खोज

Vatican News
महाधर्माध्यक्ष यूजेने नूजेन्ट के साथ संत पापा फ्राँसिस महाधर्माध्यक्ष यूजेने नूजेन्ट के साथ संत पापा फ्राँसिस  (Vatican Media)

कुवैत-कतर के नये प्रेरितिक राजदूत, अंतरधार्मिक वार्ता के लिए समर्पित

महाधर्माध्यक्ष यूजेने नूजेन्ट ने हैती में और अब कुवैत एवं कतर में प्रेरितिक राजदूत के रूप में अपना अनुभव साझा किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 9 जनवरी 2021 (रेई)- 7 जनवरी को संत पापा फ्राँसिस ने महाधर्माध्यक्ष यूजेने नूजेंट को कुवैत एवं कतर का प्रेरितिक राजदूत नियुक्त किया।

महाधर्माध्यक्ष 2015 से ही हैती के कैरिबियाई राष्ट्र के प्रेरितिक राजदूत के रूप में सेवा दे रहे थे।

महाधर्माध्यक्ष जो इंगलैंड के हैं। उन्होंने वाटिकन न्यूज से बातें करते हुए हैती में अपना अनुभव साझा किया तथा बलताया कि उनकी नयी नियुक्ति अंतरधार्मिक वार्ता के प्रति संत पापा के समर्पण के बारे क्या कहता है।

उन्होंने कहा कि हैती की सेवा करना उनके लिए एक नवीनीकरण एवं "गहन आध्यात्मिक अनुभव" रहा, जहाँ उनकी मुलाकात अद्भुत लोगों से हुई।  

महाधर्माध्यक्ष ने कहा, "हैती एक बहुत गरीब देश है। प्राकृतिक आपदा, राजनीतिक अस्थिरता एवं हिंसा के कारण मीडिया में इसके बारे कई नकारात्मक खबरें सुनने को मिलती हैं।" किन्तु महाधर्माध्यक्ष नूजेन्ट ने कहा कि यह देश का सिर्फ एक आयाम है। मैंने यहाँ कई सक्षम लोगों को पाया जो बहुत रचनात्मक कलाकार, संगीतकार, लेखक एवं कवि हैं।"

इस बात पर गौर करते हुए कि वे हैती के अपने बहुत सारे मित्रों से दूर हो जायेंगे महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि उनकी आशा है कि वे हैती के लोगों को विकसित स्थिति में फिर देख पायेंगे क्योंकि उन्हें निश्चय ही एक बेहतर भविष्य की जरूरत है।  

नया कार्यभार

महाधर्माध्यक्ष नूजेन ने कुवैत एवं कतर में अपने नये कार्यभार पर भी चर्चा की। प्रेरितिक राजदूत के रूप में अपनी भूमिका के बारे बोलते हुए उन्होंने स्वीकार किया कि वे मध्यपूर्व के बारे बहुत कम जानते हैं किन्तु उम्मीद जतायी कि वे इसके बारे जानेंगे और अपनी सेवा दे पायेंगे।

उन्होंने कहा कि उनकी नियुक्ति संत पापा द्वारा उनपर विश्वास किया जाना है किन्तु यह उससे भी महत्वपूर्ण है कि उन्हें इस्लाम जगत के साथ वार्ता के लिए रखा गया है।  

उनकी आशा है कि कुवैत एवं कतर में प्रेरितिक राजदूत के रूप में उनके नये कार्यभार को वे पहले की जिम्मेदारी की तरह प्रभु की कृपा तथा माता मरियम एवं संत जोसेफ की मदद से कर पायेंगे।  

09 January 2021, 13:22