खोज

Vatican News
फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी का विरोध फादर स्टेन स्वामी की गिरफ्तारी का विरोध  

फादर स्टैन स्वामी की गिरफ्तारी के विरूद्ध मौन मानव शृंखला

फादर स्टैन स्वामी ये.स. की गिरफ्तारी का विरोध एवं उनके रिहाई की मांग विभिन्न रूपों में जारी है। राँची की काथलिक कलीसिया, शुक्रवार को मौन मानव शृंखला एवं प्रार्थना सभा के माध्यम से अपना विरोध प्रदर्शन करेगी।

उषा मनोरमा तरकी-वाटिकन सिटी

रांची, बृहस्पतिवार, 15 अक्टूबर 2020 (वीएन हिन्दी)- 83 वर्षीय फादर स्टेन स्वामी को 8 अक्टूबर की रात 8 बजे एन आई ए के द्वारा एक साजिश के तहत भीमा कोरेगाँव केस से जोड़कर गिरफ्तार किया गया। दूसरे दिन उन्हें मुम्बई ले जाकर उनके विरूद्ध चार्ट शीट दायर कर, तलोजा जेल, नवी मुम्बई में रखा गया है।

राँची काथलिक कलीसिया ने शुक्रवार को मौन मानव शृंखला में भाग लेने का आह्वान करते हुए कहा है, "एन आइ ए ने जिस ढ़ंग से उन्हें गिरफ्तार किया और जेल में डाला तथा प्रताड़ित किया (हम) उसकी निंदा करते हैं। इस दुखद समय में हम सभी फादर स्टैन के साथ खड़े हैं। अपना विरोध जताने एवं फादर स्टैन स्वामी के साथ खड़े होने को दर्शाने के लिए दिनांक 16 अक्टूबर 2020, समय 4 बजे, संध्या, दिन शुक्रवार को विभिन्न जगहों पर मौन रहकर मानव शृंखला के रूप में खड़े होंगे।"

मानव शृंखला का स्वरूप अल्बर्ट एक्का चौक – सरजना चौक -डॉ. कमिल बुल्के पथ -डंगरा टोली चौक -कांटा टोली चौक होगा। तत्पश्चात 5.30 बजे संत मेरी महागिरजाघर  में, "कोरोनावायरस से बचने के लिए सरकार की नीति के अनुसार" कुछ लोग जमा होकर एक छोटी प्रार्थना करेंगे।

सभी से आग्रह है कि इस दुर्भाग्य पूर्ण घटना की गंभीरता को समझते हुए अधिकाधिक संख्या में विरोध प्रदर्शन में भाग लेकर मसीही समुदाय की संवेदना एवं एकता का परिचय दें।

फादर स्टैन स्वामी पिछले कई दशकों से सामाजिक कार्यकर्ता के रूप में गरीबों, दलितों, शोषितों और आदिवासियों के अधिकारों की रक्षा के लिए हमेशा अपनी आवाज उठाते रहे हैं।

कलीसिया का आरोप है कि एन आइ ए ने रात के समय आकर फादर स्टैन का गिरफ्तार किया जो दर्शाता है कि ये लोग गरीबों, दलितों, शोषितों तथा आदिवासियों की आवाज को दबाना चाहते हैं क्योंकि फादर स्टैन का सम्पूर्ण जीवन उन्हीं लोगों के लिए समर्पित है।

फादर स्टैन स्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में राँची कलीसिया
फादर स्टैन स्वामी की गिरफ्तारी के विरोध में राँची कलीसिया
15 October 2020, 16:08