खोज

Vatican News
फातिमा तीर्थालय फातिमा तीर्थालय  (ANSA)

हमारे दुखों से ईश्वर वाकिफ हैं,फातिमा तीर्थालय के रेक्टर

पुर्तगाल के फातिमा तीर्थालय के रेक्टर का कहना है कि हमारे दुखों से ईश्वर अनजान नहीं हैं। हमें ईश्वर पर भरोसा करना चाहिए और गरीबों एवं जरुरतमंदों की मदद करनी चाहिए।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

फातिमा, बुधवार 23 दिसम्बर 2020 (रेई) : महामारी के इस वर्ष में क्रिसमस का जश्न मनाने का अर्थ है ईश्वर के हाथों में भरोसा करना और सबसे कमजोर और सबसे जरूरतमंदों के लिए उनकी कोमलता और चिंता का प्रतिबिंब होना," उक्त बात पुर्तगाल के फातिमा मरियम तीर्थालय के रेक्टर फादर कार्लोस कैबिनिहास ने अपने क्रिसमस वीडियो संदेश में कहा।

उन्होंने इस बात की घोषणा की कि क्रिसमस के पुण्यकाल में, ख्रीस्त जन्म के मिस्सा समारोह, पवित्र परिवार के दिन का मिस्सा समारोह और प्रभु प्रकाश महापर्व के दिन के मिस्सा समारोह के दौरान जो भी असाधारण दान संग्रह किये जाएँगे, उसे मोज़ाम्बिक में पेम्बा के धर्मप्रांतों के लिए भेजा जाएगा। काबो डेलगाडो के विस्थापित लोगों को सहायता प्रदान करने के लिए एक ठोस पहल है, जहां इस्लामी कट्टरपंथी मिलिशिया के हमलों के कारण एक गंभीर मानवीय संकट बनी हुई है, जिसके परिणामस्वरूप 2,000 से अधिक मौतें और 560,000 सा अधिक नागरिक विस्थापित हुए हैं।

अपने संदेश में, फादर कैबिनिहास बताते हैं कि नाजुक मनुष्य की स्थिति के साथ ईश्वर खुद को इस हद तक अपना लेता है। मनुष्यों के दुख में वह सहभागी होता है और इसलिए "हमारा दुख ईश्वर के लिए पराया नहीं है, हमारी चिंताएं ईश्वर के लिए अनजान नहीं हैं, कि हमारी चिंताओं से ईश्वर उदासीन नहीं हैं,"और इसलिए "क्रिसमस का समारोह इस निश्चितता से मनाया जा रहा है कि ईश्वर हमारी नाजुकता के करीब पहुंचते हैं, हमारी सीमित और पीड़ित स्थिति के बीच हमसे संपर्क करते हैं।

23 December 2020, 14:35