खोज

Vatican News

फादर स्वामी:अपने जन्मदिन पर जेल में बंद पक्षी गाता है

जैसा कि फादर स्टेन स्वामी ने भारतीय जेल की कोठरी में अपना 84 वां जन्मदिन मनाया, कलीसिया के कई नेताओं ने उनकी रिहाई के लिए आवाज दी, उनके जेसुइट साथियों ने कहा कि "एक बंद पक्षी अभी भी गा सकता है।"

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मुंबई,बुधवार 28 अप्रैल 2021 (वाटिकन न्यूज) : यह निश्चित रूप उनकी चाह नहीं थी कि येसु समाजी फादर स्टेन स्वामी सोमवार 26 अप्रैल को अपना 84 वां जन्मदिन जेल में मनाये। 6 महीने से अधिक समय से,  पार्किंसन की बीमारी से पीड़ित भारतीय पुरोहित स्टेन स्वामी मुंबई में जेल की सलाखों के पीछे हैं।

उन्हें पिछले साल 8 अक्टूबर को रांची में गिरफ्तार किया गया था। उसका अपराध? माओवादी विद्रोहियों के साथ कथित संबंध जो महाराष्ट्र राज्य में 2018 के दंगे के पीछे हैं। उसकी दलील?  मैं दोषी नहीं हूँ। उसने अपनी गिरफ्तारी से पहले कहा था कि वह कभी भी भीमा कोरेगाँव नहीं गया था, जहाँ दंगे हुए थे।

फादर स्टेन ने अपना जीवन झारखंड और अन्य जगहों के आदिवासी लोगों की सेवा करने, उनके अधिकारों के लिए खड़े होने और उनकी ओर से आवाज उठाने में बिताया है।

न्याय के प्रति प्रतिबद्धता

अब, 200 दिन बाद और निर्दोष होने के बावजूद, नाजुक स्वास्थ्य को देखते हुए जमानत पर रिहाई के लिए कई अपील के बावजूद, फादर स्टेन जेल में बंद हैं।

उनके एक साथी जेसुइट और सामाजिक कार्यकर्ता, फादर सेड्रिक प्रकाश ने फादर स्टेन को एक खुला पत्र लिखा और उनके मिशन और सेवा को याद किया।

फादर सेड्रिक ने कहा, "हम न्याय के प्रति आपकी असीम प्रतिबद्धता पर गर्व करते हैं। वर्षों से आपने हम सभी को दिखाया है कि दूसरों के लिए जीने वाला व्यक्ति होने का क्या मतलब है, जो गैर-बातचीत योग्य, विश्वास-न्याय जनादेश में निहित है।"

उन्होंने कहा कि फादर स्टेन ने अपनी गरीबी के व्रत को पूर्ण रुप से जीया और उन्होंने अनगिनत लोगों को एकजुटता का सही अर्थ सिखाया है।

पिंजरे से एक गीत

फादर सेड्रिक ने कहा, "हालांकि वे जेल में हैं, फादर स्टेन अपने साथी कैदियों तक अपनी पहुंच बना सकते हैं।”

उसने कहा, “आपने क्रूर और अमानवीय प्रणाली को अपने को तोड़ने की अनुमति नहीं दी है!" "इसके बजाय, आप ऐसी सकारात्मकता और आशा के साथ हमें बताते है, कि एक बंद पक्षी भी गा सकता है।"

उस अंतिम पंक्ति को मुम्बई के येसु समाजियों ने धुन दिया, जिन्होंने फादर स्टैन के अभिवादन में एक रैप वीडियो जारी किया था। जिसका शीर्षक है, "ए केज बर्ड कैन स्टिल सिंग"

मुम्बई के येसु समाजियों ने फादर स्टेन को अपनी शुभकामनाएँ दी।

‘उत्सव की गतिविधियाँ

फादर स्टेन का जन्मदिन मनाने वाले अकेले येसुसमाजी नहीं थे।

सोमवार सुबह पवित्र मिस्सा बलिदान आयोजित किया गया था और शाम को प्रार्थना सभा की गई थी। त्रिची धर्मप्रांत की अपनी पल्ली में उनके भाई इरुदया स्वामी ने अपने परिवार के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर कहा: "प्रिय फादर, हम आपके साथ हैं। "

जेल में काथलिक कार्यकर्ता के सम्मान में रक्तदान अभियान और एक ट्विटरस्टॉर्म दिन भर की घटनाओं से भरा हुआ था। मानव अधिकार समूह तमिलनाडु के सभी प्रमुख शहरों में फादर स्टेन के चेहरे का पोस्टर लिए, उसकी रिहाई की मांग कर रहे थे।

फादर स्टेन स्वामी
फादर स्टेन स्वामी

दृढ़ निश्चय

केवल भारतीय काथलिक और कार्यकर्ता फादर स्टेन के जन्म दिन पर न्याय की मांग करने  वाले नहीं थे, बल्कि इंग्लैंड और वेल्स के धर्मध्यक्षों ने भी बुजुर्ग जेसुइट पुरोहित के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया।

क्लिफ्टन के धर्माध्यक्ष डेक्लान लैंग ने कहा कि पार्किन्सन से पीड़ित होने के बावजूद फादर स्टेन का उत्साही मिशनरी काम सभी के लिए एक साक्षी है।

उन्होंने कहा, "आपको हर दिन याद किया जाता है," "हाशिये के दलित और आदिवासी समुदायों के साथ आपका काम हम सभी के लिए प्रेरणा है और न्याय के लिए एक साहसी आधार है।"

लैंकेस्टर के धर्माध्यक्ष पॉल स्वार्बिक ने उनके विश्वास और दृढ़ संकल्प के लिए फादर स्टेन को धन्यवाद दिया।

उन्होंने कहा, "मैं मसीह को गरीबों की देखभाल के लिए कभी भूल नहीं सकता। फादर स्टेन आदिवासी लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध और दृढ़ है। वे आराम नहीं करेंगे, वे उनसे दूर नहीं जा सकते या उन्हें लूटने की अनुमति कभी नहीं देंगे।”

28 April 2021, 15:56