों ने एक परियोजना शुरू की है जिसका उद्देश्य इन समस्याओं का समाधान करना और आशा और परिवर्तन का बीज डालना है। कॉन्वेंट की सुपीरियर का कहना है कि उद्यान जीवन में आवश्यक चीजों के साथ फिर से जुड़ने में मदद करता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कालाब्रिया, बुधवार 24 नवम्बर 2021 (वाटिकन सिटी) : रोस्सानो उद्यान की कल्पना करते सिस्टर मारिया लूसिया की आंखें भी चमक उठती हैं जो जल्द ही दक्षिणी इटली, कालाब्रिया प्रांत के रोस्सानो में संत अगुस्टीन कॉन्वेंट के आसपास बनाया गया है। यहाँ हर प्रजाति और आकार के कई छायादार पेड़ लगाये गये हैं। यह क्षेत्र विशिष्ट जैव विविधता के लिए चुना गया है, जो आयोनियन सागर और सिला ग्रीका पहाड़ों के बीच स्थित है। यह क्षेत्र रंग बिरंगे विभिन्न तरह के फूलों से भरा होगा, जहां तितलियां बिना रुके नृत्य कर सकेंगी, अद्वितीय सुगंध की सराहना की जाएगी और इस पृष्ठभूमि में गायन करने वाले पक्षियों के साथ एक हजार विभिन्न आकृतियों की झाड़ियां क्षेत्र को सुशोभित करेंगी। यह उद्यान धरती पर एक स्वर्ग जैसा है, जैसा कि समय की शुरुआत में सृष्टि में प्रस्तुत किया गया था, जो हर आगंतुक में सृष्टि की देखभाल के लिए जागरुक कर सकता है। इसका उद्देश्य विश्राम, प्रार्थना, संवाद के लिए स्थान प्रदान करना भी है, एक ऐसी जगह जहां आप भाईचारे और समावेश की ऑक्सीजन की सांस ले सकते हैं, साथ ही विकलांग लोगों के लिए भी उद्यान में धूमने के लिए व्यापक रास्ते होंगे।

ऊपर से लिया गया रोस्सानो मठ का एक दृश्य जिसके चारों ओर उद्यान होगा
ऊपर से लिया गया रोस्सानो मठ का एक दृश्य जिसके चारों ओर उद्यान होगा

दक्षिणी इटली में मठवासी धर्मबहनों का पहला मठ

रोस्सानो उद्यान पार्क परियोजना संत पापा फ्राँसिस के विश्वपत्र लौदातो सी से प्रेरणा ला गई है। यह पहल बहुत पहले शुरू हुई थी, लेकिन केवल इस वर्ष चल रहे धन उगाहने के प्रयास और कई प्रायोजक संगठनों की मदद के कारण संभव हो पाया है। सिस्टर लूसिया का कहना है कि यह अंततः अप्रैल 2022 में आगंतुकों के लिए खुल जाएगा। जब अगुस्टीनियन धर्मबहनें सिएना की पहाड़ियों के लेच्चेतो मठालय से यहां पहुंचीं, तो शुरु में यहाँ मीलों कुछ भी नहीं था, यहां तक कि दो साल पहले वर्नाइल मैदान में कॉन्वेंट का उद्घाटन भी नहीं किया गया था।  दक्षिणी इटली में मठवासी धर्मबहनों का पहला मठ। सभी धर्मबहनें इस क्षेत्र की अपार संभावनाओं को महसूस करती हैं, जो जीवन की अनिवार्यताओं के साथ फिर से जुड़ने के लिए एक आदर्श स्थान है।

 रोस्सानो मठ का प्रवेश द्वार
रोस्सानो मठ का प्रवेश द्वार

फादर विटोरिनो का अंतर्ज्ञान

रोस्सानो के अगुस्टीन मठ की सिस्टर मारिया लूसिया सोलेरा कहती हैं, "यह संत अगुस्टीन के एक महान विद्वान, फादर विटोरिनो ग्रॉसी, हमारे ससुदायों में से एक थे, जो 2016 में हमसे मिलने आए थे। उस समय हम एक अस्थायी भवन पर रहते थे, हम उन्हें उस स्थान को दिखाने ले गए जहां कॉन्वेंट बनाया जाना था। फादर विटोरिनो ने आश्चर्य से चारों ओर देखा और कहा: “ओह, यहाँ पेड़ और फूलों से भरा बगीचा होना कितना सुंदर होगा। एक पल में उन्होंने हमें वह चिंतनशील टकटकी दी जिसके द्वारा हमने वास्तविकता की सतह से परे देखना शुरु किया। जिसका उद्देश्य विकास, सुंदरता और अच्छाई की क्षमता है जिसका आनंद हर इंसान को लेना चाहिए। फादर विटोरिनो ने हमें सपने देखना शुरू करने में मदद की।

