खोज

कहानी
Vatican News

पास्का की तैयारी में लौदातो सी क्रूस का रास्ता

हमारे आम घर की देखभाल पर संत पापा फ्राँसिस के विश्वपत्र के प्रकाश में चालीसा भक्ति क्रूस के मार्ग को फिर से लिखा गया। यह पहल सहयोग, साझाकरण और व्यक्तिगत जागरूकता से पैदा हुई: एक यात्रा जिसमें कोविद लॉकडाउन के दौरान प्रार्थना करने की आवश्यकता से उत्पन्न अनुभव और चिंतन शामिल हैं। इन चिंतनों को ग्लोबल काथलिक क्लाइमेट मूवमेंट के सदस्यों और क्यूब रेडियो द्वारा, सलेसियन यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ वेनिस और वेरोना के आधिकारिक रेडियो स्टेशन द्वारा सह-लेखन किया गया था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 24 अप्रैल 2021 (वाटिकन न्यूज) : कोविद -19 लॉकडाउन अवधि ने कई लोगों को अपने सहकर्मी समूहों से अलग-थलग, अकेलापन, परित्यक्त महसूस कराया। कई मामलों में, स्क्रीन दूसरों की उपस्थिति का मध्यस्थ बना। 2020 के सबसे कठोर महीनों के दौरान क्रूस का रास्ता धर्मविधि बनाने का विचार आया। क्रूस के मार्ग के चौदह मपकाम को संत पापा फ्राँसिस के विश्व पत्र लौदातो सी के साथ जोड़ा गया है। इसका केंद्रीय विचार भविष्य के लिए आशा की एक झलक बहाल करने हेतु मसीह की क्रूस पर मृत्यु और पुनरुत्थान को वापस लाना था। इस तरह, "लौदातो सी क्रूस रास्ता" का जन्म हुआ।

ग्लोबल काथलिक क्लाइमेट मूवमेंट की सचिव टीम
ग्लोबल काथलिक क्लाइमेट मूवमेंट की सचिव टीम

लौदातो सी के प्रकाश में क्रूस का मार्ग

2020 के चालीसा के दौरान, ग्लोबल काथलिक क्लाइमेट मूवमेंट (जीसीसीएम) ने लौदातो सी के प्रकाश में क्रूस के मार्ग को फिर से व्याख्या किया।  यह पिछले साल मार्च के बाद से एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वायरस की गंभीर स्थिति से उबरने की आशा रखने के लिए सामूहिक रूप से प्रभु से प्रार्थना करने और नए सिरे से विश्वास करने की आवश्यकता को देखते हुए वजूद में आया। इटली में लौदातो सी 'सर्कलों के समन्वयक, अंतोनियो कास्केतो ने बताया कि "प्रकाशन और मनन चिंतन के लेखन दोनों के प्रति जबरदस्त समर्पण था और इस समर्पण का फल हमारे नेटवर्क के माध्यम से क्रूस रास्ते में, सीधे भाग लेने वाले लोगों की बड़ी संख्या है। यह एक सांप्रदायिक यात्रा की शुरुआत है जो आज भी जारी है, मसीह द्वारा शुरू की गई एक यात्रा जिसने अपने कंधों पर क्रूस के माध्यम से हमें मुक्ति प्रदान किया।”

इतालवी और अफ्रीकी जीसीसीएम के बीच तालमेल बुनियादी था। जीसीसीएम संचार कार्यालय, कई अनुप्राणदाताओं और कई इतालवी सर्कल के प्रतिनिधियों द्वारा समन्वित किया गया।

क्रूस मार्ग की यात्रा के प्रत्येक मुकाम के साथ जुड़े मनन चिंतन को लौदातो सी के एक विषय के साथ जोड़ा गया और एक विशेष अनुभव महामारी के कारण संपूर्ण पृथ्वी की भेद्यता और पीड़ा पर चिंतन था। उदाहरण के लिए, वेरोनिका ने येसु के चेहरे से आँसू पोंछा,यह  सीरिया के गरीबों के आँसू से जुड़ा था। क्रूस पर मसीह की मृत्यु ने कोरोना वायरस के कारण हुई कई मौतों पर एक चिंतन पेश किया, जिसने दुनिया को अपने घुटनों पर ला दिया।

