खोज

कहानी
Vatican News

पृथ्वी के प्रेम से सृष्टि के लिए पैदा होता है सम्मान

फोरनोवेकियो मध्य इटली में एक अनूठा फार्म है। यह वितेरबो प्रांत में स्थित है। प्राचीन अनाज के उत्पादन से लेकर अपने कर्मचारियों के साथ व्यवहार, सब कुछ हमारे सामान्य घर की सुरक्षा के नैतिकता में प्रवेश करता है। क्लाउडियो पालियाच्चा वाटिकन न्यूज को अपनी कहानी बताते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वितेरबो, बुधवार 31 मार्च 2021 ( वाटिकन न्यूज) :  कई साल पहले 1900 के दशक की शुरुआत में एक साझेदारी का जन्म हुआ था, जो अब भी खत्म नहीं हुआ है बल्कि, यह हमेशा अपने आप को नवीनीकृत कर रहा है और गहरी और अधिक टिकाऊ जड़ों के साथ एक मजबूत और बड़ी वास्तविकता में विकसित हो रहा है। वितेरबो के प्रांत में मोंटेफीस्कॉन में फोरनोवेकियो फार्म की कहानी पृथ्वी के लिए एक गहरे प्रेम से पैदा हुई थी। अपने बड़े परिवार के किसान मूल की खोज करने के लिए, इसके संस्थापक, क्लाउडियो पालियाच्चा ने इसे शुरु किया।

दूसरों को प्यार से पालना

क्लाउडियो ने कहा, "हम पीढ़ियों से किसान रहे हैं। मेरे परदादा के पास ज़मीन का एक बड़ा भूखंड था जिसे वह घोड़े पर बैठकर सर्वेक्षण करते थे। फिर जमीन धीरे-धीरे पिता से पुत्रों तक विभाजित होता गया और अंत में मेरे पिता को सौंप दिया गया। मेरे पिता को मिली जमीन इतनी छोटी थी कि जमीन पर काम करके जैसे तैसे निर्वाह होता था। मेरे पिता ने खेती न करके कहीं ओर जाकर दूसरा करने का विचार किया। परंतु हम भाइयों ने जमीन पर काम करने का निश्चय किया। वास्तव में हम हमारी जड़ों की ओर लौटना चाहते थे। इसके बाद मैंने एक और फैसला किया कि मैं न केवल खेती करुँगा, बल्कि प्रेम से हर फसल को दूसरों के लिए पौष्टिक बनाने का प्रयास करुँगा।

फोरनोवेकियो फार्म जहां प्राचीन अनाज की खेती होती है
फोरनोवेकियो फार्म जहां प्राचीन अनाज की खेती होती है

जागरूक खेती

क्लाउडियो ने कहा, "1994 में मैंने फार्म की स्थापना की थी, मैंने रसायनों का उपयोग न कर जैविक खेती करना शुरु किया।  मुझे इस प्रकार की खेती से सकारात्मक प्रभाव दिखाई देने लगे। उसके बाद, मैंने अन्य खाद्य उत्पादकों के लिए एक उदाहरण बनने हेतु इसे बढ़ावा देना शुरू किया। मैंने अपने आप से पूछना शुरू कर दिया कि अगर हम खेती के स्थायी रूपों को नहीं अपनाते हैं, तो पृथ्वी पर कितना बोझ पड़ेगा?  वास्तव में, यदि हम भूमि का बहुत ज्यादा दोहन करते हैं, उसका लगातार उपभोग करते हैं, तो हम उस बिंदु पर पहुंचेंगे, जब भूमि को हमें लिए देने के लिए कुछ भी नहीं रहेगा। इसके बजाय वैश्विक स्तर पर जागरूक खेती करके हम सृष्टि की रक्षा कर सकते हैं। लेकिन हमें साथ मिलकर काम करने की जरूरत है।”

क्लाउडियो ऑर्गेनिक खेती तक नहीं रुका, उसने अनाजों के मूल में जाने का प्रयास किया।  उसने प्रकृति द्वारा बनाए गए अनाज के बारे अपने अध्ययन को व्यापक किया। ये अनाज अपना बचाव करने में सक्षम हैं। "प्राचीन अनाज, "अनायास पैदा होने वाले बीज हैं, जो खुद को अनुकूलित कर चुके हैं, यह उनकी प्रकृति का हिस्सा है और उस मिट्टी का है जहां उनकी खेती की जाती है। वे परजीवियों से स्वाभाविक रूप से अपना बचाव करने में सक्षम हैं, इसलिए रसायन या कीटनाशक दवा आवश्यक नहीं है।”

