खोज

Vatican News
माली के बामाको शहर की ओर देखता एक बालक माली के बामाको शहर की ओर देखता एक बालक  (AFP or licensors)

माली में अपहृत फादर दूयोन रिहा हुए

माली की काथलिक कलीसिया में कई पुरोहितों एवं धर्मसमाजियों का अपहरण हो चुका है। फादर पियरलुइगी मैकाल्ली, जो अफ्रीकी मिशन सोसाइटी के मिशनरी हैं, उन्हें 2018 में नाइजर से अपहरण कर लिया गया था और अक्टूबर 2020 में माली में रिहा कर दिया गया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

माली, बृहस्पतिवार, 15 जुलाई 2021 (वीएनएस)- "हमारे भाई लेओन दूयोन हमसे दूर हो गये थे। आज दोपहर को वे हमारे बीच वापस आ गये हैं और हम अत्यन्त खुश हैं।" इन्ही शब्दों से माली के धर्माध्यक्ष जॉ बपतिस्ते तियामा ने 13 जुलाई को काथलिक फादर लेओन दूयोन के रिहा होने की जानकारी दी। उनका अपहरण 21 जून को चार अन्य विश्वासियों के साथ हथियारबंद लोगों के एक दल के द्वारा हुआ था।

जून में अपहरण

उनका अपहरण सेग्वे से सान जाने के रास्ते पर हुआ था जब वे एक दफन क्रिया में भाग लेने जा रहे थे। उनके पल्ली वासियों को कुछ घंटे बाद रिहा कर दिया गया था जबकि फादर दूयोन को रिहा होने में करीब एक महीना लग गया।

धर्माध्यक्ष तियामा ने कहा, "मैं उन सभी को धन्यवाद देता हूँ जिन्होंने फादर लेओन की रिहाई हेतु मदद की है।" उन्होंने मोपती के सभी पुरोहितों के प्रति आभार प्रकट किया जिन्होंने उनकी रिहाई पर धन्यवादी मिस्सा अर्पित की। इस बीच पूरे धर्मप्रांत में खुशी का महौल है।

गौरतलब है कि माली की काथलिक कलीसिया में कई पुरोहितों एवं धर्मसमाजियों का अपहरण हो चुका है। फादर पियरलुइगी मैकाल्ली, जो अफ्रीकी मिशन सोसाइटी के मिशनरी हैं, उन्हें 2018 में नाइजर से अपहरण कर लिया गया था और अक्टूबर 2020 में माली में रिहा कर दिया गया। उसी तरह सिस्टर ग्लोरिया सेसिलिया नारवेज अर्गोट, जो फ्रांसिस्कन सिस्टर्स की धर्मसमाज की एक कोलंबियाई धर्मबहन हैं, उनका 2017 में अपहरण हो गया था।

हाल में, अंतरराष्ट्रीय रेड क्रोस द्वारा अपने भाई एडगर नार्वेज को भेजे एक पत्र में सिस्टर ग्लोरिया ने बताया कि वे "जीएसआईएम" या इस्लाम और मुसलमानों के समर्थन वाले समूह की बंधक हैं। यह साहेल में सक्रिय एक जिहादी गठबंधन से संबंधित है और अल-कायदा से जुड़ा हुआ है। सिस्टर ग्लोरिया ने लिखा, "मुझे उम्मीद है कि ईश्वर मुझे मुक्ति पाने में मदद देंगे।" धार्मिक स्वतंत्रता पर नवीनतम एसीएस रिपोर्ट के अनुसार, माली में इस्लाम की सुन्नी शाखा की 88 प्रतिशत है, जबकि ख्रीस्तीय सिर्फ 2 प्रतिशत हैं, जिनमें से दो तिहाई काथलिक हैं और प्रोटेस्टेंट। बाकी आबादी पारंपरिक धर्मों को मानती है।

माली में अपहरण

अल-कायदा और तथाकथित "इस्लामिक स्टेट" के करीब जिहादी समूहों की उपस्थिति के अलावा, माली की हिंसा के मूल में स्वतंत्रता के लिए तनाव है जिसने 2012 से देश को भड़काया है, साथ ही साथ राष्ट्रीय राजनीतिक अस्थिरता, इतनी अधिक है कि नौ महीने के भीतर दो बार तख्तापलट हुए हैं। जिसका उद्देश्य था राष्ट्रपति इब्राहिम बाउबकर कीता की जगह लेना।

माली के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने देश की स्थिति पर बड़ी चिंता और दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है कि "हम लोगों की चिंताओं और माली के हितों से दूर व्यक्तिगत हित से उत्पन्न मौजूदा संकट की कड़ी निंदा करते हैं", धर्माध्यक्ष ने दोहराया, अंत में उन्होंने "तनाव को समाप्त करने और एक सामाजिक संघर्ष का सुझाव देने के लिए एक रचनात्मक संवाद" को आमंत्रित किया।

15 July 2021, 15:13