खोज

Vatican News
संत पापा फ्राँसिस और एंग्लिकन महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेलबी संत पापा फ्राँसिस और एंग्लिकन महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेलबी  

ख्रीस्तीय एकता में महामारी का सामना करें, महाधर्माध्यक्ष वेलबी

एंग्लिकन महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेलबी ने वाटिकन मीडिया के साथ महामारी के कारण ख्रीस्तियों के सामने आने वाली चुनौतियों के बारे में बात करते हुए कहा, विश्वव्यापी "फ्रातेल्ली तुत्ती" का पारिस्थितिक महत्व और दक्षिण सूडान में शांति के लिए उनकी उम्मीदें है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कैंटरबरी, बुधवार 18 नवम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) : ठीक एक साल पहले, 13 नवंबर 2019 को कैंटरबरी के महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेलबी ने वाटिकन में संत पापा फ्राँसिस से मुलाकात की।

उस छोटे अंतराल में, महामारी के कारण वैश्विक स्थिति में काफी बदलाव आया है। हालांकि, कोविद -19 के नाटकीय आगमन ने केवल एकजुटता, पारिस्थितिकी, धार्मिक स्वतंत्रता और शांति जैसे विषयों के महत्व को सुदृढ़ किया है, बल्कि रोम के धर्माध्यक्ष और अंगलिकन समुदाय के धर्माध्यक्ष दोनों के साथ विशेष प्रतिध्वनि पाया है।

उनकी सबसे हालिया बैठक के एक साल बाद और फ्रातेल्ली तुत्ती के प्रकाशन के एक महीने बाद, महाधर्माध्यक्ष जस्टिन वेल्बी ने वाटिकन न्यूज और ओसेरवातोरे रोमानो को एक विस्तृत साक्षात्कार दिया जिसमें वर्तमान में दुनिया के सामने आने वाले मुद्दों के बारे में बातें की। उन्होंने इस क्षण ख्रीस्तियों के योगदान पर अपना अपना विचार प्रकट किया, जो महामारी से बहुत ज्यादा प्रभावित हैं।

महामारी में धार्मिक नेताओं का दायित्व

वैश्विक महामारी के कारण भय और पीड़ा में आशा को बढ़ावा देने के लिए धार्मिक नेताओं के उत्तरदायित्व के बारे पूछे जाने पर महाधर्माध्यक्ष जस्टिन ने कहा कि मौलिक रूप से, हमारी आशा येसु मसीह में है, ‘कल, आज और हमेशा के लिए’(इब्रानियों 13. 8)। जबकि दुनिया येसु मसीह के माध्यम से ईश्वर के प्यार को बदल सकती है परंतु 'प्रभु की कृपा बनी हुई है उसकी अनुकम्पा हमेशा के लिए बनी रहती है' (शोकगीत 3. 22)। कलीसिया का नेतृत्व करने वालों का कार्य कठिन समय में आशा की गवाही देना है। येसु एक ऐसी दुनिया की आशा नहीं करते थे जहाँ चीजें ठीक चल रही थीं, लेकिन एक नाजुक, क्षतिग्रस्त और पापी लोगों से भरी हुई दुनिया में येसु हमसे कहते हैं, ‘डरो नहीं, मैं तुम्हारे साथ हूँ। वे ही हमारी आशा हैं।

ख्रीस्तियों को उम्मीदों वाले लोग कहा जाता है कि वे समुदायों के रूप में एक साथ रहते हैं। मसीह में आशा का संदेश यहाँ और अब से परे है जो आने वाला है - अनंत काल तक और अनंत जीवन का वादा। मानव जीवन नाजुक है और व्यापक बीमारी और मृत्यु इसे हमारे लिए एक कठिन और दुखद तरीके से लाती है। ईश्वर हमें पृथ्वी पर जीवन बनाने के लिए भी बुलाते है ताकि उसके लिए स्वर्ग का जीवन बेहतर हो। येसु के उपदेश और उनके बताये मार्ग चलते हुए और अपने पड़ोसी से प्यार करते हुए हम अपना जीवन बेहतर बनाते हैं। यदि हम मसीह में अपना विश्वास जगाते हैं और अपने जीवन में कमजोर, गरीबों और हाशिये पर जीने वालों को विशेष स्थान देते हैं तो हम आशा का संदेश दे रहे हैं।

विश्व पत्र, "फ्रातेल्ली तुत्ती

यह पूछे जाने पर कि संत पापा फ्राँसिस के विश्व पत्र, "फ्रातेल्ली तुत्ती" किस तरह से उन्हें प्रभावित करती है, महाधर्माध्यक्ष जस्टिन ने कहा, ‘फ्रातेल्ली तुत्ती’ एक गहरा मार्मिक दस्तावेज है और एक बेहतर भविष्य की दुनिया के लिए एक व्यवस्थित, महत्वाकांक्षी दृष्टि प्रदान करता है। इसके केंद्र में मसीह हैं। यह एक पत्र भी है जो मानवता के विस्तार और जटिलता को गंभीरता से लेता है।संत पापा ने प्राधिधर्माध्यक्ष और ग्रैंड इमाम के साथ अपनी सभाओं के संदर्भों के साथ-साथ, महात्मा गांधी से प्रेरणा ली है। वे डॉ. मार्टिन लूथर किंग जूनियर और महाधर्माधअयक्ष डेसमंड टूटू के संदर्भ में बताते है कि उनकी दृष्टि केवल काथलिकों के लिए नहीं है, लेकिन पूरी मानवता के लिए है, यही एक कारण है कि उनकी दृष्टि महत्वाकांक्षी और सम्मोहक दोनों है।

संत पापा व्यक्तिगत जीवन से लेकर बहु-राष्ट्रीय जीवन तक, परिवार से लेकर वाणिज्य और उद्योग की दुनिया या राजनीति की दुनिया के सभी पहलुओं को बहुत गंभीरता से लेते है। वे साम्यवाद और व्यक्तिवाद, राजनीति और दर्शन के स्काइला और चरीबडीस के दो खतरों को निर्धारित करते हैं। दोनों अत्याचार और अराजकता की ओर ले जाते हैं।

तीन 'पी'

संत पापा के साथ मेरी एक बैठक के अंत में उन्होंने मुझसे कहा कि तीन पी: प्रेयर, पीस पूवर (प्रार्थना, शांति और गरीबी) को याद रखें। मुझे उम्मीद है कि हमारी दोस्ती जारी रहेगी, इसलिए ये तीनों पी हमें एक साथ बांध सकते हैं - एक-दूसरे के लिए और दुनिया के लिए आपसी प्रार्थना,और शांति और सुलह दोनों के लिए प्रतिबद्धता और गरीबों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए प्रयास करना।

18 November 2020, 14:58