अंतोनियो कास्केतो ‘लौदातो सी’ अनुप्राणदाता के रूप में असीसी में काम करते हैं और इतालवी जीसीसीएम प्रोग्राम समन्वयक होने के अलावा, वे "इको-आध्यात्मिकता" नामक एक अंतरराष्ट्रीय टीम के सदस्य हैं। उसने क्रूस मार्ग यात्रा के चिंतन के प्रारूप का समन्वय किया। पहल का लक्ष्य लौदोतो सी में संत पापा फ्राँसिस के प्रमुख निमंत्रणों में से एक के साथ अच्छी तरह सामंजस्य स्थापित करता है: "दुनिया के दर्द से अवगत होना, इसे अपने निजी दुख के रुप में देखना और यह पता लगाना कि हम में से प्रत्येक इसे कम करने के लिए क्या कर सकता है।”(परिच्छेद 19)। इससे यह विकल्प पैदा हुआ कि "इस दर्दनाक जागरूकता को पृथ्वी के खिलाफ भी हमारे पाप के रूप में परिवर्तित करने के लिए", कास्केतो गवाही देते है और "हमें पृथ्वी और गरीबों के क्रंदन को सुनने का आग्रह करते हैं।"

कार्डिनल जोआओ ब्राज़ दी एविज़, अंतोनियो कास्केतो, सेसिलिया डाल'ओलियो और तोमास इनसुआ
कार्डिनल जोआओ ब्राज़ दी एविज़, अंतोनियो कास्केतो, सेसिलिया डाल'ओलियो और तोमास इनसुआ

मानवता के बीच संबंध/महामारी के दौरान सृष्टि

वर्तमान महामारी के आलोक में लौदातो सी को फिर से पढ़ना, विश्व पत्र में निहित अभूतपूर्व दृष्टिकोण की पुष्टि करता है। जीसीसीएम द्वारा संकलित क्रूस मार्ग की यात्रा में, आर्थिक और सामाजिक प्रथाओं के कलंक, गरीबों और मानव अस्तित्व से संबंधित विभिन्न कमजोरियों पर ध्यान दिया गया है, ये वे सभी पहलू हैं जो जागरूकता को फिर से स्थापित करने में मदद कर सकते हैं, इस उम्मीद में कि लोग समझ सकें, यहां तक कि एक छोटा सा व्यक्तिगत संकेत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदलाव ला सकता है।

अंतिम मुकाम का चिंतन विशेष रूप से मानवता और सृष्टि के बीच संबंधों पर केंद्रित है जो हमारे घरों तक सीमित होने के बाद काफी बदल गया है। उस पीड़ा से आशा की एक किरण उभरी: “यह महामारी एक वास्तविक मोड़ है। हमें कार्य करने की जरूरत है और साथ ही इस कठिनाई से अपने लिए सीख भी लेना है ताकि एक नई शुरुआत हो सके।”

सभी ने महामारी के समय जो कठिनाई अनुभव की है, वह पर्यावरण जागरूकता के स्तर पर एक अनमोल शिक्षण में तब्दील हो सकती है, एक ऐसी चुनौती जो हमारे सामान्य घर की देखभाल के संबंध में मानवता को विकसित और परिपक्व बना सकती है। प्रकृति को खतरे के रूप में नहीं, बल्कि एक सहयोगी के रूप में देखना आवश्यक है, इस कारण से, जीसीसीएम द्वारा प्रस्तावित ख्रीस्त के क्रूस यात्रा धर्मविधि कार्यक्रम अपने आप से, आस-पास के लोगों और पर्यावरण के साथ सामंजस्य की यात्रा है।

क्रिमिनोलॉजिस्ट मार्को मोनज़ानी
क्रिमिनोलॉजिस्ट मार्को मोनज़ानी

प्रकृति के खिलाफ अपराध

पृथ्वी को नुकसान पहुंचाने वाले मानवीय कार्यों को अक्सर न्यायिक स्तर पर भी वास्तविक अपराध माना जाता है। ज्यूरिस्ट, क्रिमिनोलॉजिस्ट और यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर मार्को मोनज़ानी इसकी पुष्टि करते हैं। उन्होंने क्रूस मार्ग यात्रा के पहले मुकाम के लिए चिंतन लिखा: “पिलातुस की उदासीनता हमारे समय के दृष्टिकोण को दर्शाती है, जो कि एक निष्कर्षण अर्थव्यवस्था के कारण होने वाले अपराध और अन्याय हैं जो हमारे सामान्य घर और हमारे भाइयों और बहनों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। यह ज्वार के खिलाफ जाने के डर का फल है, क्योंकि ऐसा करने से लागत काफी कम हो जाती है और इसलिए पिलातुस अपनी चुप्पी के साथ, एक निर्दोष व्यक्ति को सूली पर चढ़ा दिया।”

