खोज

कहानी
Vatican News

जिम्बाब्वे: स्वच्छ पर्यावरण के लिए ‘लौदातो सी’ अभियान

जिम्बाब्वे के काथलिक पेशेवरों के नेटवर्क के माध्यम से लोक धर्मियों के काथलिक आयोग जिम्बाब्वे (जेडसीसीएल) ने ‘लौदातो सी’ की भावना में पर्यावरण के संरक्षण के लिए एक अभियान शुरू किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज- वाटिकन सिटी

जिम्बाब्वे, बुधवार 23 जून 2021 (वाटिकन न्यूज) : जैसा कि ज़िम्बाब्वे और अन्य जगहों पर वनस्पतियों, जीवों और समुद्री जीवन पर गंभीर प्रभाव के साथ पर्यावरणीय क्षरण की दर बढ़ रही है, मानवता को हमारे आम घर को और नुकसान से बचाने के लिए तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए। संत पापा फ्राँसिस ने अपने विश्व पत्र ‘लौदातो सी’ में कहा है: "हमें एक वार्तालाप की आवश्यकता है जिसमें सभी शामिल हों, क्योंकि हम जिस पर्यावरणीय चुनौती से गुजर रहे हैं और उसकी मानवीय जड़ें हम सभी को प्रभावित करती हैं।" संत पापा फ्राँसिस के संदेश ने जिम्बाब्वे के काथलिक पेशेवरों के नेटवर्क को प्रेरित किया जिन्होंने पर्यावरण की रक्षा के लिए अपना योगदान देने का फैसला किया।

लोकधर्मी और पर्यावरण प्रबंधन

संत पापा के चिंतन से पता चलता है कि पर्यावरण के विनाश के लिए मानवता जिम्मेदार है और मानव प्रयास के माध्यम से ही उसी पर्यावरण को संरक्षित किया जा सकता है।पर्यावरण प्रबंधन के प्रति अपने योगदान के हिस्से के रूप में, जिम्बाब्वे काथलिक पेशेवरों के नेटवर्क (सीपीएनजेड) के माध्यम से लोक धर्मियों के काथलिक आयोग जिम्बाब्वे (जेडसीसीएल)  ने एक ‘लौदातो सी’ अभियान शुरू किया है जो पर्यावरण की रक्षा के लिए समाज को प्रोत्साहित करने का प्रयास करता है। प्रेरितिक राजदूत द्वारा समर्थित यह परियोजना लोगों को प्रत्येक व्यावसायिक उद्यम में पर्यावरण के अनुकूल तरीकों का अभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित करती है।

इस प्रकार, लौदातो सी की भावना में 'जिम्बाब्वे के काथलिकों ने परियोजना को एक साथ रखा जो लौदातो सी को मनाने और प्रचारित करने पर केंद्रित है, साथ ही पर्यावरण प्रबंधन को प्रोत्साहित करती है। इस परियोजना में जिम्बाब्वेवासियों को प्रोत्साहित करना शामिल है, लेकिन विशेष रूप से छोटे बच्चों और युवाओं को उनके समुदायों में पर्यावरण की देखभाल करने वाली गतिविधियों में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करना, चाहे वे ज़िम्बाब्वे में कहीं भी हों। ऐसी कई प्रथाएँ हैं जो पर्यावरण को ख़राब करती हैं जैसे कि पेड़ काटना, अवैध खनन, झाड़ियों को जलाना, अपने आस-पास कागज़ और प्लास्टिक का कूड़ा डालना आदि। अभियान इन्हें हतोत्साहित करने का प्रयास करता है। अभियान के माध्यम से युवाओं को प्रोत्साहित किया जाता है कि वे अपने पर्यावरण को स्वच्छ रखने में अपना योगदान दें, भले ही अन्य लोग कूड़ा डालें।

गली में कूड़ा दिखाती एक छोटी लड़की
गली में कूड़ा दिखाती एक छोटी लड़की

पर्यावरण की भलाई के साथ सुसमाचार को जोड़ना

लोक धर्मियों के काथलिक आयोग जिम्बाब्वे (जेडसीसीएल) के समन्वयक, फादर जोहान मासेको ने कहा कि अभियान लौदातो सी के बारे में जागरूकता लाने के लिए था और पर्यावरण की भलाई और सुसमाचार के बीच संबंध को जीने के लिए प्रोत्साहित किया। इसके अलावा, परियोजना को लगातार लौदातो सी से जोड़ने से दस्तावेज़ में रुचि पैदा होगी और लोग स्वयं दस्तावेज़ पढ़ने के लिए उत्सुक हो सकते हैं।

