खोज

Vatican News
इस्राएली पुलिस और फिलीस्तीनी प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष इस्राएली पुलिस और फिलीस्तीनी प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष   (AFP or licensors)

येरूसालेम में संघर्ष के बीच डब्ल्यूसीसी का शांति प्रयास

विश्वभर के ख्रीस्तीय नेता येरूसालेम में हिंसा के अंत के लिए आवाज उठा रहे हैं जब इस्राएली पुलिस और फिलीस्तीनी प्रदर्शनकारियों के बीच चौथे दिन भी संघर्ष जारी है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

येरूसालेम, मंगलवार, 10 मई 2021 (वीएनएस)- कलीसियाओं की विश्व परिषद (डब्ल्यू सीसी) ने इस्राएली सुरक्षा बल एवं फिलीस्तीनी प्रदर्शनकारियों से अपील की है कि हिंसा को दूर करें एवं वार्ता तथा समझदारी के रास्ते को अपनायें।

कलीसियाओं के विश्व परिषद के कार्यवाहक महासचिव माननीय लोअन सौका ने बिगड़ती स्थिति पर कलीसियाओं की वैश्विक पारिस्थितिक मैत्री पर चिंता व्यक्त की।  

उन्होंने इसे शेख जर्राह के फिलिस्तीनी समुदाय में कई निवासियों की बेदखली के खतरे से भी जोड़ा।

इज़्राइल के सुप्रीम कोर्ट को सोमवार को बेदखली आदेशों की वैधता पर विचार करते हुए एक मामले में सुनवाई करनी थी, लेकिन अंतिम समय पर इसे जून तक के लिए टाल दिया गया।

फिलिस्तीनी निवासियों की सहायता करना

माननीय सौका ने जारी हिंसा और अशांति पर शेख जर्रा के फिलीस्तीनी परिवारों की दुर्दशा पर गहरी चिंता व्यक्त की है।

उन्होंने कहा कि उचित जवाब को अधिक हिंसक नहीं होना चाहिए बल्कि फिलीस्तिनियों के प्रति दया और न्यायपूर्ण होनी चाहिए जो इस अनुचित और अन्यायपूर्ण स्थिति से प्रभावित हैं।  

उनके घरों को रखने की अदालती लड़ाई में कलीसियाओं की विश्व परिषद, जिला के निवासियों की सहायता कर रहा है, जो 2008 में शुरू हुआ था।

इस्राएलियों एवं फिलीस्तिनियों में अपने ख्रीस्तीय एकता कार्यक्रमों द्वारा कलीसियाओं की विश्व परिषद ने बेदखली का सामना करनेवाले परिवारों के समर्थन में अदालत की सुनवाई में भाग लिया।

पूर्वी येरूसालेम में क्या स्थिति है?

पिछले शुक्रवार को नियोजित निष्कासन पर अल अकसा मस्जिद में हिंसा पुनः भड़क उठी। यह तीन दिनों तक जारी रही जबकि इस्राएल सोमवार को "येरूसालेम दिवस" मनाता है।   

फिलीस्तिनी प्रदर्शनकारियों ने इस्राएली पुलिस पर पत्थर फेंकी, जिसका जवाब उन्होंने सुन्न करनेवाले हथगोले और रबर की गोलियों से दीं।

फिलीस्तीनी रेड क्रेसेन्ट के अनुसार सोमवार को हुई झड़प में 180 फिलीस्तिनी घायल हो गये हैं। पिछले शुक्रवार से लेकर अब तक करीब 300 लोगों के घायल होने की पुष्टि हुई है।   

रविवार को संत पापा फ्राँसिस ने येरूसालेम के पवित्र शहर में स्थिरता की अपील की थी।

उन्होंने प्रार्थना की थी कि "यह शहर मुलाकात का स्थान बने, हिंसक झड़पों का नहीं, यह एक प्रार्थना एवं शांति का स्थान हो।"

संत पापा ने दोनों पक्षों के लोगों से अपील की थी कि पवित्र भूमि की खास पहचान की रक्षा हेतु वे साझा हल ढूँढ़ें।

उन्होंने खेद प्रकट करते हुए कहा था, "हिंसा केवल अधिक हिंसा उत्पन्न करती है, टकराव बहुत हो चुका।"

11 May 2021, 16:23