खोज

Vatican News
तूफान लॉरा की तबाही तूफान लॉरा की तबाही  (2020 Getty Images)

यूएस धर्माध्यक्षों द्वारा आपदा प्रभावितों के लिए संग्रह का आग्रह

अमेरिका के धर्माध्यक्षों ने देश में आये तूफान लॉरा, कैलिफोर्निया के जगलों में लगे आग और अन्य आपदाओं से प्रभावित धर्मप्रांतों के लिए विशेष संग्रह का आग्रह किया है जिससे कि जरुरतमंद लोगों की मदद की जा सके।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

लॉस एंजल्स, शनिवार 05 सितम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) : अमेरिकी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (यूएससीसीबी) ने देश भर में धर्माध्यक्षों से अनुरोध किया है कि वे देश में प्राकृतिक आपदाओं की बढ़ती संख्या से उत्पन्न मानवीय, दीर्घकालिक सुधार और कलीसिया की जरूरतों के लिए एक स्वैच्छिक विशेष संग्रह पर विचार करें।

"लॉस एंजिल्स के महाधर्माध्यक्ष जोस एच. गोमेज" ने गुरुवार को अपने साथी धर्माध्यक्षों को एक पत्र में लिखा, "पारंपरिक तूफान का मौसम अभी शुरू ही हुआ है और पहले ही हम तूफान लॉरा और कैलिफोर्निया के वनों में लगे आग के विनाशकारी प्रभाव को देख चुके हैं।"

पीड़ितों के साथ निकटता

उन्होंने कहा, "हजारों घर,व्यवसाय और गिरजाघर गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त या नष्ट हो गए हैं और इसका प्रभाव लंबे समय तक चलने वाले हैं। हम उन परिवारों को हमारी प्रार्थना का आश्वासन देते हैं जिन्होंने प्रियजनों, घरों और व्यवसायों को खो दिया है।"

रिकॉर्ड के अनुसार दसवें सबसे मजबूत अमेरिकी तूफान, लॉरा ने 27 अगस्त को कैमरून, लुइसियाना राज्य में अनेक घरों को गिरा गिया और पेड़ों को उखाड़ दिया। इसने कम से कम 29 लोगों की जान ले ली और लुइसियाना और टेक्सास में करीब 8.7 अरब डॉलर का नुकसान हुआ।

अगस्त के मध्य से, कैलिफ़ोर्निया ने 875 से अधिक जंगल की आग बुझाई है, जिसने लगभग 1.5 मिलियन एकड़ को झुलसा दिया है और 2,800 से अधिक संरचनाओं को नष्ट कर दिया है। अभी भी 40,000 लोग अपने घरों में वापस नहीं जा पाए हैं।

आपातकालीन आपदा कोष

महाधर्माध्यक्ष गोमेज़ ने कहा कि एकत्र किए गए फंड धर्माध्यक्षों के आपातकालीन आपदा कोष का हिस्सा बन जाएंगे और इसका इस्तेमाल तूफान लॉरा और होने वाली किसी भी आपदा के जवाब में और काथलिक चारिटीज यूएसए और  या काथलिक रिलीफ सेवा के प्रयासों का समर्थन करने के लिए किया जाएगा और सबसे ज्यादा जरूरत मंदों के बीच वितरित किया जाएगा। फंड का कुछ हिस्सा गिरजाघरों के पुनर्निर्माण और प्रेरितिक कार्यों के लिए उपयोग किया जाएगा।

महाधर्माध्यक्ष गोमेज़ ने पल्लियों और धर्मप्रांतों में  कोविद ​​-19 के चुनौतीपूर्ण प्रभावों को स्वीकार करते हुए, विश्वासियों द्वारा आपदा कोष जमा करने हेतु उनकी उदारता की उम्मीद की है।  

05 September 2020, 14:03