 रोस्सानो के वर्तमान उदयान का एक दृश्य
रोस्सानो के वर्तमान उदयान का एक दृश्य

मठवासी परंपरा के अनुरूप ईश्वर की एक योजना

सिस्टर लूसिया ने आगे कहा, "अन्य बातों के अलावा, कुछ ही समय बाद, हमें समुदाय के एक अन्य मित्र, रोम के एक कृषि वैज्ञानिक से मुलाकात हुई, वे सिला में कुछ अद्वितीय वनस्पति प्रजातियों का अध्ययन करने आए थे। उसने जब इस जगह को देखा, तो उसे तुरंत इस जगह प्यार हो गया, और उसने कहा, “यहाँ एक बगीचा वास्तव में अच्छा होगा!, लेकिन सिर्फ कोई बगीचा ही नहीं, बल्कि एक ऐसा बगीचा जो पेड़ों और पौधों के दुर्लभ और कीमती नमूनों की मेजबानी करेगा।” उस समय हम ऐसा नहीं कर सकते थे। हालाँकि यह बड़ा प्रोजेक्ट लग रहा था, हमने इस पर ठोस रूप से काम करना शुरू कर दिया। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि मठवासी परंपरा की कुछ विशेषता है: सदियों से इटली और अन्य जगहों पर कई मठों की स्थापना इसी तरह से की गई है। उन स्थानों की पहचान की गई जो अस्वस्थ और शुष्क थे, कांटों और झाड़ियों से भरे हुए थे या यहाँ तक कि कुछ स्थान दलदल भी थे। फिर धर्मबहनों के कठिन परिश्रम ने इस स्थान को हरा-भरा बना दिया, वहाँ जीवन वापस आ गया, यहां तक ​​कि उन्हें कियारावाल्ली कहा जाने लगा।

सिस्टर मरिया लूसिया समुदाय की अन्य धर्मबहनों के साथ
सिस्टर मरिया लूसिया समुदाय की अन्य धर्मबहनों के साथ

परियोजना के लिए सिनॉडल आयाम

सिस्टर लूसिया इस बात पर जोर देना चाहती हैं कि गार्डन की परियोजना के पीछे, जिस पर ग्रीनअकॉर्ड द्वारा आयोजित "सृष्टि की सुरक्षा के लिए काथलिक सूचना का मंच" में भी चर्चा की गई थी, जिसमें धर्मबहनें, विशेषज्ञ और काफी लोग योजना में शामिल हुए। विकास ने एक "सिनॉडल आयाम" लिया। हमें अपने लोगों से कई सुझाव, संकेत, विचार प्राप्त हुए और मेरा मानना ​​है कि इस व्यापक सुनने की प्रक्रिया ने एक अंतर बनाया। इसके अलावा, यह सब विशेष रूप से महामारी द्वारा चिह्नित एक अंधेरे अवधि के बाद हमारे लिए महत्वपूर्ण है, जिसने हमें ज्यादातर बंद, तंग, अलग-थलग स्थानों में रखा था ... मैं कह सकती हूँ कि संत पापा फ्राँसिस के विश्वपत्र 'लौदातो सी' को पढ़ने से हमें न केवल प्रेरणा मिली, बल्कि हम जो कर रहे थे उसकी पुष्टि भी हुई।"

पहले अपनी आंतरिकता को विकसित करना

सिस्टर लूसिया याद करती हैं, "विश्वपत्र में एक परिच्छेद है जिसमें संत पापा हमें बाहरी स्थानों को विकसित करने के लिए आमंत्रित करते हैं, हालांकि, वे आंतरिक वास्तविकता का उल्लेख करते हैं। जैसा कि संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने भी कहा: 'यदि बाहर में रेगिस्तान बढ़ रहा है, तो यह इसलिए है क्योंकि आंतरिक रेगिस्तान का विस्तार हो रहा है और इसलिए, अगुस्टीनियन धर्मबहनों के रूप में, हम आंतरिकता के पहलू के प्रति चौकस हैं। संत अगुस्टीन कहते हैं, 'दिल की ओर लौटना' - लेकिन 'समुदाय' में भी, यानी दिल और आत्मा के साथ एकता में रहते हुए ईश्वर तक पहुंचना। हमने सोचा कि इन दो तत्वों का एक आदर्श संश्लेषण उद्यान, एक बहुत ही सुखद संकेत था । इसलिए, जैसा कि विश्वपत्र में कहा गया है, हमने सबसे पहले ध्यान दिया है कि बाहरी स्थानों को विकसित करने से पहले अपनी आंतरिकता पर ध्यान दिया जाए और फिर यहाँ से मानवीय संबंधों को विकसित करने की आवश्यकता है, ताकि वे भी एक उद्यान बन सकें।"

