खोज

Vatican News
इंडोनेशिया में एक गिरजाघर के परिसर में तैनात सुरक्षा कर्मी इंडोनेशिया में एक गिरजाघर के परिसर में तैनात सुरक्षा कर्मी  (AFP or licensors)

इंडोनेशिया की कलीसिया द्वारा युद्ध-विराम का आह्वान

इंडोनेशिया के तिमिका धर्मप्रांत के प्रेरितिक प्रशासक फादर मारतेन कायो ने पश्चिमी पापुआ के सैन्य नेताओं एवं स्वतंत्रता समूह से आग्रह किया है कि वे हिंसा बढ़ने और तनाव गहरा होने को रोकने के लिए शांति कायम रखें और युद्ध-विराम करें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

इंडोनेशिया, मंगलवार, 4 मई 2021 (वीएनएस)- यह अपील उन्होंने तब की है जब सरकार ने दो स्वतंत्र दलों, पश्चिमी पापुआ का राष्ट्रीय मुक्ति सेना और स्वतंत्र पापुआ के लिए आंदोलन की घोषणा की। आतंकियों ने 29 अप्रेल को पापुआ के खुफिया एजेंसी, जनरल गुस्टी पुतु डैनी नुगराहा को मार डाला।

फादर कायो ने सरकार के आंदोलन की निंदा की है तथा इसे अनुत्पादक क्रिया कहा है जो प्रदेश में धर्मगुरूओं के द्वारा शांति स्थापित करने के प्रयास को गौण कर दिया है। वास्तव में, पश्चिमी पापुआ 1969 में इंडोनेशिया के लिए क्षेत्र के राज्य-हरण के परिणामस्वरूप दशकों से तनाव महसूस कर रहा है। पापुआ के अधिकांश लोग सरकार की कार्रवाई को नाजायज मान रहे हैं। पर्यवेक्षकों एवं याजकों को भय है कि यह निर्णय देश के पूर्वी क्षेत्र में हिंसा को पुनः भड़का सकता है।

फादर ने कहा, "हम, तिमिका धर्मप्रांत की काथलिक कलीसिया के धर्मगुरू बहुत अधिक चिंतित हैं क्योंकि हिंसा और इसके परिणाम ने विगत सप्ताहों में तनाव को बढ़ा दिया है। इस बात पर गौर करते हुए कि विद्रोहियों एवं सुरक्षा बल के बीच संघर्ष का परिणाम निर्दोष नागरिकों को भुगतना पड़ता है फादर ने दोनों दलों से अपील की है कि वे शांति बनाये रखें एवं युद्ध-विराम करें ताकि मिलकर, एक प्रतिष्ठापूर्ण, मानवीय, खुला एवं सम्मानपूर्ण समाधान निकाला जा सके।"   

04 May 2021, 15:55