खोज

Vatican News
2021.05.04 राँची के काथलिक युवाओं द्वारा रिम्स में मुफ्त भोजन पैकेट का वितरण 2021.05.04 राँची के काथलिक युवाओं द्वारा रिम्स में मुफ्त भोजन पैकेट का वितरण 

रांची कलीसिया द्वारा कोविद रोगियों के रिश्तेदारों को भोजन आबंटन

भारत में रांची की काथलिक कलीसिया ने महामारी से प्रभावित लोगों तक पहुंचने और अर्थव्यवस्था पर इसके प्रतिकूल प्रभाव को दूर करने की कोशिश की है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रांची, बुधवार 5 मई 2021 (वाटिकन न्यूज) : भारत में कई काथलिक संस्थाएं कोविद-19 संक्रमणों की विनाशकारी दूसरी लहर के खिलाफ राष्ट्र की लड़ाई में अपनी सुविधाओं को उपलब्ध करा रही हैं, जो इसकी स्वास्थ्य प्रणाली को गंभीर रूप से प्रभावित कर रही है।

 रांची के काथलिक युवा

पूर्वी भारत के झारखंड राज्य की राजधानी, रांची महाधर्मप्रांत ने कोविद -19 रोगियों और उनके परिवारों के दर्द और पीड़ा को कम करने में मदद करने के लिए एक नया तरीका अपनाया है। इसने शहर के सबसे बड़े अस्पताल राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज अस्पताल (रिम्स) में भर्ती मरीजों के रिश्तेदारों के लिए मुफ्त भोजन सेवा शुरू की है।

यह सेवा रांची काथलिक यूथ द्वारा अपने अध्यक्ष कुलदीप तिर्की के नेतृत्व में अस्पताल के मैदान में आयोजित की जा रही है। चावल, दाल, चिकन और सब्जियों के साथ एक गर्म पैक लंच और बोतलबंद पानी जरूरतमंद लोगों को परोसा जा रहा है।

पहल का उद्घाटन करते हुए, महाधर्माधअयक्ष फेलिक्स टोप्पो ने कहा, "हमारे स्वर्गीय पिता हमारे लिए भले रहे हैं और यह भलाई को कम भाग्यशालियों के साथ साझा करने की जरूरत है, खासकर इस कठिन क्षण में।" सहायक धर्माधअयक्ष थेयोदोर मस्कारेन्हास ने कहा कि देश बहुत कठिन समय से गुजर रहा था, जहाँ महामारी रुकने का कोई लक्षण दिखाई नहीं दे रहा था। सामाजिक और सार्वजनिक सुरक्षा के सरकारी नियमों का पालन करने की आवश्यकता पर जोर देते हुए, उन्होंने कहा कि कलीसिया गरीबों के लिए काम करना जारी रखेगी। उन्होंने कहा, "हम अच्छे लोगों की उदारता के कारण ही जरूरतमंदों की मदद करने में सक्षम हैं, जो योगदान दे रहे हैं," "कलीसिया इस सेवा को दैनिक रूप से जारी रखेगा, क्योंकि रोगियों की देखभाल करने वालों के पास न तो अपने लिए समय है और न ही अपने लिए भोजन तैयार करने के लिए संसाधन है।"

रिम्स एक सरकारी अस्पताल है जिसमें ज्यादातर गरीब ही आते हैं, क्योंकि वे निजी अस्पतालों में इलाज नहीं करा सकते हैं। लंच सर्विस को हर सुरक्षा एहतियात के साथ किया जा रहा है।

रांची कलीसिया और तालाबंदी

भारत के समृद्ध राज्यों में झारखंड के लोग बड़ी संख्या में दिहाड़ी मजदूर हैं। जब प्रधान मंत्री ने 25 मार्च को अचानक तालाबंदी की घोषणा की, तो ये प्रवासी कर्मचारी अचानक नौकरियों, धन या आश्रय के बिना सड़क पर थे और घर लौटने में असमर्थ थे। रांची महाधर्मप्रांत ने अन्य राज्यों में अन्य धर्मप्रांतों से अपील की थी कि वे प्रवासियों को उनके भाग्य में नहीं छोड़ें, बल्कि उन्हें तलाश करें और उनकी मदद करें।

रांची में, काथलिक कलीसिया खाद्य राशन और अन्य आवश्यक वस्तुओं को गरीब परिवारों तक पहुंचाया । साइकिल रिक्शा चालक विशेष रूप से लॉकडाउन की चपेट में आ गए और कलीसिया ने उनकी मदद करने की भी कोशिश की।

भारत का संकट

कोविद -19 मामलों की भारत की आधिकारिक गणना 2 मिलयन को पार कर गई, पिछले तीन महीनों में लगभग दोगुनी हो गई, जबकि आधिकारिक तौर पर मौतों की संख्या 220,000 है। देश में प्रतिदिन नए पुष्टि किए जाने वाले मामलों की आधिकारिक औसत 1 अप्रैल को 65,000 से बढ़कर 370,000 हो गई है और प्रति दिन होने वाली मौतें आधिकारिक तौर पर 300 से 3,000 से अधिक हो गई हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने पिछले 24 घंटों में 382,847 नए मामले और 3,786 मौतें दर्ज कीं। संख्याएँ चौंकाती दिखाई देती हैं, लेकिन विशेषज्ञों का कहना है कि सही आंकड़े कहीं अधिक माने जाते हैं, क्योंकि कई मामलों और मौतों की सूचना नहीं है। I

मीडिया बड़े अस्पतालों के सामने बाहर मरने वाले लोगों और अंतिम संस्कार की जलती चिताओं से प्रकाशमान रात्रि  की छवियों और वीडियो से भरा हुआ है। भारत में संक्रमण फरवरी से बढ़ रहा है जब वायरस के अधिक संक्रामक रूपांतरों के साथ-साथ राज्य के चुनावों से पहले हिंदू धार्मिक त्योहारों और राजनीतिक रैलियों के लिए भारी भीड़ को इकट्ठा करने की अनुमति सरकार ने दी। बोतलबंद ऑक्सीजन और अस्पताल के बेड की कमी के कारण लोग मर रहे हैं।

05 May 2021, 14:30