खोज

Vatican News
श्रीलंका में चरमपंथी हमलों के विरोध में प्रदर्शन श्रीलंका में चरमपंथी हमलों के विरोध में प्रदर्शन 

श्रीलंका कलीसिया द्वारा चरमपंथी समूहों पर प्रतिबंध की मांग

श्रीलंका में दो साल पहले ईस्टर रविवार को हुए आतंकवादी हमलों के अपराधियों को खोजने में सरकार की विफलता के बाद देश के धर्माध्यक्षों और पुरोहितों ने एक बयान जारी किया, जिसमें उन्होंने सरकार से मुस्लिम चरमपंथी समूहों पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोलम्बो, बुधवार 31 मार्च 2021 (वाटिकन न्यूज) : ईस्टर रविवार 2019 को आतंकवादी हमलों के अपराधियों को खोजने में सरकार की विफलता के बाद देश के धर्माध्यक्षों और पुरोहितों ने 29 मार्च को कार्डिनल माल्कम रंजीथ, सहायक धर्माध्यक्ष मैक्सवेल सिल्वा, जेडी एंथोनी और एंटोन रंजीथ और दूसरों द्वारा हस्ताक्षरित एक बयान जारी किया जिसमें उन्होंने सरकार से मुस्लिम चरमपंथी समूहों पर प्रतिबंध लगाने का आग्रह किया है जो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा हैं। इसके अलावा, उन्होंने "विभिन्न प्रकार के हथियारों की जब्ती की मांग की है जो देश में तस्करी, चल और अचल संपत्ति तथा वित्तीय संसाधनों की जब्ती और चरमपंथी आतंकवाद को बढ़ावा देते हैं।"

सरकार की कमजोरी

धर्माध्यक्षों ने अपने बयान में, इस "आश्चर्यजनक पहेली" की निंदा की।  ईस्टर संडे, 21 अप्रैल, 2019 को तीन गिरजाघरों और तीन लक्जरी होटलों में एक चरमपंथी समूह स्थानीय मुस्लिम राष्ट्रीय थोहेद जमथ द्वारा दावा किए जाने के बाद भी हमलों के अपराधियों को पकड़ने में दो साल बाद भी असफलता मिली, जिसमें कम से कम 279 लोगों की जान चली गई और 500 घायल हो गए।

धर्माध्यक्षों ने कहा, "उन सभी व्यक्तियों और संगठनों के पूर्ण जांच की आवश्यकता है, जिनके पास ज़हरान हाशिम के साथ संबंध हैं और आत्मघाती दस्ते का नेतृत्व करने का संदेह है" और कोलम्बो के एक लक्जरी होटल पर हमले में विदेशी भी मारे गए। उन्होंने कहा कि यह नहीं भूलना चाहिए कि इन हमलों में न केवल काथलिक प्रभावित थे, बल्कि सिंघली, तमिल, मुस्लिम, सामान्य नागरिक, मलेशियाई, बौद्ध और हिंदू थे। इन हमलों से पूरे देश को हुए आर्थिक नुकसान को नहीं भूल सकते।

उन्होंने इस बात को रेखांकित किया कि "यह सभी प्रशासकों और अधिकारियों की ज़िम्मेदारी है कि वे शांति बनाए रखें, कानून को लागू करें और प्रदर्शित करें कि कोई भी योजना बना रहा है, उसकी देखभाल करता है और इन आतंकवादी कृत्यों का समर्थन करता है, वह कानून से बच नहीं सकता है।"

इसलिए, काथलिक नेताओं ने "पर्याप्त जानकारी प्राप्त करने के बावजूद, इस हत्याकांड को रोकने के लिए जानबूझकर अपनी जिम्मेदारी को अनदेखा करने वाले राजनीतिक नेताओं और अधिकारियों के खिलाफ कानूनी कार्यवाई करने का आग्रह किया।

31 March 2021, 14:25