खोज

Vatican News
जर्मनी के म्यून्स्टआईफेल में बाढ़ की तबाही का दृश्य, तस्वीर 19.07.2021 जर्मनी के म्यून्स्टआईफेल में बाढ़ की तबाही का दृश्य, तस्वीर 19.07.2021  

जर्मनी के बाढ़ पीड़ितों हेतु आखन में एकतावर्द्धक प्रार्थना सभा

जर्मनी के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की बेवसाईट पर प्रकाशित किया गया कि आखन शहर के काथलिक महागिरजाघर में, आगामी 28 अगस्त को, जुलाई माह में प्राकृतिक प्रकोप के शिकार हुए लोगों के लिये, एक एकतावर्द्धक ख्रीस्तीय प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

जर्मनी, आखन, शुक्रवार, 13 अगस्त 2021 (रेई,वाटिकन रेडियो): जर्मनी के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की बेवसाईट पर प्रकाशित किया गया कि आखन शहर के काथलिक महागिरजाघर में, आगामी 28 अगस्त को, जुलाई माह में प्राकृतिक प्रकोप के शिकार हुए लोगों के लिये, एक एकतावर्द्धक ख्रीस्तीय प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया है।

सदी की बाढ़

जुलाई माह की भारी वर्षा एवं भीषण बाढ़ से देश गंभीर रूप से प्रभावित हुआ है, विशेष रूप से, नॉर्थ राइन-वेस्टफेलिया और राइनलैंड-पैलेटिनेट में कम से कम 100 लोगों के प्राण चले गये हैं, यहाँ तक कि इस बाढ़ को "सदी की बाढ़" कहा जा रहा है। सर्वाधिक प्रभावित शहरों में आखन सहित कोलोन एवं डुसलडोर्फ तथा आस पड़ोस के गाँव शामिल हैं।

जर्मन काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की वेब साईट पर बताया गया कि यह निर्णय जर्मनी के काथलिक, एवेन्जेलिकल एवं प्रॉटेस्टेण्ट कलीसियाओं ने संयुक्त रूप से लिया है।

प्रार्थना में होंगे सभी शामिल

प्रार्थना सभा की अध्यक्षता जर्मन काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष धर्माध्यक्ष गेओर्ग बेटसिंग, जर्मनी में एवेन्जेलिकल कलीसियाई संघ के अध्यक्ष हाईनरिख बेडफ्रोर्ड स्ट्रोम तथा ख्रीस्तीय कलीसियाओं के संघ के अध्यक्ष राडू कॉस्टानटीन संयुक्त रूप से करेंगे।

प्रार्थना सभा के उपरान्त जर्मनी के राष्ट्रपति फ्राँस वॉल्टर स्टाइनमायर सभा को सम्बोधित करेंगे।  ख्रीस्तीय धर्म के अलावा कुछ अन्य धर्मों के प्रतिनिधि तथा बाढ़ पीड़ितों के परिजन भी इस सभा में शामिल होंगे। इनके अतिरिक्त, लोकोपकारी राहत कर्मी तथा संघीय एवं प्रान्तीय प्रशासनाधिकारी भी प्रार्थना सभा में भाग लेंगे। जुलाई माह की बाढ़ से प्रभावित पड़ोसी देश बैलजियम, हॉलेण्ड तथा लक्सुमबुर्ग के प्रतिनिधियों को भी प्रार्थना सभा में आमंत्रित किया गया है।

ग़ौरतलब है कि जुलाई 15 को एक तार सन्देश में सन्त पापा फ्राँसिस ने बाढ़ से प्रभावित उक्त  देशों के लोगों के प्रति गहन संवेदनाएँ व्यक्त कर उन्हें प्रार्थनाओं में याद करने का आश्वासन दिया था।   

13 August 2021, 11:08