खोज

Vatican News
मध्य अफ्रीकी गणराज्य में सेना द्वारा निगरानी मध्य अफ्रीकी गणराज्य में सेना द्वारा निगरानी  (AFP or licensors)

मध्य अफ्रीकी गणराज्य:कार विस्फोट में मिशनरी सहयोगी की मौत

एक मिशनरी सहयोगी एक विस्फोट के एकमात्र शिकार है, नीम के काथलिक मिशन की एक कार बम के उपर गुजरते समय विस्फोट हो गया। स्थानीय लोगों को संदेह है कि बम संभवतः क्षेत्र में सक्रिय विद्रोहियों द्वारा जमीन के अंदर रखी गई थी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मध्य अफ्रीकी गणराज्य, शनिवार 8 मई 2021 (वाटिकन न्यूज) : मध्य अफ्रीकी गणराज्य में नीम के काथलिक मिशन का एक वाहन बुधवार को एक बारूदी सुरंग में विस्फोट का शिकार हो गया, जिससे मिशन के एक युवा सहयोगी की मौत हो गई और एक पुरोहित सहित दो अन्य घायल हो गए।

नीम मिशन को येसु के पवित्र हृदय के धर्मसंघ, बेथराम को सौंपा गया है। नीम में यह धर्मसंघ 30 सालों से मौजूद है, जो एक छोटा अस्पताल चलाता है जिसमें एक ऑपरेशन रूम और मेटरनिटी वार्ड है। एक किंडरगार्टन और प्राइमरी स्कूल भी चलाता है जिसमें मुस्लिम छात्र भी पढ़ने आते हैं।

घातक विस्फोट

दुखद घटना की पुष्टि करते हुए, ब्योर के धर्माध्यक्ष मिरोस्लाव गुकावा ने बताया कि पल्ली पुरोहित फादर एरियाल्दो उरबानी (जो स्कूलों की देखभाल करते हैं) और मिशन के सदस्यों में से एक मिशन द्वारा संचालित एक स्कूल में भाग लेने के लिए कोलो गाँव गये थे। लौटते वक्त रास्ते में उन्होंने मिशन के एक अन्य सहयोगी से मुलाकात की, वे भी उनके साथ कार में यात्रा करने लगे, वह अपनी बहन से मिलने जा रहा था, जिसे मिशन अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

फादर उरबानी द्वारा सड़क पर खतरनाक सुरंगी बारुदों के बारे में चेतावनी देने  के बावजूद सहयोगी यात्रा करने लगे और दुर्भाग्यवश, नीम से लगभग 10 किलोमीटर, ज़काऊ गाँव के पास, एक बारूदी सुरंग के उपर से कार के गुजरते ही बम विस्फोट हुआ, जिससे गाँव की डिस्पेंसरी चलाने वाले युवक की मौत हो गई।

फादर उर्बानी, जो गाड़ी चला रहे थे, गंभीर रूप से घायल थे, लेकिन खतरे से बाहर थे, और अब मिशन अस्पताल में हैं। अन्य सहयोगी को भी मामूली चोटें आईं।

यह पहला घटना नहीं

धर्माध्क्ष गुकावा ने कहा, “सौभाग्य से, मिशनरी कार को क्षति पहुँचाने वाला बम अपेक्षाकृत कम विस्फोटक था। अगर यह एंटी-टैंक बम होता, तो अब हम तीन पीड़ितों का शोक मनाते। ”

उन्होंने आगे उल्लेख किया कि मिशन कार नीम और कोलो के बीच खतरनाक सड़क पर बारुदी सुरंग का यह तीसरा विस्फोट था। बम से टकराने वाली पहली कार एक व्यापारी की थी और दूसरी कार रूसी नागरिकों की थी।

स्थानीय सूत्रों का कहना है कि विद्रोहियों के गठबंधन डेस पैट्रियट्स ले चेंजमेंट (सीपीसी) लंबे समय से बारुदी सुरंगों और तात्कालिक उपकरणों को नीम और कोलो के बीच सड़क पर रखा है जहां विस्फोट हुआ था। निवासियों को इन प्रकरणों के संबंध में देश में भाड़े के सक्रिय रूसी सैनिकों पर भी संदेह है।

मध्य अफ्रीकी गणराज्य में संघर्ष

मध्य अफ्रीकी गणराज्य 2013 में सत्ता के हिंसक अधिग्रहण के बाद से संघर्ष के छिटपुट उछाल का सामना कर रहा है। शांति समझौतों के बाद भी सशस्त्र समूह एक दूसरे से लड़ते रहे और नागरिक आबादी को खतरे में डालते रहे।

दिसंबर 2020 के राष्ट्रपति चुनावों के लिए पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा बोज़ीज़ की उम्मीदवारी की अस्वीकृति के बाद देश की स्थिति हाल के दिनों में खराब हो गई है।

सीपीसी सहित सरकारी बलों और गैर-राज्य सशस्त्र समूहों के बीच की दुश्मनी ने पिछले महीनों में, देश को हिंसा के नए चक्र में धकेल दिया है।

सीपीसी का गठन दिसंबर 2020 में छह विद्रोही समूहों के विलय से किया गया था - सेलेका से चार (2013 में राष्ट्रपति फ्रांस्वा बोज़ीज़ को उखाड़ फेंकने वाला एक गठबंधन) और दो अन्य बलूका विरोधी लोग का समूह। (सेल्फ डिफेंस मिलिट्री मूल रूप से सेलेका से लड़ने के लिए बनाया गया था।)

देश में बढ़ती लड़ाई ने मानवीय संकट पैदा कर दिया है और इससे 2.8 मिलियन से अधिक लोगों का विस्थापन हुआ है, जिसमें कई लोग प्रजातांत्रिक गणराज्य कांगो, चाड, कैमरून और कांगो गणराज्य में शरण लिये हुए हैं।

08 May 2021, 13:05