खोज

कहानी
Vatican News

महामारी से उबरने के लिए वैश्विक जिम्मेदारी

लगभग तीस वर्षों से वाटिकन संस्था "चेंतेसिमुस अन्नुस प्रो पोंतेफीचे" ने कलीसिया के सामाजिक सिद्धांत के अध्ययन, विचार और अनुप्रयोग पर ध्यान केंद्रित किया है, विशेष रूप से अर्थशास्त्र और वित्त के क्षेत्र में। संत पापा फ्राँसिस के विश्वपत्र 'लौदातो सी' के आलोक में, इसने विश्व भर के व्यवसायों के साथ एक संवाद शुरू किया है ताकि विश्वपत्र के सिद्धांतों के ठोस कार्यान्वयन की बेहतर सराहना की जा सके। महासचिव, इयूतिमियो तिलियाकोस ने वाटिकन न्यूज को बताया कि यह "पूरी दुनिया के प्रति जिम्मेदारी" का मुद्दा है।

माग्रेट सुनीता मिंज –वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 9 जून 2021 (वाटिकन न्यूज) : महामारी के इस समय में, हमारे सामान्य घर की देखभाल के लिए अपने विश्वपत्र में संत पापा फ्राँसिस की अपील "विशाल तकनीकी विकास" के सामने और भी अधिक जरूरी है कि वर्षों से "मानव जिम्मेदारी, मूल्य और विवेक" और शक्ति के सही उपयोग की समझ के साथ विकास नहीं किया गया है।(लौदातो सी', 105)। संत जॉन पॉल द्वितीय के दस्तावेज के माध्यम से 1993 में बनाई गई "चेंतेसिमुस अन्नुस प्रो पोंतेफीचे" एक वाटिकन संस्था, आधुनिक दुनिया के हर संदर्भ में, विशेष रूप से कलीसिया के सामाजिक सिद्धांत के अध्ययन, समझ और लागू करने के लिए प्रतिबद्ध है। विशेष रुप में अर्थशास्त्र और वित्त के क्षेत्रों।

पर्यावरण और मानव व्यक्ति

पिछले कुछ समय से, अन्ना मारिया तारनतोला की अध्यक्षता में संस्था, "एक से कई" पहलों का अनुसरण कर रहा है, ताकि यह पता चल सके कि व्यावसायिक, शैक्षणिक, शैक्षिक, राजनीतिक और तीसरे क्षेत्र की वास्तविकताएं किस तरह से संत पापा के 2015 में प्रकाशित विश्वपत्र द्वारा निर्धारित सिद्धांतों को ठोस रुप से कार्यान्वित कर रही हैं। इस पर 2021 के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भी चर्चा की जाएगी, जो अगले अक्टूबर के लिए निर्धारित है और एकजुटता, सहयोग और जिम्मेदारी विषयों पर समर्पित है, जिसके आधार पर अधिक समावेशी दुनिया का निर्माण किया जा सके। ऊर्जा कंपनियाँ एनेल, एनी, स्पाम  के साथ बैठकें पहले ही हो चुकी हैं, जो पर्यावरणीय स्थिरता और ऊर्जा संक्रमण के संबंध में तकनीकी विकास के लिए भी समर्पित हैं।

2019 इकोनॉमी एंड सोसाइटी अवार्ड में अन्ना मारिया तारनतोला
2019 इकोनॉमी एंड सोसाइटी अवार्ड में अन्ना मारिया तारनतोला

वाटिकन न्यूज के साथ बातचीत में "चेंतेसिमुस अन्नुस प्रो पोंतेफीचे" के महासचिव इयूतिमियो तिलियाकोस ने बताया, "महामारी ने प्रौद्योगिकी की सीमाओं और मनुष्यों के साथ इसके संबंधों पर प्रकाश डाला है।" प्रौद्योगिकी, नैतिक प्रकृति और नैतिकता के साथ संबंध के बहुत मजबूत मुद्दे हैं: वे लौदातो सी में अच्छी तरह से बताए गए हैं और फ्रातेल्ली तुत्ती में उतनी ही मजबूती से उठाए गए हैं ... विशेष रूप से, केंद्रीय विषय जो इन दोनों विश्वपत्र को जोड़ता है। उन्होंने नोट किया, " प्रौद्योगिकी के उपयोग के संबंध में मानवीय जिम्मेदारी है, किसी ऐसी चीज का उपयोग जो एक तरफ लाभ लाता है और दूसरी ओर समस्याएं पैदा कर सकता है, क्योंकि हम न केवल पर्यावरण को बदलते हैं, बल्कि चरम रूप में हमारे कार्यों से मानव व्यक्ति को भी।"

खुद के लिए और दूसरों के लिए जिम्मेदारी

वाटिकन संस्था लौदातो सी को विशेष रूप से "न केवल" एक "हरे" दृष्टिकोण से देखती है, बल्कि "एक सामाजिक विश्वपत्र" के रूप में भी देखती है ... संत पापा ने बहुत मजबूत तरीके से रेखांकित किया कि न केवल एक पर्यावरणीय संकट है या केवल एक सामाजिक संकट है।"  तिलियाकोस याद करते हैं, "वे एक ही समस्या के दो पहलू हैं। हमें इस बात पर हस्तक्षेप करने की आवश्यकता है कि लोग कैसे सोचते हैं, मानसिकता पर, प्रत्येक व्यक्ति की भावना पर और विशेष रूप से उन लोगों के बारे में जिनके पास राजनीतिक और आर्थिक दृष्टिकोण से व्यवसाय के संचालन के लिए जिम्मेदारी अधिक है वैश्विक स्तर पर, राष्ट्रीय स्तर पर, लेकिन अधिक सख्ती से स्थानीय स्तर पर भी। "

