खोज

Vatican News
सैलिसबरी महागिरजा में आगमन की शुरुआत मोमबत्ती जुलूस के साथ, "अंधेरे से प्रकाश की ओर" सैलिसबरी महागिरजा में आगमन की शुरुआत मोमबत्ती जुलूस के साथ, "अंधेरे से प्रकाश की ओर" 

स्कॉटिश धर्माध्यक्षों ने कठिन समय में आशा के कारणों की सूची दी

स्कॉटलैंड के काथलिक धर्माध्यक्षों ने एक प्रेरितिक पत्र जारी किया, जिसमें उन्होंने इस कठिन समय में विश्वासियों को अपने विश्वास में दृढ़ बने रहने हेतु प्रोत्साहित किया। उनका मानना है कि अंधकार के बाद प्रकाश और आशा का आगमन होता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

स्कॉटलैंड, सोमवार14 दिसम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) : स्कॉटलैंड के धर्माध्यक्षों का कहना है कि आज दुनिया महामारी और अशांति के इन कठिन समय से गुजर रही है इस संदर्भ में हमें आशा बनाये रखनी है।

"ज्योति अंधकार में चमकती है," (योहन 1: 5) नामक एक प्रेरितिक पत्र में, वे संत पापा फ्राँसिस के साथ याद दिलाते हैं, कि हर संकट अवसरों को प्रस्तुत करता है और ईश्वर, अपने पुत्र के माध्यम से, "सभी चीजों को अच्छाई में बदल देता है।" "हमारे पास यह आशा करने के लिए बहुत ही ठोस एवं स्थापित कारण हैं कि महामारी ने समाज में हर मानव व्यक्ति विशेष रूप से सबसे कमजोर व्यक्ति की गरिमा को फिर से विकसित करने के लिए प्रेरित किया है।" धर्माध्यक्षों ने हालिया प्रकाशित विश्व पत्र ‘फ्रातेल्ली तुत्ती’ के हवाले से कहा।

समाज के पुनर्निर्माण का अवसर

धर्माध्यक्षों के अनुसार, कोविद -19 संकट "समाज के पुनर्निर्माण का एक अनूठा अवसर" प्रदान करता है, जो सबसे कमजोर लोगों के साथ एकजुटता के मूल्यों को बढ़ावा देता है, जो कि महामारी से पहले "उनके जीवन के मूल्य को बहुत ही कम" आंका जाता था। वे कहते हैं, '' इस संकट ने हमें हर इंसान की गरिमा को सिखाया है और इस पुनर्निर्धारित सिद्धांत पर, हमारे समाज का पुनर्निर्माण किया जा सकता है।'',उन्होंने कहा, "अच्छे सामारी की तरह, हम अपने पड़ोसी के रूप में सबसे कमजोर को पहचानकर उसकी मदजद करते हुए एक बेहतर समाज बना सकते हैं।" यह  प्रेरितिक पत्र आधुनिक स्कॉटलैंड के लिए विश्वास के अनूठे योगदान की अधिक प्रशंसा को भी इंगित करता है: "प्यार, आशा और आराम लाने की आवश्यकता तथा एक जीवंत विश्वास प्रतिबद्धता द्वारा वितरित सामाजिक पूंजी अब अधिक व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त है।"

स्वास्थ्य सेवा में एक नया अध्याय

पत्र का दूसरा भाग बीमार और कमजोर लोगों, अर्थव्यवस्था और टीकों की चिकित्सा देखभाल को संबोधित करता है। यहाँ फिर से, धर्माध्यक्ष कहते हैं कि आशा के कारण हैं। संकट "घर पर या आवासीय देखभाल में बुजुर्गों के लिए पर्याप्त समर्थन सुनिश्चित करने के लिए एक दृढ़ संकल्प" है, उन्होंने अपनी आशा व्यक्त करते हुए कहा कि "केयर सेक्टर और एनएचएस के लिए सम्मान की समानता महामारी की एक स्थायी सकारात्मकता होगी।" धर्माध्यक्षों ने श्रमिकों और नियोक्ताओं के लिए आर्थिक सहायता प्रदान करने हेतु सरकारों द्वारा किए गए असाधारण प्रयासों की भी टिप्पणी की है, जिनकी आजीविका को खतरा हो रहा है और यह कि तालाबंदी "कुछ कम वेतन वाले और अविकसित नौकरियों के पुनर्मूल्यांकन के लिए मजबूर है, जहां देखभाल कार्यकर्ता, दुकान सहायक, डिलीवरी ड्राइवर और अन्यों को प्रमुख कार्यकर्ताओं के रूप में स्वागत किया गया।” उनकी आशा है कि ये सकारात्मक घटनाक्रम "विशेष रूप से गरीबों, बेरोजगारों और हाशिए पर खड़े लोगों के लिए निर्णय लेने हेतु मजबूती प्रदान करे।" धर्माध्यक्षों के अनुसार, महामारी के बाद स्वास्थ्य लाभ भी "अधिक प्राकृतिक और मानवीय जीवन शैली के उत्थान के लिए" आशा प्रदान करती है, जो भौतिक संपदा पर कम केंद्रित है।

क्रिसमस की आशा

अंत में, पत्र क्रिसमस की आशा के संदेश को याद दिलाता है, जो "विभिन्न प्रकार की आशाओं को रेखांकित करता है और शुद्ध करता है, जो हमें दिन-प्रतिदिन आगे बढ़ाता रहता है" और "जब हम असफल होते हैं तब पीड़ा का सामना करने में हमें शक्ति देता है"। "ईश्वर हमारे साथ हैं और हर तूफान को शांत कर सकते हैं और अंधेरे में रोशनी ला सकते हैं।"

14 December 2020, 15:13