खोज

Vatican News
म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ  विरोध प्रदर्शन म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन   (ANSA)

म्यांमार तख्तापलटःधर्माध्यक्षों द्वारा नेताओं की रिहाई की मांग

म्यांमार के धर्माध्यक्षों ने सैन्य तख्तापलट के दौरान हिरासत में ली गई आंग सान सू की सहित अन्य नेताओं की तत्काल रिहाई करने की मांग की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

म्यांमार, बुधवार 10 फरवरी 2021(रेई) : "हम सभी ख्रीस्तियों से अपील करते हैं कि वे देश में शांति, न्याय और विकास के लिए उपवास और प्रार्थना करें।" म्यांमार धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सीबीसीएम) ने 9 फरवरी को जारी एक बयान में कहा। सीबीसीएम ने सेना से शांतिपूर्वक कार्य करने तथा तुरंत आंग सान सू की और अन्य नेताओं को रिहा करने का आग्रह किया। 1 फरवरी को एक साल के लिए सेना के सत्ता में आने के बाद इस आपातकाल की स्थिति से चिंतित धर्माध्यक्षों ने नागरिकों से सभी प्रकार की हिंसा और भेदभाव से दूर रहने का आह्वान किया और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से म्यांमार के लोगों का मदद करने को कहा।

 पूरे देश में विरोध प्रदर्शन

तख्तापलट के खिलाफ पूरे देश में विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। सेना ने नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी के नेतृत्व वाली सरकार को हटा दिया है। बड़े समारोहों पर प्रतिबंध होते हुए भी 9 फरवरी को न्येपीटाव, यांगून, मांडले और अन्य शहरों में हजारों लोग सड़कों पर उतर आए। न्येपीटाव में, पुलिस ने पानी, आंसू गैस और गोला-बारूद का इस्तेमाल किया। यहां, मीडिया के अनुसार प्रदर्शनों के दौरान, एक महिला की मौत हो गई, एक अन्य को अस्पताल में भर्ती कराया गया और कम से कम 60 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। संयुक्त राष्ट्र ने कानून प्रवर्तन अधिकारियों द्वारा बल के उपयोग की निंदा की और लोगों को शांतिपूर्वक और स्वतंत्र रूप से अपने विचार व्यक्त करने के अधिकार का दावा किया।

धर्माध्यक्षों के निर्देश

म्यांमार धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष, कार्डिनल चार्ल्स बो और महासचिव जॉन सॉ याव हान द्वारा हस्ताक्षरित पत्र में, धर्माध्यक्षों ने कहा कि पुरोहितों, धर्मबहनों और सेमिनारियों को काथलिक कलीसिया के झंडे साथ या काथलिक प्रतीकों के साथ या काथलिक संगठनों के नाम के झंडे के साथ सड़क प्रदर्शन करने की अनुमति नहीं है। वे केवल म्यांमार के नागरिकों के रूप में अपना समर्थन व्यक्त कर सकते हैं। इस निर्देश को देश के काथलिकों से विरोधी प्रतिक्रिया मिली।

10 February 2021, 15:08