खोज

Vatican News
म्यांमार के काथलिक म्यांमार के काथलिक   (AFP or licensors)

तख्तापलट के बाद काथलिकों द्वारा शांति हेतु उपवास प्रार्थना

1 फरवरी को सैन्य तख्तापलट से उत्पन्न राष्ट्र के संकट के शांतिपूर्ण समाधान के लिए म्यांमार के काथलिक धर्माध्यक्षों ने लिए विश्वासियों से 7 फरवरी को प्रार्थना, उपवास और आराधना में समय बिताने काआग्रह किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

म्यांमार, शनिवार 6 फरवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : म्यांमार के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सीबीसीएम), देश की धर्मसमाजी संस्थाओं और देश के 16 धर्मप्रांतों के काथलिकों ने 7 फरवरी को प्रार्थना और उपवास का दिन रखा है।

सीबीसीएम के महासचिव एवं यांगून महाधर्मप्रांत के सहायक धर्माध्यक्ष जॉन साव यॉ हान ने एक बयान में कहा, "देश में शांति लाने के इरादे से 7 फरवरी को सभी पुरोहित देश में शांति हेतु विशेष मतलब से पवित्र मिस्सा अर्पित करेंगे और सभी काथलिक उस दिन प्रार्थना और उपवास में बिताएंगे।"

निरोध

राष्ट्र के नेता राष्ट्रपति विन म्यंट और आंग सान सू की के साथ, अन्य लोकतांत्रिक निर्वाचित नेशनल लीग फॉर डेमोक्रेसी (एनएलडी) पार्टी के नेताओं के हाथों से, म्यांमार की सेना ने 1 फरवरी को सत्ता पर कब्जा कर लिया।

प्रजातंत्र सरकार और शक्तिशाली सेना के बीच बढ़ते तनाव के बाद तख्तापलट हुआ, जिसमें दावा किया गया कि नवंबर का आम चुनाव कपटपूर्ण था जिसमें एनएलडी ने भारी बहुमत से जीता था।

सू ची के करीबी सहयोगी और एनएलडी में प्रमुख व्यक्ति विन हेटिन को 5 फरवरी को उनके यांगून निवास पर गिरफ्तार किया गया था और सुदूर राजधानी नैपीडॉ लाया गया था, जहां रिपोर्ट कहती है कि अपदस्थ नेताओं को अलग से हिरासत में लिया जा रहा है।

देश के धर्माध्यक्षीय सम्मेलनके अध्यक्ष और यांगून के कार्डिनल चार्ल्स बो, ने धर्माध्यक्षों को अपने प्रवचनों में म्यांमार के लोगों, सैन्य बलों और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के लोगों से अपील करने को कहा है।

'खोया हुआ अवसर'

3 फरवरी की अपील में, कार्डिनल बो ने सेना को बताया कि "निष्पक्ष पर्यवेक्षकों की मौजूदगी में बातचीत के द्वारा चुनाव अनियमितताओं के आरोपों को हल किया जा सकता है"। उन्होंने खेद व्यक्त किया कि "एक महान अवसर खो गया," और "दुनिया के कई नेताओं ने इस चौंकाने वाले कदम की निंदा की है।"

कार्डिनल बो,जो एशिया के धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के संघ(एफएबीसी) के अध्यक्ष भी हैं, ने कहा, "हम सभी विवादों को बातचीत के माध्यम से हल कर सकते हैं," उन्होंने तख्तापलट की निंदा की और सू की सहित सभी बंदियों की रिहाई का आह्वान किया। शांत रहने और हिंसा से बचने की अपील करते हुए, उन्होंने जोर देकर कहा कि प्यार, सच्चाई, न्याय, शांति और सुलह के माध्यम से आम अच्छाई हासिल की जा सकती है।

संयुक्त राष्ट्र की चिंता

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने तख्तापलट के बारे में गहरी चिंता व्यक्त की है और हिरासत में लिए गए सभी लोगों की तत्काल रिहाई के लिए कहा है। 15-सदस्यीय परिषद ने 4 फरवरी को एक बयान में कहा, "वे लोकतांत्रिक संस्थानों और प्रक्रियाओं को बनाए रखने, हिंसा से बचने और मानवाधिकारों, मौलिक स्वतंत्रता और कानून के शासन का पूरी तरह से सम्मान करने की आवश्यकता पर बल देते हैं।"

उन्होंने म्यांमार के लोगों की इच्छा और हितों के अनुसार बातचीत और सुलह के मार्ग को प्रोत्साहित किया।

इंग्लैंड और वेल्स की कलीसिया

कई ख्रीस्तियों और कलीसिया के कई नेताओं जैसे कि कलीसियाओं की विश्व परिषद (डब्ल्यूसीसी) और एशिया के ख्रीस्तीय सम्मेलन (सीसीए) ने भी म्यांमार के नवीनतम संकट के शांतिपूर्ण समाधान के लिए समर्थन व्यक्त किया है।

वेस्टमिंस्टर के कार्डिनल विंसेंट निकोलस ने कार्डिनल बो के "अहिंसा, लोकतंत्र और संवाद" का समर्थन किया है।

उन्होंने सभी राजनीतिक कैदियों की रिहाई और वास्तविक सुलह के लिए म्यांमार के लोगों के अपने भविष्य को निर्धारित करने के अधिकार को मान्यता देते हुए, " शांति के लिए" अपने धर्मप्रांत के विश्वासियों के प्रार्थनात्मक समर्थन का आश्वासन दिया।

संत पापा फ्राँसिस ने नवंबर 2015 में म्यांमार का दौरा किया, जिसके दौरान उन्होंने अधिक सहिष्णु, समावेशी और शांतिपूर्ण समाज को बढ़ावा देने के लिए देश के राजनीतिक और धार्मिक नेताओं के साथ बैठकें कीं।

म्यांमार की 53 मिलियन जनसंख्या में से 88 प्रतिशत आबादी बौद्ध है। ख्रीस्तीय 6.2 प्रतिशत ख्रीस्तीय (काथलिक 50,000), मुसलमान 4.3 प्रतिशत और शेष हिंदू और अनिमिस्ट हैं।

06 February 2021, 14:26