खोज

Vatican News
अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थक हिंसक प्रदर्शन करते हुए अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के समर्थक हिंसक प्रदर्शन करते हुए 

अमरीकी धर्माध्यक्षों ने कैपिटल पर हमले की निंदा की

अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने अमरीका की राजधानी वॉशिंगटन में हुई हिंसा की निंदा की है जहाँ चार लोगों की मौत हुई है और कई लोग घायल हो गये हैं। उन्होंने शांति हेतु प्रार्थना का आह्वान किया।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

अमरीका, बृहस्पतिवार, 7 जनवरी 2021 (वीएनएस)- अमरीका के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष जोश गोम्स ने बुधवार को एक वक्तव्य में कहा, "मैं भले लोगों के साथ अमरीका की राजधानी में हुई आज की हिंसा की निंदा करता हूँ।" हिंसा जिसने बुधवार को राजधानी को घेर लिया था, चार लोगों की मौत हो गई। 

महाधर्माध्यक्ष ने कहा, "यह अमरीकियों के अनुरूप नहीं है। मैं कॉन्ग्रेस के सदस्यों, कपिटल स्टाफ, पुलिस एवं उन सभी लोगों के लिए प्रार्थना करता हूँ जो सार्वजनिक व्यवस्था एवं सुरक्षा बनाये रखने के लिए कार्य कर रहे हैं।"

महाधर्माध्यक्ष जोश गोम्स का यह बयान उस अराजकता के बाद आया है जिसमें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सैकड़ों समर्थकों ने उनकी चुनावी हार को पलटने के लिए बुधवार को अमेरिकी कैपिटल भवन में हंगामा किया। प्रदर्शनकारियों ने हॉल में पुलिस से लड़ाई की और नवनियुक्त राष्ट्रपति जो बाइडन की जीत का सर्टिफिकेट दिलाने में घंटों की देरी की।

पुलिस ने कहा कि हंगामा के दौरान चार लोगों की मौत हो गई- एक बंदूक लगने से एवं तीन अन्य मेडिकल आपात स्थिति के कारण और 52 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।  

ईश्वर के अधीन एक राष्ट्र के रूप में एक साथ आने की अपील

महाधर्माध्यक्ष गोम्स ने गौर किया कि सत्ता का शांतिपूर्ण हस्तांतरण इस महान राष्ट्र की पहचान है। इस कठिन परिस्थिति में हमें प्रजातंत्र के मूल्यों एवं सिद्धांतों को अपनाते हुए ईश्वर के अधीन एक राष्ट्र के रूप में एक साथ आना है।  

हंगामा को देखते हुए वॉशिंगटन के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल विलटन ग्रेगोरी ने भी एक बयान जारी किया है जिसमें उन्होंने अमरीका की राजधानी को "पवित्र भूमि" और एक ऐसा स्थान बतलाया है जहाँ पिछली सदियों में विभिन्न प्रकार के विचारों का प्रतिनिधित्व करते हुए सही तरीके से प्रदर्शन किया था।

उन्होंने कहा, "हम अमरीकियों को इस स्थान का कद्र करना चाहिए जहाँ हमारे देश के कानून एवं सिद्धांत पर विचार-विमार्श एवं निर्णय किये जाते हैं। हमें अपमानित महसूस करना चाहिए जब स्वतंत्रता की विरासत के मंदिर का निरादर एवं अपमान किया गया है।" कार्डिनल ने कहा कि वे नवनियुक्त अधिकारियों, स्टाफ, कर्मचारियों, प्रदर्शनकारियों, कानून प्रवर्तन कर्मियों और अमरीका की राजधानी के पड़ोसियों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।  

शांति के लिए प्रार्थना

उन्होंने सभी भली इच्छा रखनेवाले लोगों से आग्रह किया है कि वे इस कठिन समय में कुछ देर मौन रहकर शांति के लिए प्रार्थना करें और नागरिकों से अपील की है कि उस विभाजनकारी स्वर को बदलें जो इन दिनों राजनीतिक बातचीत पर हावी है।

उन्होंने कहा कि "जो लोग भड़काऊ बयानबाजी का सहारा लेते हैं, उन्हें हमारे राष्ट्र में बढ़ती हिंसा को भड़काने की जिम्मेदारी स्वीकार करनी चाहिए।" विश्वासियों को याद दिलाया जाता है कि वे "जिनके साथ असहमत हैं उन लोगों की मानवीय गरिमा को स्वीकार करने और उनके साथ काम करने के लिए बुलाये गये हैं ताकि सभी का कल्याण हो।"

शिकागो के महाधर्माध्यक्ष ब्लेज कुपिक ने काथलिकों एवं भली इच्छा रखनेवाले सभी लोगों का आह्वान किया है कि वे शांति के लिए प्रार्थना करें।

राष्ट्रीय अपमान का समय

महाधर्माध्यक्ष कुपिक ने ट्वीट प्रेषित कर कहा है कि "राजधानी में आज जो हो रहा है वह अमरीका के किसी भी देशभक्त एवं काथलिक विश्वासी के अंतःकरण को झकझोर देगा।"

"दुनिया की निगाहें डरावनी दिखती हैं क्योंकि हम इस राष्ट्रीय अपमान से पीड़ित हैं।"

उन्होंने कहा कि कई महीनों से अमेरिकियों ने "हमारी सरकार की व्यवस्था के मानदंडों का जानबूझकर कटाव" देखा है और शांतिपूर्ण विरोध को एक पवित्र अधिकार कहा है, जो मानव इतिहास में सामाजिक प्रगति का एक अनिवार्य घटक रहा है।

कार्डिनल ने कहा कि हिंसा के विपरीत है। गलत काम के लिए हिंसा का सहारा लेना बुरा है कृपया मेरे साथ उस महिला के लिए प्रार्थना करें जिसकी मौत हो गई है और कानून प्रवर्तन के लिए जो भीड़ के नियम के खिलाफ प्रदर्शन करते हैं।

07 January 2021, 15:21