खोज

Vatican News
विस्फोट के कारण बेरूत में ध्वस्त गिरजाघर विस्फोट के कारण बेरूत में ध्वस्त गिरजाघर  (Copyright: free with credit to Photographer)

2020 में हुए विस्पोट के एक साल बाद बेरूत का गिरजाघर पुनः खुलेगा

लेबनान की राजधानी बेरूत स्थित संत जोसेफ गिरजाघर, अगस्त 2020 में विस्फोट के बाद अगले माह फिर खुल जाएगा।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बेरूत, बृहस्पतिवार, 17 जून 2021 (वीएनएस)- विनाशकारी विस्फोट जिसने लेबनान के बेरूत शहर को तबाह कर दिया था उसके  करीब एक साल बाद अब वहाँ उल्लास की स्थित है।

जेस्विट पुरोहितों के संरक्षण में संचालित संत जोसेफ ऐतिहासिक गिरजाघर को अगले माह पुनः खोला जाएगा।

महत्वपूर्ण समर्थन

गिरजाघर का पुनःनिर्माण काथलिक उदारता संगठन, एड टू द चर्च इन नीड (जरूरतमंदों को कलीसिया की सहायता) की सहायता से किया गया है।

फादर सलाह अबोजाओदे येसु समाजी ने ए सी एन को बतलाया, "नए लकड़ी के दरवाजों को अगले सप्ताह के अंत तक लाया और लगाया जाएगा।"

उन्होंने यह भी गौर किया कि पेंट करने एवं बिजली का काम करीब पूरा हो चुका है।

पिछले साल के विस्फोट में करीब 200 लोगों की मौत हो गई थी और हजारों लोग घायल हो गये थे, जब एक गोदाम में 2,750 टन अमोनियम नाइट्रेट जल गया था।

मरम्मत परियोजना

फरीद हकिम एक इंजीनियर जो गिरजाघर के मरम्मत की निगरानी कर रहे हैं। उन्होंने बतलाया, "लकड़ी से बने अधिकतर दरवाजे और खिड़कियाँ नष्ट हो चुके थे और रालयुक्त छट भी कई जगह प्रभावित हुआ था।"

उन्होंने कहा, "विस्फोट के कारण गिरजाघर की छत एवं कई अन्य जगहों पर कई दरारें देखी जा सकती थीं।"

एड टू द चर्च इन नीड की प्रतिबद्धता

एड टू द चर्च इन नीड के अनुसार संत जोसेफ गिरजाघर जिसका निर्माण 1875 में हुआ था, जो कई अलग-अलग समुदायों की मदद करता है जहाँ रविवार शाम को फ्रेंच में, रविवार सुबह को अंग्रेजी में और मेरोनाईट रीति से अरबी में ख्रीस्तयाग अर्पित की जाती हैं।

लेबनान की अर्थव्यवस्था के लेबनानी पाउंड के पतन से गंभीर रूप से प्रभावित होने के कारण, गिरजाघर की मरम्मत के लिए खर्च 400,000 डॉलर की राशि है, जो पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण है।

लेबनान में भारी विस्फोट के बाद एड टू द चर्च इन नीड लगातार लेबनान के ख्रीस्तीय समुदाय की मदद कर रहा है।

17 June 2021, 15:17