फाउंडेशन के सदस्यों के साथ संत पापा फ्राँसिस, जून 8, 2019
फाउंडेशन के सदस्यों के साथ संत पापा फ्राँसिस, जून 8, 2019

आगे का रास्ता एक "विधि को अपनाना है जो व्यक्ति को अतीत में अपूर्ण, गलत या किए गए कार्यों में हस्तक्षेप करने में सक्षम होने की जिम्मेदारी देता है और व्यक्ति जो करने में सक्षम है या वर्तमान में क्या कर रहा है, उसकी जिम्मेदारी लेता है। वे कहते हैं, पिछली स्थितियों को ठीक करें, दूसरे शब्दों में, एक विधि "जो केवल तत्काल भविष्य पर किसी के प्रभाव को ध्यान में रखने तक सीमित नहीं होनी चाहिए, उन लोगों के संपर्क में जिनके साथ संबंध और ठोस स्थितियां हैं, लेकिन - जैसा कि संत पापा हमें व्यापक दृष्टिकोण के आधार पर, पूरी दुनिया के प्रति सामान्य रूप से मानवता के प्रति जिम्मेदारी लेने का आग्रह करते हैं। इसमें वे भी शामिल हैं जिन्हें हम नहीं देखते हैं और कभी नहीं देखेंगे क्योंकि वे दुनिया के विभिन्न हिस्सों में रहते हैं लेकिन हम जो करते हैं उसके प्रभाव से पीड़ित हैं,  वैसा ही जैसा कि हम दूसरों के कार्यों के प्रभाव से पीड़ित होते हैं।"

ऊर्जा कंपनी स्नाम के साथ "चेंतेसिमुस अन्नुस प्रो पोंतेफीचे" की बैठक
ऊर्जा कंपनी स्नाम के साथ "चेंतेसिमुस अन्नुस प्रो पोंतेफीचे" की बैठक

तिलियाकोस आगे बताते हैं, "इस दृष्टिकोण से स्थिरता का विषय वह है जो हमें व्यक्ति और तीसरे पक्षों के बीच संबंधों में वापस ले जाता है, जहां तीसरे पक्ष हमारी पत्नी, हमारे बच्चे या हमारे सहयोगी नहीं हैं, बल्कि पूरी मानवता हैं। " उन्होंने गौर किया कि "कोई सीमा, राजनीतिक या सामाजिक बाधाएं नहीं हैं जो हमें खुद को अलग करने की अनुमति देती हैं," जैसा कि संत पापा फ्राँसिस विश्वपत्र में लिखते हैं और इसी कारण से "उदासीनता के वैश्वीकरण के लिए अभी भी कम जगह है।" (लौदातो सी ', 52)।

एक पतन जिससे हमें फिर से उठना होगा

इस दृष्टिकोण से, चल रहे कोरोनावायरस आपातकाल को संबोधित करने पर भी नए प्रयासों पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, जहां संस्था ने उदारता के ठोस रूपों को प्रोत्साहित किया है। संत पापा फ्राँसिस ने पिछले साल संस्था के अध्यक्ष तारनतोला को भेजे गए एक पत्र में उनका उल्लेख करते हुए लिखा, "कोविड -19 स्वास्थ्य संकट का मुकाबला करने में मदद करने वाली परियोजनाओं का समर्थन करने, साथ देने और प्रोत्साहित करने की मांग करके महामारी के लिए ठोस प्रतिक्रिया देने की उनकी इच्छा के लिए" धन्यवाद।

इंडोनेशिया की स्वास्थ्य कार्यकर्ता
इंडोनेशिया की स्वास्थ्य कार्यकर्ता

लुईस गुइडो कार्ली विश्वविद्यालय में राजनीतिक अर्थव्यवस्था के प्रोफेसर और फाउंडेशन की वैज्ञानिक समिति के सदस्य पाओलो गारोना नोट करते हैं, "लौदातो सी' में, हम इस विचार को पाते हैं कि प्रकृति में और उत्पादन और धन वितरण की प्राकृतिक और मानवीय प्रक्रियाओं में सब कुछ इस्तेमाल किया जा सकता है: यह एक प्रकार की ईश्वरीय कृपा, यहां तक ​​कि युगांतिक, आर्थिक और सामाजिक प्रक्रियाएं हैं जो हमें बर्बादी की अर्थव्यवस्था और जो केवल यह देखता है कि कौन मजबूत है और प्रबल है, को अस्वीकार करने के लिए आमंत्रित करती हैं।"

वे कहते हैं, "हम असफलता से भी सीख सकते हैं, इसलिए असफलता भी उस गिरावट के रूप में काम कर सकती है जिससे हमें फिर से उठना है, यह उस संकट के रूप में कार्य करता है जिससे हमें सभी अवसरों को लेने का प्रयास करने के लिए सीखने की जरूरत है।" प्रोफेसर गारोना यह भी नोट करते हैं कि "यह संकट निश्चित रूप से हमें नए प्रकार के उत्पादन, नए प्रकार के सामाजिक संगठन और एक साथ रहने के नए तरीकों की ओर ले जाएगा। इसके लिए मजबूत नेतृत्व की आवश्यकता होगी और सबसे बढ़कर, इसके लिए नैतिक नींव की आवश्यकता होगी। हमें सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक सह-अस्तित्व की हमारी प्रक्रियाओं को मजबूत करना होगा, "अनिश्चितता से अभिभूत" होने की जोखिम लिए बिना हम भविष्य का मार्गदर्शन नहीं कर सकते।

09 June 2021, 15:31