एक धर्मबहन उद्यान में काम कर रही है
एक धर्मबहन उद्यान में काम कर रही है

लौदातो सी द्वारा 'जिम्मेदारी की मांग'

सिस्टर लूसिया जिम्मेदारी की महान भावना पर भी जोर देते हुए कहती हैं, "हम खुद को एक मनोरम व सुंदरता के बीच पाते हैं और हमपर इसकी देखभाल करने जिम्मेदारी हैं। कालाब्रिया के उत्तर पूर्व क्षेत्र में वर्षों से लोग इस स्थान को छोड़ दूसरी ओर पलायन कर रहे हैं। विशेष कर हाई स्कूल खत्म करने के बाद, कई युवा इस भूमि को छोड़ उत्तरी इटली के लिए प्रस्थान करते हैं, इसलिए हमने सोचा कि 'कला का एक काम' एक ऐसा उद्यान बनाना अच्छा होगा, एक ऐसा संकेत, जो इन युवा लोगों को कहता है : “देखो, तुम ऐसी भूमि में रहते हो जिसका एक सुंदर भविष्य है, रेगिस्तान में यह कभी वापस नहीं जाएगा। केवल आप इसे प्यार करना और इसकी देखभाल करना जानें।”

कॉन्वेंट से आयोनियन सागर और सिला पहाड़ों का दृश्य
कॉन्वेंट से आयोनियन सागर और सिला पहाड़ों का दृश्य

अपने तरीके से सामान्य घर की देखभाल

सिस्टर लूसिया फिर से रेखांकित करती है कि "हमने इस क्षेत्र के लिए अपने तरीके से अपनी जिम्मेदारी को महसूस किया है, जैसा कि संत पापा लौदातो सी में कहते हैं, समाज और दुनिया में प्रत्येक को अपनी क्षमता और भूमिका के अनुसार चीजों को बदलने के लिए लगातार कार्य करना चाहिए। जब भी संत पापा फ्राँसिस हमारे सामान्य घर की देखभाल के बारे में बोलते हैं, तो हमें याद दिलाते हैं कि सब कुछ कैसे आपस में जुड़े हुए हैं। संत पापा हमेशा हमें एक साथ रहने के लिए प्रेरित करते हैं! संत पापा के सझाव अनुसार वास्तव में यह उद्यान पार्क 'पारिस्थितिक संतुलन के विभिन्न स्तरों को बहाल करने के लिए, अपने भीतर, दूसरों के साथ, प्रकृति और अन्य जीवित प्राणियों के साथ और ईश्वर के साथ सद्भाव स्थापित करने में मददगार हो सकता है।

उद्यान में प्रार्थना करती धर्मबहनें
उद्यान में प्रार्थना करती धर्मबहनें

आशा और परिवर्तन के बीज

संत अगुस्टीन कान्वेंट में उद्यान पार्क के विचार को वास्तविकता बनाने के लिए, इस परियोजना में शामिल हैं: पेड़ों की कई किस्मों की खरीद और पेड़ लगाना, जलवायु अनुसार देशी वनस्पतियों का सावधानीपूर्वक चयन, पार्क के बीच सड़कें और मुख्य मार्ग से संत अगुस्टीन कान्वेंट तक पहुँचने के लिए रास्ते का निर्माण, शैक्षिक और वैज्ञानिक उद्देश्यों के लिए वनस्पति प्रजातियों के नाम के संकेत और कॉन्वेंट के लिए मेहमानों और तीर्थयात्रियों के स्वागत हेतु मकानों का निर्माण।

कागज पर रोस्सानो गार्डन पार्क परियोजना
कागज पर रोस्सानो गार्डन पार्क परियोजना

इस परियोजना के लिए दस प्रायोजक संगठन हैं: रोस्सानो-कारियाटी महाधर्मप्रांत, कोरिग्लिआनो-रोस्सानो की नगर पालिका, कोडेक्स का धर्मप्रांतीय संग्रहालय, सिला और पोलिनो नेशनल पार्क, इटालियन बोटानिकल सोसाइटी, यूनिकल का डिबेस्ट डिपार्टमेंट, पत्रकारों का ग्रीनएकॉर्ड संघ, इटली के अगुस्टीनियन मठों का संघ, संत अगुस्टीन धर्मसंघ। लेकिन कोई भी www.osarossano.it पर ऑनलाइन दान देकर अपनी भूमिका निभा सकता है। बदले में, उसका नाम कृतज्ञता के पेड़ पर लिखा जाएगा जिसे बगीचे के बीच में रखा जाएगा। इस तरह, कालाब्रिया के केंद्र में, अगुस्टीनियन धर्मबहनों की परियोजना का लक्ष्य आशा और परिवर्तन का बीज बनना है!

रोस्सानो की धर्मबहनें
रोस्सानो की धर्मबहनें

 

 

24 November 2021, 16:26