फादर मासेको ने कहा,  "यह परियोजना हमारे पर्यावरण को साफ रखने के लिए लोगों को सशक्त बनाता है। लोगों को पर्यावरण की देखभाल और प्रार्थना के बीच संबंध को समझने में मदद करना है जैसा कि संत पापा फ्राँसिस ने कहा था, 'प्राकृतिक दुनिया के खिलाफ अपराध करना हमारे खिलाफ पाप है और ईश्वर के खिलाफ पाप है।'

अवैध खनन से जंगलों का नुकसान

गरीबी और बेरोजगारी के कारण युवा लोग अवैध खनन और आय सृजन के अन्य अवैध तरीकों की ओर अग्रसर हैं, असंगठित खनन गतिविधियों और वनों की कटाई के कारण बहुत पर्यावरणीय क्षति हुई है। कीमती धातु, सोने के लिए "मकोरोकोज़ा" (अवैध खनिक) द्वारा जंगलों को बेतरतीब ढंग से साफ किया जाता है। वे हर जगह और किसी भी तरह खुदाई करते हैं, जहां उन्हें लगता है कि उन्हें सोना मिल सकता है। क्वेक्वे, कदोमा, बिन्दूरा, माजोवे,एम्बेरग्वा जैसे स्थानों की यात्रा आंख खोलने वाली है कि पर्यावरण को कैसे खतरे में डाला जा रहा है। किसी को आश्चर्य होगा कि क्या कोई भविष्य रह गया है?

कदोमा के बाहरी इलाके में एक कारीगर खान ने कहा, “हम गरीबी के कारण इस काम को करने में मजबूर हैं। हम बेरोजगार हैं। वास्तव में, कोई रोजगार नहीं है। हमारे पास ऐसे परिवार हैं जिन्हें भोजन की आवश्यकता है और जीवित रहने का एकमात्र साधन सोने की तलाश कुमाकोम्बा (अवैध खदान) है। हमें पर्यावरण की चिंता है, लेकिन हम कुछ नहीं कर सकते।”

बुदिरिरो की सड़कों पर कूड़े के ढेर की शिकायत करती एक महिला।
बुदिरिरो की सड़कों पर कूड़े के ढेर की शिकायत करती एक महिला।

अधिक आबादी वाले शहरों के परिणाम

पैसे के लालच ने पर्यावरण को नष्ट करने में भी योगदान दिया है। शहरी क्षेत्रों में व्यवसाय और आवास के लिए भूमि व्यापारियों द्वारा भूमि के बेतरतीब विभाजन अनिर्दिष्ट स्थानों और आर्द्रभूमि में अनगिनत भवन संरचनाएं देखी हैं। शहरी प्रवास के परिणामस्वरूप शहरों की जनसंख्या अधिक हो गई है। इसने जिम्बाब्वे के अधिकांश शहरी क्षेत्रों के लिए समझौता और जटिल स्वच्छता मानकों को बदल दिया है। पानी और स्वच्छता सुविधाओं को उन्नत करने के लिए बहुत कम प्रयास किया जा रहा है। सीवर पाइप के फटने, पानी की अनियमित आपूर्ति और हर जगह कूड़े का फैलना शहरवासियों के लिए चिंता का विषय है। कलीसिया अपने लोक धर्मियों के माध्यम से देश में पर्यावरण प्रदूषण के खतरे को रोकने का प्रयास कर रही है।

‘लौदातो सी’ अभियान

इस अभियान द्वारा कलीसिया जंगलों, आर्द्रभूमि, जल निकायों, वन्य जीवन और ओजोन परत की रक्षा करके पर्यावरण के संरक्षण को प्राथमिकता देने की आवश्यकता पर समुदायों को जागरूक करना चाहती है। यह आह्वान पेड़ लगाने, कूड़े से उचित रुप से निपटाने और पुनर्चक्रण को प्रोत्साहित करता है, साथ ही पर्यावरण को दूषित करने वाली और जलवायु परिवर्तन की ओर ले जाने वाली फेंक संस्कृति को रोकने के लिए भी प्रोत्साहित करता है।

 जेडसीबीसी सामाजिक संचार आयोग के निदेशक

23 June 2021, 15:40