खोज

Vatican News
बेनी के गिरजाघर में विस्फोट बेनी के गिरजाघर में विस्फोट  (AFP or licensors)

डीआरसी: बेनी के एक गिरजाघर में विस्फोट,दो घायल

27 जून को प्रजातांत्रिक गणराज्य कांगो में बेनी के एक गिरजाघर में हुए विस्फोट से दो लोगों के घायल होने की खबर ने धर्माध्यक्षों के डर को फिर से जगा दिया है। उन्होंने कहा, "लोगों को मारे बिना एक दिन भी नहीं जाता।"

माग्रेट सुनीता मिंज- वाटिकन सिटी

बेनी, सोमवार 28 जून 2021 (वाटिकन न्यूज) : कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में बुटेम्बो-बेनी के काथलिक पल्ली में कल, 27 जून को हुआ विस्फोट, एक वास्तविक नरसंहार का कारण बन सकता था। सुबह छह बजे एक बम फट गया जो वेदी के पीछे रखा गया था, जहां आमतौर पर गाना गाने और बजाने वाले दल रहा करते हैं। रविवार को दृढीकरण संस्कार समारोह का मिस्सा की तैयारी कर रही दो महिलाओं को विस्फोट ने गंभीर रूप से घायल कर दिया। घायल महिलाओं को तुरंत अस्पताल ले जाया गया। विस्फोट से गिरजाघऱ के कुछ बेंच और वेदी के सामान नष्ट हो गये। पवित्र मिस्सा में बड़ी संख्या में दृढीकरण संस्कार पाने वाले युवाओं और उनके माता-पिताओं के आने की उम्मीद थी। मिस्सा के समय विस्फोट होने से बड़ी संख्या में लोग मारे जा सकते थे। इस बीच, पल्ली ने एक सुरक्षा समिति का गठन किया है।

विदित हो कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य के उत्तर-पूर्व में विद्रोहियों का एक समूह "इस्लामिक स्टेट" बुटेम्बो-बेनिसी धर्मप्रांत के नजदीक है। पिछले महीने, स्थानीय धर्माध्यक्ष मेल्कीसेदेक सिकुली पलुकु ने जारी आतंकवादी हमलों और क्षेत्र में मानवाधिकारों के कई उल्लंघनों के लिए आवाज उठाया था। धर्माध्यक्ष ने कहा कि हमलावर न केवल गिरजाघरों को बल्कि स्कूलों और अस्पतालों को भी निशाना बना रहे हैं। "लोगों को मारे बिना ऐसा कोई दिन नहीं बीतता। विद्रोही अस्पताल के बिस्तरों में बीमारों को मारने आते हैं।"

2013 और 2020 के बीच, हमलों के परिणामस्वरूप अकेले बेनी में 6,000 से अधिक मौतें हुईं; 3 मिलियन लोग विस्थापित हुए हैं और 7,500 लोगों का अपहरण किया गया; घरों और गांवों को जला दिया; प्रशासनिक भवन लूटे गए; जानवरों, खेतों और फसलों को लूट लिया। पिछले अप्रैल में, राष्ट्रीय धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सेन्को) की स्थायी समिति ने इसमें शामिल सभी पक्षों को संबोधित करते हुए एक संदेश जारी किया था जिसमें उसने हिंसा को समाप्त करने का आग्रह किया था: “अपने भाइयों को मारना बंद करो! उनका खून धरती से रोता है।”

28 June 2021, 16:09