संत पापा फ्राँसिस ने अपने विश्वपत्र, लॉदातो सी में पर्यावरण शिक्षा के विषय पर चिंतन किया है। "जहां शुरुआत में यह मुख्य रूप से वैज्ञानिक जानकारी, चेतना-वृद्धि और पर्यावरणीय जोखिमों की रोकथाम पर केंद्रित था,"संत  पापा ने लिखा, "यह अब एक उपयोगितावादी मानसिकता में घिरी, आधुनिकता के 'मिथकों' की आलोचना को शामिल करता है।" यह प्रकृति और अन्य जीवित प्राणियों के साथ, ईश्वर के साथ, दूसरों के साथ, और अपने भीतर सद्भाव स्थापित करके पारिस्थितिक संतुलन के विभिन्न स्तरों को पुनर्स्थापित करने का भी प्रयास करता है।

अपने खेतों में क्लाउडियो
अपने खेतों में क्लाउडियो

एक बड़ा परिवार

जैसे जैसे समय बीतता गया, क्लाउडियो अपनी खेती का विस्तार करता गया। नतीजतन, श्रमिकों की आवश्यकता भी बढ़ गई। सामान्य नियोक्ता / श्रमिकों के संबंध से परे एक बार फिर से कुछ नया बनाने का विचार आया। क्लाउडियो ने कहा,  "जब मैं 2005 में शुरू किया था", , "मैं और मेरी पत्नी अकेले काम करते थे। फिर परियोजना का विस्तार हुआ। हमने तुरंत मशीनरी शुरू करने का फैसला नहीं किया, बल्कि खुद खेत में काम करना शुरु किया। यह एक नैतिक विकल्प भी था क्योंकि हम अधिक से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करना चाहते थे और इस तरह एक बड़ा परिवार बना सकते थे। कोई समय निर्धारित नहीं होगा, लेकिन आगे ले जाने के लिए एक परियोजना होगी, जहां हर कोई अपने विभिन्न कामों को आसानी से पूरा कर सकता है जो कि उनके लिए सबसे सुविधाजनक है। उदाहरण के लिए, अगर आज मेरे पारिवार में कोई विशेष काम है, तो मैं एक घंटे बाद आता हूँ और शायद शाम को थोड़ी देर रुकता हूँ। यह आपसी संबंध को बढ़ावा देता है, जैसे एक बड़े परिवार में जिसमें हर कोई काम के बाहर भी एकजुट होता है। मेरा मानना ​​है कि इस मानव संपर्क को फिर से परिभाषित करना शायद सबसे बड़ा लक्ष्य है जिसे मैंने हासिल किया है ”।

क्लाउडियो अपने बचपन की यादों को साझा करता है, काम खत्म होने के बाद शाम को अपने दादा-दादी से कहानियां सुनता था। शाम को परिवार के लोग आंगन में आग के चारों ओर साथ इकट्ठा होते थे और हर कोई दिन के दौरान क्या हुआ उसे साझा करते थे। क्लाउडियो ने कहा, "यह वास्तव में एक बड़ा परिवार था", “छह या सात परिवार थे जो खेत पर एक साथ काम करते थे। मैं उस परंपरा को थोड़ा ठीक करना चाहता था क्योंकि यह मेरे लिए मानवीय पहलू को फिर से तैयार करने के लिए मौलिक था, केवल उत्पादन या पैसा बनाने के लिए नहीं। ”

पास्ता का उत्पादन खेत में उगाए गए प्राचीन अनाज के साथ किया जाता है
पास्ता का उत्पादन खेत में उगाए गए प्राचीन अनाज के साथ किया जाता है

व्यक्ति से जुड़ी अर्थव्यवस्था

‘मानव की सेवा में अर्थव्यवस्था न कि अर्थव्यवस्था की सेवा में मानव’, संत पापा फ्राँसिस के शिक्षण में एक बार फिर से गूँज उठती है। क्लाउडियो कहते हैं "इस युग में, जिसमें हम रहते हैं,  मानवीय गरिमा और नैतिकता को रौंद दिया गया है। कुछ लोग दूसरों को अपना पायदान बनाते हैं और यह वास्तव में मानवीय कमजोरी की अभिव्यक्ति है। इसके बजाय, हमें उस स्थिति में पहुंचना चाहिए जिसमें हम सभी समान हैं। अगर किसी के पास सब कुछ है तो उसे दूसरों के साथ साझा करना सीखना चाहिए। मेरा मानना है कि यह एक दिन के कठिन काम के अंत में अधिक संतुष्टि देता है।

31 March 2021, 13:58