खोज

Vatican News
बैगलोर शहर के बाहर कोविद मृतकों का दाह संस्कार बैगलोर शहर के बाहर कोविद मृतकों का दाह संस्कार   (ANSA)

मृत परिजनों को दफनाने में मदद करते बैंगलोर के स्वयंसेवक

भारत में बैंगलोर महाधर्मप्रांत के स्वयंसेवक कोविद से मरे हुओं के परिजनों को दफनाने में मदद करते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बैंगलोर, बुधवार 5 मई 2021 (वाटिकन न्यूज) : दक्षिण भारत में बंगलौर महाधर्मप्रांत के 65 स्वयंसेवक हैं, उन्हें "करुणा के दूत" कहा जाता है। वे बेसहारा परिवारों को अपने प्रियजनों को सम्मानजनक दफन करने में मदद करने की पूरी कोशिश करते हैं जिनकी मृत्यु कोविद -19 महामारी से हो गई है। फादर संतोष रॉयन बताते हैं, अब तक दो सप्ताह से भी कम समय में 250 से अधिक पीड़ितों को दफनाया गया है,। प्रतिदिन औसतन 15 से अधिक अंतिम संस्कार, मृतक के धर्म को ध्यान में रखते हुए "हम सम्मान के साथ हर शरीर को दफन करते हैं। हम जाति या विश्वास में भेद नहीं करते हैं।" वास्तव में, अब तक दफनाए गए 250 मृतकों में से लगभग 100 काथलिक थे, 25 हिंदू थे और बाकी विभिन्न संप्रदायों के ईसाई थे। उसी "करुणा के दूत" स्वंयसेवक दल में केवल काथलिक नहीं हैं, बल्कि मुस्लिम और हिंदू भी हैं। इस सेवा को सुनिश्चित करने के लिए, बैंगलोर महाधर्मप्रांत ने एक विशेष बजट आवंटित किया है। जबकि स्वयंसेवक इस बात को रेखांकित करते हैं, "अब इस दुनिया में, केवल एक चीज का मूल्य रह गया है: एक दूसरे की मदद करना।"

भारतीय वारिएंट

इस बीच, पूरे एशियाई देशों में, महामारी रुकने के कोई संकेत नहीं दिखाई देते। तथाकथित "भारतीय वारिएंट", जो अत्यधिक संक्रामक है, बहुत तेजा से भी बढ़ रहा है। कोविद संक्रमण को देखते हुए दुनिया में संयुक्त राज्य अमेरिका के बाद भारत दूसरा स्थान पर है: संक्रमण की संख्या पिछले 24 घंटों में, 382,315 नए मामले दर्ज किए गए हैं, जबकि उसी दिन मौतें 3,700 से अधिक हो गईं। कुल मिलाकर, भारत ने अब तक 20,282,833 कोरोनोवायरस के मामलों की पुष्टि की है और संक्रमण से 222,408 लोगों की मौत हुई है।

गंभीर स्थिति से निपटने के लिए, नेशनल सेंट्रल बैंक ने वैक्सीन निर्माताओं, अस्पतालों और अन्य स्वास्थ्य देखभाल कंपनियों के लिए कम लागत वाले वित्त पोषण में 6.7 बिलियन डॉलर का प्रावधान करने की घोषणा की है। ऋण 31 मार्च, 2022 तक उपलब्ध होंगे।

05 May 2021, 14:19