खोज

Vatican News
ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र का नेतृत्व करते हुए कार्डिनल लुइस एंटोनियो टागले ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र का नेतृत्व करते हुए कार्डिनल लुइस एंटोनियो टागले 

"फ्रातेल्ली तुत्ती" ख्रीस्तियों को खुलापन व प्रेम हेतु प्रेरित

कार्डिनल लुइस एंटोनियो टागले ने मंगलवार को "फ्रातेल्ली तुत्ती" पर एक ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र का नेतृत्व किया, जो काथलिक महिला संगठनों की विश्व संघ के प्रतिभागियों के लिए है। उन्होंने इस बात पर प्रकाश डाला कि प्रेरितिक पत्र हमें सामाजिक मित्रता, सार्वभौमिक प्रेम और बंधुत्व की एक बेहतर दुनिया के निर्माण के लिए प्रेरित करता है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

रोम, बुधवार 18 नवम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) :  मंगलवार को काथलिक महिला संगठनों की विश्व संघ  (डब्ल्यूयूसीडब्लयूओ) द्वारा आयोजित एक वेबिनार के माध्यम से ख्रीस्तियों को संत पापा फ्राँसिस के नवीनतम विश्व पत्र "फ्रातेल्ली तुत्ती" की भावना को गहराई से अध्ययन करने का अवसर प्रदान किया गया।

लोकधर्मियों के सुसमाचार प्रचार हेतु बने धर्मसंघ के प्रीफेक्ट कार्डिनल लुइस एंटोनियो टागले ने ऑनलाइन प्रशिक्षण सत्र का नेतृत्व किया।  सत्र को काथलिक महिला संगठन के फेसबुक के माध्यम से लाइव स्ट्रीम किया गया था। इस सत्र में भागीदारी न केवल दुनिया भर के डब्ल्यूयूसीडब्लयूओ के सदस्यों के लिए खुली थी, बल्कि आम जनता के लिए भी थी।

विभिन्न महाद्वीपों के लगभग 55 प्रतिभागियों ने सक्रिय रूप से सत्र में भाग लिया।

असीसी के संत फ्रांसिस से प्रेरित

कार्डिनल टागले ने कहा कि फ्रातेल्ली तुत्ती की विशिष्टता यह है कि यह दो अन्य विश्वपत्रों के साथ एक तीसरे का निर्माण करता है - ये तीनों असीसी के संत फ्रांसिस की स्मृति द्वारा एकीकृत हैं। पहला, ʺइवांजेली गौदियुम,ʺ संत फ्रांसिस द्वारा कलीसिया के पुनर्निर्माण के लिए ईश्वर से प्राप्त अनुरोध से प्रेरित है। संत पापा फ्राँसिस ने, इस विचार को प्रतिध्वनित किया जिसमें 21वीं सदी में, सुसमाचार की खुशी के माध्यम से कलीसिया को "फिर से बनाया गया" है। दूसरा, ʺलौदातो सीʺ हमारे सामान्य घर की देखभाल में हमारे साझा उत्तरदायित्व को रेखांकित करता है। तीसरा, "फ्रातेल्ली तुत्ती," हमें सामाजिक मित्रता और एक दूसरे के भाई-बहन होने के लिए आमंत्रित करता है।

एक आध्यात्मिक पद्धति

कार्डिनल टागले ने कहा कि संत पापा फ्रातेल्ली तुत्ती में एक कार्यप्रणाली को अपनाते हैं जिसमें पहला है- पढ़ना और स्थिति का विश्लेषण करना, वर्तमान दुनिया के संकेत और रुझान। दूसरा है- विश्वास के प्रकाश में वर्तमान समय की व्याख्या, चिंतन के साथ निर्णय लेना और तीसरा है - एक ऐसी दुनिया का निर्माण करने के लिए आगे बढ़ना, जो सभी के रहने के लिए एक बेहतर जगह बने। अंतिम कदम हमारे भाई और बहनों की सेवा में कलीसिया की प्रतिबद्धता है।

आज की दुनिया

कार्डिनल टागले ने इस बात पर प्रकाश डाला कि विश्वपत्र वर्तमान दुनिया में वर्तमान संकेतों पर ध्यान देने के लिए कहता है, विशेष रूप से भाईचारे की कमी। यह हमें ईमानदार होने के लिए भी कहता है कि ये संकेत "अक्सर छिपे हुए हैं" और "मानव परिवार में हो रहे विनाश को खूबसूरती से छिपा दिये जाते हैं।"

उन्होंने कहा कि "हमें इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि गरीब और उपेक्षित इस फेंकु संस्कृति में सभी अधिक पीड़ित हैं," जो दूसरों के लिए "बंद" होने की मानसिकता के संदर्भ में होता है। ये संकेत गरीबों, प्रवासियों, महिलाओं, बालिकाओं, मानव तस्करी के शिकार, अन्य लोगों के बीच दिखाई दे रहे हैं।

सार्वभौमिक प्रेम

कार्डिनल ने उल्लेख किया कि संत पापा के भाईचारे के प्रति दुनिया के दृष्टिकोण का एक मौलिक हिस्सा सार्वभौमिक प्रेम है, और केवल इसके माध्यम से हम सामाजिक मित्रता को संभव बना सकते हैं।

"सार्वभौमिक प्रेम दूसरे के प्रति खुलापन है क्योंकि स्वयं को बंद किए जाने के विपरीत - मेरा समूह, मेरा परिवार, मेरी संस्कृति, मेरा समुदाय ... प्रेम दूसरों के साथ मिलन का एक रूप है। प्रेम दूसरों को महत्व देता है; प्यार दूसरों को लायक मनाता है ... प्यार वही देखता है जो दूसरों के लिए सबसे अच्छा होता है।"

कार्डिनल टागले ने पुष्टि की कि सार्वभौमिक प्रेम रूमानियत या आदर्शवाद से अलग है, “यह ईश्वर से प्यार करता है! इस प्रकार ईश्वर ने स्वयं को प्रकट किया है! येसु हम सभी से प्रेम करते हैं और यहां तक कि सभी के प्रेम के खातिर क्रूस पर मरना स्वीकार किया! इसी से आत्मा बहती है! ईश्वर जो प्रेम है वह संपूर्ण है, पूर्णरुप से खुले हैं। हम विश्वपत्र में भले समारी का उदाहरण पाते हैं।

समापन में कार्डिनल ने येसु के सांसारिक जीवन को और उनके प्ररिताई कार्यों को देखने के लिए सभी को आमंत्रित किया। येसु समाज से "बहिष्कृत लोगों" के साथ किस तरह से संबंध बनाते थे, जिसे वे "भाइयों और बहनों की तरह" मानते थे, जैसे जकेयुस, मत्ती, रक्तश्राव महिला, सामरिया की महिला और क्रूस पर अपने दायें टंगा हुआ चोर जिसे स्वर्ग का वादा किया। 

18 November 2020, 15:13