खोज

Vatican News
रोमन कूरिया के उपदेशक फादर रानिएरो कांतालामेस्सा ओ.एफ.एम. कैप रोमन कूरिया के उपदेशक फादर रानिएरो कांतालामेस्सा ओ.एफ.एम. कैप 

चयन ‘ईश्वर के वचन’ की मान्यता,नव-नियुक्त कार्डिनल कांतालामेस्सा

संत पापा फ्राँसिस द्वारा एक इतालवी कैपुचिन पुरोहित रानिएरो कांतालामेस्सा को कार्डिनल बनाए जाने की घोषणा के बाद, उनका कहना है कि उनकी नई भूमिका प्रार्थना के माध्यम से संत पापा की मदद करने का अवसर होगी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 28 अक्टूबर 2020 (वाटिकन न्यूज) : फादर रानिएरो कांतालामेस्सा ओ.एफ.एम. कैप ने कार्डिनल के रूप में अपने पद को "व्यक्ति विशेष से अधिक, ईश्वर के शब्द की मान्यता" के रूप में वर्णित किया है।

संत पापा फ्राँसिस ने रविवार को 13 नए कार्डिनलों के नाम की घोषणा में रोमन कूरिया के उपदेशक फादर रानिएरो कांतालामेस्सा ओ.एफ.एम. कैप को सम्मिलित किया।

वाटिकन न्यूज 'बेनेडेटा कापेली के साथ एक साक्षात्कार में, फादर रानिएरो कांतालामेस्सा ने अपने नामांकन के लिए  ईश्वर की प्रशंसा की और इसे परमेश्वर के वचन के साथ जोड़ा।

ईश वचन के लिए समय ढूँढना

उन्होंने कहा कि वे उन लोगों की प्रशंसा करते हैं जो उनके उपदेश को सुनते हैं।

"यह सोचते हुए कि संत पापा - जैसे संत पापा जॉन पॉल द्वितीय, संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवे और संत पापा फ्राँसिस एक गरीब, साधारण कपुचिन पुरोहित का उपदेश सुनने के लिए समय निकालते हैं, यह एक उदाहरण है कि वे कलीसिया को ईश वचन सुनने के लिए प्रेरित करते हैं। फादर कांतालामेस्सा ने कहा, "निश्चित रुप में वे मेरे लिए उपदेश दे रहे हैं।"

एकता और संवाद का संकेत

86 वर्षीय इतालवी पुरोहित ने कहा कि उन्होंने संत पापा और  रोमन कूरिया के उपदेशक के रुप में अपने मिशन को जारी रखने की योजना बनाई है। आगामी आगमन काल के उपदेश श्रृंखला के साथ अपने मिशन को शुरू करेंगे।

उन्होंने कहा कि उन्हें कई यहूदी दोस्तों सहित दुनिया भर के लोगों से समर्थन और स्नेह प्राप्त हुआ। फादर कांतालामेस्सा ने कहा, "मैं बहुत खुश हूँ,"यह हमेशा एकता और संवाद को बढ़ावा देने के लिए मेरे जुनुन में से एक रहा है। यह पुल बनाने के लिए संत पापा फ्राँसिस के महान प्रयासों से संबंधित एक पहलू है।"

प्रार्थना द्वारा संत पापा का समर्थन करने की खुशी

फादर कार्डिनल ने कार्डिनल के रुप में अपने दृष्टिकोण का वर्णन किया और उन्हें कार्डिनल मंडल के गैर-मतदान सदस्य के रूप में भूमिका निभानी है। उन्होंने कहा, "चूंकि यह पद मेरे लिए प्रभावी से अधिक सम्मानजनक है, मेरा लक्ष्य संत पापा के पास होने तथा प्रार्थना और वचन के माध्यम से उसका समर्थन करने में सक्षम होना है।"

28 October 2020, 14:59