खोज

Vatican News
बच्चों को अभ्यास दिलाती एक धर्मबहन बच्चों को अभ्यास दिलाती एक धर्मबहन 

यूआईएसजी ने मोतू प्रोप्रियो स्पीरितुस दोमिनी का स्वागत किया

विभिन्न धर्मसमाजों की परमाधिकारिणियों के अंतरराष्ट्रीय संघ (यूआईएसजी) ने संत पापा फ्राँसिस के उस कदम का सहर्ष स्वागत किया है जिसमें उन्होंने मोतू प्रोप्रियो स्पीरितुस दोमिनी प्रकाशित कर वाचक और वेदी सेवक की प्रेरिताई में कलीसिया में महिलाओं की सहभागिता को आधिकारिक अनुमोदन दिया है। स्पीरितुस दोमिनी में कलीसिया की प्रेरिताई में महिलाओं की भूमिका पर प्रकाश डाला गया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 14 जनवरी 2021 (वीएनएस)- यूआईएसजी ने संत पापा फ्राँसिस को उनके मोतू प्रोप्रियो स्पीरितुस दोमिनी के लिए धन्यवाद दिया है जिसके अनुसार महिलाओं को कलीसिया की प्रेरिताई में भाग लेने का अवसर प्रदान किया गया है।

सोमवार को प्रकाशित मोतू प्रोप्रियो में संत पापा ने कहा है कि अब से वाचक एवं वेदी सेवक की प्रेरिताई एक विशिष्ट जनादेश के माध्यम से स्थिर और संस्थागत रूप में महिलाओं के लिए भी खुला है।

यद्यपि कई समुदायों में यूखरिस्त समारोहों में पहले से ही महिलायें ईश वचन की घोषणा एवं वेदी सेवक का कार्य करतीं कर रही हैं किन्तु अब तक इसे एक उचित संस्थागत जनादेश के बिना किया जा रहा था।

स्पीरितुस दोमिनी : कलीसिया की गतिशीलता का प्रत्युत्तर

यूआईएसजी के वेबसाईट पर मंगलवार को जारी बयान में कहा गया है कि "हम इस बात पर गौर कर खुश हैं कि मोतू प्रोप्रियो का शीर्षक स्पीरितुस दोमिनी है।"

"न केवल पुरूष बल्कि महिलाएँ भी वाचक एवं वेदी सेवक की प्रेरिताई कर सकती हैं, यह गतिशीलता का एक चिन्ह एवं उत्तर है जो कलीसिया के स्वभाव की विशेषता है। गतिशीलता जो पवित्र आत्मा के अनुकूल है और प्रकाशना एवं सच्चाई पर कलीसिया के आज्ञापालन को लगातार चुनौती देती है।"   

यूआईएसजी ने यह भी कहा है कि दस्तावेज को प्रभु के बपतिस्मा के दिन प्रकाशित किया गया जो एक ऐसा दिन है जब ईश्वर ने येसु के साथ अपने संबंध को प्रकट किया, जो एक सेवक बने। येसु की ओर देखते हुए हम भी बपतिस्मा में उनके पुत्र-पुत्रियों और आपस में भाई-बहन के रूप में अपनी प्रतिष्ठा को नवीकृत करते हैं। बपतिस्मा के पवित्र जल से और क्रिस्मा के पवित्र तेल से हम सभी बपतिस्मा प्राप्त पुरूष और स्त्री, ख्रीस्त के जीवन एवं मिशन में सहभागी होते हैं तथा समुदाय की सेवा करने की शक्ति प्राप्त करते हैं।

कलीसिया की प्रेरिताई में सहयोग

कलीसिया के मिशन में योगदान दे पाने, प्रेरिताई में सहभागी होने के द्वारा सुपीरियर जेनेरल के संघ ने जोर दिया है कि यह हमें इस बात को समझने में मदद देगा जैसा कि संत पापा अपने मोतू प्रोप्रियो में कहते हैं कि इस मिशन में हम प्रत्येकजन अभिषिक्त हैं, चाहे अभिषिक्त मिनिस्टर हो अथवा अभिषिक्त न हों हम आपसी संबंध के द्वारा अभिषिक्त हैं। यूआईएसजी ने कहा है कि "यह एकता के सुसमाचारी साक्ष्य को बल प्रदान करेगा।"

उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया है कि मोतू प्रोप्रियो का व्यापक विशेषता है कलीसिया की राह पर अनेक महिलाओं की सेवा की मान्य को सुदृढ़ करना जिन्होंने वचन एवं वेदी की सेवा के लिए चिंता की हैं एवं अब भी चिंता करते हैं।

कई स्थानों में महिलाएँ और खासकर, समर्पित महिलाएँ, सुसमाचार की आवश्यकता का जवाब देते हुए धर्माध्यक्षों के दिशानिर्देश के अनुसार कई प्रेरितिक कार्यों को पूरा करती हैं।

14 January 2021, 14:32