खोज

Vatican News
ओसरवातोरे रोमानो में प्रकाशित संत पापा का नया विश्व पत्र ओसरवातोरे रोमानो में प्रकाशित संत पापा का नया विश्व पत्र 

‘फ्रातेल्ली तुत्ती’: कोविद के बाद की दुनिया का एक मौलिक खाका

संत पापा फ्राँसिस की हाल ही में जारी विश्वपत्र "फ्रातेल्ली तुत्ती" पर प्रतिक्रियाएं जारी हैं, धर्माध्यक्षों और काथलिक सहायता संगठनों ने मानव एकजुटता के आधार पर भविष्य हेतु संत पापा के दृष्टिकोण की प्रशंसा की है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 07 अक्टूबर 2020 (वाटिकन न्यूज) : संत पापा फ्राँसिस के तीसरे विश्वपत्र, ‘फ्रातेल्ली तुत्ती’, ने पूरी काथलिक कलीसिया में प्रशंसा और खुशी की लहर स्थापित की है।

आयरलैंड और न्यूजीलैंड के धर्माध्यक्ष संत पापा के आह्वान को फैलाने में मदद कर रहे हैं। संत पापा फ्राँसिस ने एक ऐसे समाज के लिए आह्वान किया जो अपने केंद्र में मानवीय गरिमा रखता है।

बेहतर दुनिया के लिए खाका

इंग्लैंड और वेल्स, सीएएफओडी में काथलिक अंतर्राष्ट्रीय विकास दान के निदेशक क्रिस्टीन एलन का कहना है कि विश्वपत्र एक "कोरोना वायरस दुनिया के लिए मौलिक खाका है।"

सुश्री एलन ने एक बयान में, राजनीति और गरीबी के बीच संबंध के बारे में संत पापा के संदेश पर प्रकाश डाला।।

उन्होंने कहा, "राजनीति गरीबों को विफल कर रही है और यह शर्मनाक है कि कुछ राजनीतिक फैसले जो सबसे गरीबों को प्रभावित करते हैं, उन्हें गरीबी, पीड़ा और निराशा में आगे बढ़ाते हैं।"

सुश्री एलेन कहती हैं कि कोविद -19 महामारी की शुरुआत में, उम्मीदें अधिक थीं कि इसके मद्देनजर बची हुई पीड़ा से बड़ी एकजुटता पैदा होगी। वे भी संत पापा फ्रांसिस के साथ शोक प्रकट करती हैं कि राजनीति भी सामान्य स्थिति में लौटने की जल्दी में है और पीछे छूटे लोगों की दुर्दशा के प्रति उदासीन है।

उनका कहना है कि संत पापा फ्राँसिस, वास्तविक और स्थायी परिवर्तन के लिए एक दृष्टि प्रदान करते हैं, हम सभी स्तरों पर समुदाय बनाने के लिए बुलाए गये हैं - व्यक्तिगत, सामाजिक और वैश्विक समुदाय, जहां भय और अविश्वास की दीवारें 'मुलाकात की संस्कृति' द्वारा प्रतिस्थापित की जाती हैं और दूसरों के साथ हमारी एकजुटता मानवीय गरिमा को पुनर्स्थापित करती है।”

हाशिए के साथ एकजुटता

आयरलैंड के महाधर्माध्यक्ष एमन मार्टिन ने आयरलैंड में उन लोगों के लिए प्रेम और एकजुटता के संदेश के रूप में फ्रातेल्ली तुत्ती का स्वागत किया है जो समाज के हाशिये पर हैं।

महाधर्माध्यक्ष मार्टिन कहते हैं कि संत पापा फ्राँसिस, "अनाथ, गरीब, अजनबी, प्रवासी, शरणार्थी और उन सभी के लिए न्याय और दया के नाम पर एक विशेष अपील करते है, जो 'हाशिये' पर हैं, जीवन और समाज की 'परिधि' पर जीवन यापन करते हैं।"

महाधर्माध्यक्ष मार्टिन का कहना है कि संत पापा की अपील उन्हें भी चुनौती देती है क्योंकि "कुछ परिधि शहर के केंद्रों में हमारे करीब है या हमारे परिवारों में है।"

महाधर्माध्यक्ष मार्टिन ने इस बात पर गौर किया कि यह संदेश आयरलैंड वासियों के लिए एक निमंत्रण है "यह विचार करने के लिए कि किसे छोड़ा जा सकता है, जिन्हें हम समाज के हाशिये पर फेरबदल करते हैं और शायद भूलने की कोशिश करते हैं।"

एक बेघर व्यक्ति या समाचार पर शरणार्थियों की छवियां हमें "उनके लिए खेद महसूस करा सकता है, लेकिन वास्तव में हमारे स्वयं के मूल्यों, जीवन शैली या दृष्टिकोण पर सवाल नहीं उठा सकता है।" संत पापा फ्राँसिस के अनुसार एकजुटता का मतलब है कि गरीबों और सबसे कमजोर लोगों के चेहरे को देखना और उनकी मदद करने की कोशिश करना। उन्होंने निष्कर्ष निकाला, "हमारी सभ्यता सर्वशक्तिमान नहीं है," इसलिए हमें एक-दूसरे की जन्मजात गरिमा का सम्मान करने की आवश्यकता है - परिवार से लेकर अजनबी तक - प्रेम और व्यावहारिक समर्थन के साथ, ताकि मानव जाति का विकास हो सके।"

07 October 2020, 15:52