खोज

Vatican News
दीवार पर टंगा एक क्रूस दीवार पर टंगा एक क्रूस 

कैमरून में एक पुरोहित का अपहरण

कैमरून के ममफे धर्मप्रांत के पुरोहित जुलियुस अगबोरतोको का अपहरण कथित अलगाववादी लड़ाकुओं ने किया है। कलीसिया के धर्मगुरूओं के अनुसार अपहरणकर्ता उनकी रिहाई के लिए तर्कहीन फिरौती की मांग कर रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

कैमरून, मंगलवार, 31 अगस्त 2021 (वीएनएस)- मोनसिन्योर जुलियस अगबोरतोको ममफे धर्मप्रांत के विकर जेनेरल हैं और वे कैमरून में अपहरणकर्ताओं के नवीनतम शिकार हुए हैं।

ममफे धर्मप्रांत के कुलपति फादर सेबास्टाईन सिंजु ने एक बयान में कहा कि मोनसिन्योर का अपहरण कोकोबुमा से लौटते समय हुआ जहाँ वे प्रेरितिक दौरे एवं पल्ली के पुरोहितों से मुलाकात करने गये हुए थे।

रविवार 29 अगस्त को जारी एक बयान में उन्होंने कहा, "मैं बहुत भारी दिल से मोन्सिन्योर जुलियस अगबोरतोको के आकस्मिक अपहरण की खबर लाता हूँ।"

खतरनाक दुर्घटना

बयान के अनुसार मोन्सिन्योर जुलियस रविवार को शाम 6.00 बजे से ठीक पहले चले गये। लगभग आधे घंटे बाद, कुछ युवक जिन्होंने "अलगाववादी लड़ाकों के रूप में अपनी पहचान बतलायी" मेजर सेमिनरी के परिसर में प्रवेश किया और धर्माध्यक्ष लिसिंग के निवास की ओर बढ़े। उन्होंने वहाँ विकर जेनेरल को पाया जिनको उन्होंने उनका सहायक एवं सेवानिवृत धर्माध्यक्ष से अधिक मजबूत माना और उनका अपहरण कर लिया।  

अपहरणकर्ता इस समय फिरौती की राशि के रूप में 20 मिलियन फ़्रैंक सीएफए की मांग कर रहे हैं।  

फादर सिंजु ने कहा, "मैं आप सभी से एक परिवार की भावना का आह्वान करता हूँ और उनकी सुरक्षा एवं उनकी रिहाई के लिए ईश्वर से प्रार्थना की अपील करता हूँ।"

कैमरून में संकट

अगबोरतोको में अपहरण का यह मामला अंग्रेजी भाषी क्षेत्रों में कैमरून के अलगाववादी आंदोलनों में अपहरण और हमलों की उस श्रृंखला में शामिल हो गया, जो 2017 में सशस्त्र संघर्ष में बदल गया था।

यह अपहरण ममफे धर्मप्रांत में फादर ख्रीस्टोफर एबोका के अपहरण की घटना के तीन माह बाद आया है जिन्हें अपहरण के नौ दिनों बाद रिहा कर दिया गया था।

यूएन के अनुसार कैमरून में लड़ाकुओं के द्वारा हजारों मौतें हुई हैं एवं करीब 7,00,000 लोग अपनी जान बचाने के लिए दूसरे देशों में विस्थापित हुए हैं जिसमें नाईजीरिया भी शामिल है।  

31 August 2021, 16:12