खोज

Vatican News
वाशिंगटन में जीवन रक्षा और गर्भपात  के विरोध में प्रदर्शन करते हुए वाशिंगटन में जीवन रक्षा और गर्भपात के विरोध में प्रदर्शन करते हुए  (ANSA)

यूएस में जीवन के लिए आभासी प्रार्थना जागरण

संयुक्त राज्य अमेरिका में जीवन के लिए वार्षिक प्रार्थना जागरण 28 और 29 जनवरी को एक आभासी प्रारूप में होगी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन, सोमवार 11 जनवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : कोविद -19 संकट के कारण, संयुक्त राज्य में जीवन के लिए वार्षिक राष्ट्रीय प्रार्थना जागरण 28 जनवरी से 29 जनवरी तक एक आभासी प्रारूप में होगी। सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 1973 में देश में गर्भपात को वैध मानते हुए "रो वी. वेड" और "डो वी. बोल्टन" फैसलों की वर्षगांठ के रुप में अमेरिकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (यूएससीसीबी) द्वारा प्रति वर्ष जनवरी में आयोजित किया जाता है।  अमेरिका में कानूनी रूप से 60 मिलियन से अधिक गर्भपात किए गए हैं।

सामान्य परिस्थितियों में, प्रार्थना जागरण का आयोजन बेसिलिका ऑफ द नेशनल श्राइन ऑफ द इमैक्यूलेट कॉन्सेप्शन, यूएससीसीबी प्रो-लाइफ सेक्रेटेरिएट और अमेरिका के कैथोलिक यूनिवर्सिटी ऑफ कैंपस के वाशिंगटन डीसी में की जाती है और इसके बाद जीवन के लिये जुलूस में भाग लिया जाता है। शहर के नागरिकों और हजारों तीर्थयात्रियों द्वारा गर्भपात की समाप्ति और सभी मानव जीवन के लिए सम्मान देने की प्रार्थना की जाती है।

रातभर लाइव-स्ट्रीम प्रार्थनाओं का नेतृत्व

हालांकि, कोरोनावायरस महामारी के कारण लगाए गए प्रतिबंधों के कारण, राष्ट्रीय श्राइन इस वर्ष जनता के लिए बंद हो जाएगा। इसलिए, 1974 के बाद से पहली बार, टेलीविज़न में पवित्र मिस्सा के अलावा, पूरे देश में धर्मप्रांतों के धर्माध्यक्ष पूरी रात जागरण प्रार्थना में एक-एक घंटे पवित्र आराधना की अगुवाई करेंगे। जिसे लाइव-स्ट्रीम किया जाएगा। यूएससीसीबी की वेब-साइट द्वारा दिये गये रिपोर्ट अनुसार, गुरुवार, 28 जनवरी को वाशिंगटन में बेदाग कॉन्सेप्ट ऑफ द नैशनल श्राइन ऑफ द बेसिलिका से वाशिंगटन डीसी में रोज़री प्रार्थना के बाद पवित्र मिस्सा समारोह के साथ जीवन के लिए राष्ट्रीय रात्रि जागरण शुरु होगा। उद्घाटन मिस्सा के मुख्य याजक कंसास सिटी के महाधर्माध्यक्ष जोसेफ एफ. नौमान होंगे, वे यूएससीसीबी के तहत जीवन रक्षा हेतु बनी समिति के अध्यक्ष भी हैं। पवित्र मिस्सा के बाद रात भर विभिन्न धर्मप्रांतों में धर्माध्यक्ष एक घंटा पवित्र संस्कार आराधना प्रार्थना की अगुवाई करेंगे जिसे रातभर यूएससीसीबी की वेबसाइट पर प्रसारित किया जाएगा। 29 जनवरी को सुबह 8:00 बजे बाल्टीमोर के महाधर्माध्यक्ष विलियम ई. लोरी द्वारा पवित्र मिस्सा का अनुष्ठान करने के साथ ही जीवन के लिए वार्षिक राष्ट्रीय प्रार्थना जागरण समाप्त होगा। महाधर्माध्यक्ष नौमन ने सभी काथलिकों को आभासी जागरण से जुड़ने के लिए आमंत्रित किया। उन्होंने कहा: "अब, पहले से कहीं ज्यादा, हमारे राष्ट्र को अजन्मे की रक्षा और सभी मानव जीवन की गरिमा के लिए प्रार्थना की आवश्यकता है"।

प्रार्थना जागरण का इतिहास, जीवन के लिए जुलूस

पहली जागरण प्रार्थना और जीवन के लिए जुलूस 1974 में बीस हजार लोगों की भागीदारी के साथ हुआ। संयुक्त राज्य अमेरिका में जीवन के मुद्दों पर बढ़ती जागरूकता दिखाते हुए, 2011 में प्रतिभागियों की संख्या लगातार 300 हजार तक पहुंच गई है। 2013 से जीवन के लिए वार्षिक जागरण प्रार्थना के पहले तपस्या और नोबीना प्रार्थना की जाती है।

11 January 2021, 15:34