खोज

Vatican News
फ्राँस का नोट्र डेम महागिरजाघर फ्राँस का नोट्र डेम महागिरजाघर  (ANSA)

नोट्र डेम महागिरजाघर में तीन की हत्या, धर्माध्यक्षों की संवेदना

फ्राँस के नीस शहर स्थित नोट्र डेम महागिरजाघर में आज एक हमलावर ने चाकू से तीन लोगों की हत्या कर दी। हत्या के शिकार एक पुरूष एवं दो महिलाएँ हुए हैं। हमले में कुछ लोग घायल भी हो गये हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

फ्राँस, बृहस्पतिवार, 29 अक्टूबर 2020 (वीएन)- नीस महापौर किश्चियन एस्त्रोसी ने कहा कि यह एक आंतकी हमला था। उसने बतलाया कि हमलावर को गिरफ्तार कर लिया गया है। हमला नोट्रे डेम महागिरजाघर में बृहस्पतिवार सुबह 9 बजे के करीब हुआ।

फ्राँस के धर्माध्यक्षों की प्रार्थना एवं आध्यात्मिक सामीप्य

फ्राँस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के अध्यक्ष मोनसिन्योर एरिक दी मौलिन ब्यूफोर्ट ने ट्वीट पर नीस धर्मप्रांत के विश्वासियों एवं धर्माध्यक्ष के प्रति हार्दिक संवेदना व्यक्त की। उन्होंने लिखा, "मेरी विशेष प्रार्थना, नीस धर्मप्रांत के विश्वासियों एवं धर्माध्यक्ष मारचेऊ के लिए है। इस कठिन समय में वे एक-दूसरे का सहयोग कर सकें और उन लोगों को मदद दे सकें जो शारीरिक रूप से घायल हो गये हैं।" पीड़ितों के लिए प्रार्थना करते हुए और सब संतों के पर्व की याद करते हुए उन्होंने कहा, "रविवार को, सभी संतों के लिए हम प्रभु से सुनेंगे : धन्य हैं वे जो मेल कराते हैं वे ईश्वर के पुत्र कहलायेंगे। धन्य हैं वे जो मेरे कारण अत्याचार सहते हैं...स्वर्ग में उन्हें महान पुरस्कार प्राप्त होगा।"

दो सप्ताह पहले सामुएल पाटी की हत्या

यह हमला उस समय हुआ है जब फ्राँस सामुएल पाटी की हत्या से शोकित है। वे एक शिक्षक थे जिनकी हत्या 16 अक्टूबर को, विद्यार्थियो को चार्ली हेब्दो के कार्टून पैगंबर मुहम्मद को दिखाने के कारण की गई थी। इसके अलावा, तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन के खिलाफ चार्ली हेब्दो द्वारा नए कार्टून और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रोन के बयानों के बाद पिछले कुछ घंटों में तनाव बढ़ गया है।

पूर्व का हमला

नीस वह स्थान है जहाँ 14 जुलाई 2016 को भी आतंकी हमला हुआ था जब बैस्टिल दिवस मनाने के लिए जमा हुई भीड़ पर, 31 वर्ष के युवक ने ट्रक चला कर 86 लोगों को मारा और कई लोगों को घायल कर दिया था।

 

29 October 2020, 15:35