उदाहरण के लिए, प्रोफ़ेसर मोनज़ानी नोट करते हैं, भूमि पर प्राकृतिक संसाधनों की बहुराष्ट्रीय कंपनियों द्वारा किया गया अपभ्रंश विनियोग एक गंभीर अपराध है, जिस पर स्वदेशी जनजातियाँ रहती हैं। एमिलियो सी. विआनो के सह-लेखक "मादरे तेर्रा ए स्तांका" ("धरती माता थक गयी है") का निबंध विशेष रूप से पृथ्वी के खिलाफ अपराधों के लिए समर्पित है। इस तथ्य को सामने लाया गया कि पर्यावरणीय विकल्पों के शिकार लोगों को अभी भी सार्वजनिक राय और नियंत्रण समूहों द्वारा कम ही जाना जाता है और राजनीतिक स्तर पर शायद ही इन पर विचार किया जाता है। जैसा कि आज आयोजित किया जाता है, समाज पीड़ितों की तलाश में बाहर नहीं जाता है। पीड़ितों को स्वयं अपनी समस्या की ओर ध्यान दिलाने की आवश्यकता है जिसे समाज अपने दम पर नहीं निपट सकता।

मार्को मोनज़ानी, जो कि एसोसिएशन ऑफ़ इटालियन क्रिमिनोलॉजिस्टस (एआईसी) के अध्यक्ष और इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ़ क्रिमिनोलॉजी (आईएससी) के निदेशक मंडल के सदस्य हैं, को उम्मीद है कि जल्द ही बदलाव आ सकता है और सबसे कमजोर, जिनकी रक्षा करने की आवश्यकता है, उनपर हमला करने के बजाय सम्मान और समर्थन किया जाएगा, ताकि "धरती माता एक ऐसी जगह बन जाए जो सबकी और सभी के लिए हो। उन लोगों की भलाई को ध्यान में रखा जाएगा, जो हमारे बाद आएंगे।"

क्यूब रेडियो ग्राफिक टीम
क्यूब रेडियो ग्राफिक टीम

हर मुकाम में एक युवा

क्यूब रेडियो, सलेसियन यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट ऑफ वेनिस और वेरोना (आईयूएसवीइ) के आधिकारिक रेडियो स्टेशन, जीसीसीएम के साथ चालीसा 2021 के लिए क्रूस मार्ग यात्रा का एक अनूठा डिजिटल संस्करण बनाने में सहयोग किया। चौदह मुकामों के चिंतन और बाइबिल वचनों के लिए, उन्होंने ग्राफिक्स की एक श्रृंखला को जोड़ा, सामाजिक नेटवर्क पर साझा किए जाने के लिए अनुकूलित किया। "इस सेवा के साथ, हमने कई युवाओं की पेशकश की।" आईयूएसवीइ के निदेशक, फादर निकोला जाकोपिनी बताते हैं, "स्वास्थ्य संकट द्वारा लगाए गए प्रतिबंध, इस चालीसा काल को अधिक से अधिक चिंतन और प्रार्थना करने का अवसर देता है।"।

समकालीन कपड़े पहने युवा को प्रत्येक मुकाम में डाला गया है, जो मसीह की पीड़ा में व्यक्तिगत रूप से भाग लेने का प्रतीक है और सबसे कमजोर लोगों के लिए उनकी निकटता है। "हर बार क्रूस की हरी लकड़ी दिखाई देती है", क्यूब रेडियो की ग्राफिक टीम के समन्वयक, मारिका पादोआन बताते हैं, "एक हरे रंग का अंकुर भी है, जो पुनरुत्थान में आशा का प्रतीक है, साथ ही एजेकियल की पुस्तक और संत लूकस के सुसमाचार से एक संदर्भ भी है: "अगर हरी लकड़ी का यह हाल है तो सूखी का क्या होगा?" (लूक 23:31)। आईयूएसवीइ के अकादमिक रेडियो स्टेशन के कामकाजी समूह ने कई प्रोफेसरों के साथ मिलकर इस डिजिटल प्रोजेक्ट को विकसित किया, जिसने ग्राफिक्स के निर्माण में टीम का समर्थन किया और उनकी प्रेरितिक विनयशीलता का पर्यवेक्षण किया: लूका क्यावेगातो, फेदरिको गोतार्दो और कार्लो मेनेघेत्ती और मिशेल लुनार्दी, जो संस्थान के लिए संचार का प्रबंधन करते हैं

क्रूस मार्ग की यात्रा क्यूब रेडियो के सोशल मीडिया अकाउंट्स और समग्र मानव विकास को बढ़ावा देने वाले परमधर्मपीठीय विभाग के पारिस्थितिकी और सृष्टि खंड पर प्रकाशित किया गया है।

24 March 2021, 15:53