खोज

Vatican News
अपनी बेटी के मौत पर शोक मनाती नियतनाम की एक महिला अपनी बेटी के मौत पर शोक मनाती नियतनाम की एक महिला 

कोविड-19 के शिकार लोगों की मदद करती वियतनाम कलीसिया

काथलिक संगठन कोरोनावायरस संकट में लोगों की मदद हेतु आगे आ रहे हैं जब सरकार उनकी मदद करने में असमर्थ है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वियतनाम, मंगलवार, 15 सितम्बर 2020 (रेई)- कोरोनावायरस संकट में लोगों की मदद हेतु आगे कलीसिया आगे आ रही हैं जब सरकार उनकी मदद करने में असमर्थ है। 78 वर्षीय मरिया गुएन थी क्वांग, नमक, तेल, मसाला, मिठाई और पेय पदार्थों को बेचकर अपने परिवार की जीविका चला रही हैं।

क्वांग ने कहा, "मैं एक दिन में करीब 1,00,000 डोंग (4.30 डॉलर) कमाती हूँ जो पर्याप्त नहीं है।" क्वांग और उनके 83 वर्षीय पति जो हृदय की बीमारी से पीड़ित हैं उन्हें पिछले कुछ महिनों से अपने दुकान पर ही निर्भर रहना पड़ रहा है। कोरोना वायरस महामारी के कारण उनके पास कम ग्राहक आ रहे हैं।

येन बाई शहर की क्वांग ने कहा कि अधिकारी उन्हें मदद देने से इन्कार कर रहे हैं जिसके कारण उन्हें दुकान चलाना पड़ रहा है। उन्होंने कहा, "हम बुजूर्ग लोगों को सहायता राशि मिलनी चाहिए क्योंकि हमारे लिए कोई दूसरे आय के स्रोत नहीं हैं और हम कोरोना वायरस से प्रभावित हैं।

अप्रैल में वियतनाम के प्रधानमंत्री गुयेन जुआन फुक ने कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित 20 मिलियन लोगों की मदद करने के लिए 62 ट्रिलियन डोंग की मंजूरी दी थी। उन व्यक्तियों और परिवारों को जून तक हर माह 2,50,000 से 1.8 मिलियन डोंग पाना था। हालांकि, श्रम, अवैध और सामाजिक मामलों के मंत्रालय ने अगस्त में बताया कि बचाव पैकेज के केवल 17.5 ट्रिलियन डोंग को लगभग 16 मिलियन लोगों को वितरित किया गया है। विशेषज्ञों ने कहा कि सहायता वितरण का आंकड़ा कम था क्योंकि यह धन प्राप्त करने के लिए लाभार्थियों की शर्तों की पुष्टि करने के लिए जटिल था। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन कमाने वाले और बिना अनुबंध वाले लोगों के पास धन की कोई पहुंच नहीं है क्योंकि वे स्थानीय अधिकारियों द्वारा आवश्यक जटिल प्रक्रियाओं को पूरा नहीं कर सकते हैं। महामारी से प्रभावित ऐसे लोगों की संख्या बहुत अधिक है।

25 अगस्त को, राज्य द्वारा संचालित समाचार पत्र वियतनामप्लस ने बताया कि हनोई के बाहरी इलाके में ज़ुआन ला हैमलेट के कई गरीब परिवारों को वित्तीय सहायता नहीं दी गई थी, जिन्हें दूसरे धनी परिवारों ने प्राप्त किये।

समाचार पत्र ने कहा कि कुछ दैनिक मजदूरी करनेवाले कर्मचारी जिन्होंने अपनी नौकरी खो दी है, कई बार सहायता की मांग की, लेकिन अधिकारियों ने मंजूरी देने से इनकार कर दिया।

स्थानीय अधिकारियों ने स्वीकार किया कि वे 4,000 लोगों के आवास में वित्तीय सहायता के लायक सभी कोविद -19 पीड़ितों को सूचीबद्ध करने में विफल रहे।

कलीसिया द्वारा सहायता

पवित्र क्रूस की प्रेमी धर्मसंघ की सिस्टर मेरी दो थी यूयेन जो लाई काऊ प्रांत में कार्य करती हैं उन्होंने बतलाया, "हमोंग गाँव की जीविका कोविड-19 संकट के कारण पूरी तरह नष्ट हो चुकी है। वे बेरोजगार हो गये हैं क्योंकि दूसरे स्थानों में अथवा पड़ोसी देश चीन में काम नहीं कर करते हैं।

सिस्टर यूयेन ने बतलाया कि मई महीना में जहरीला मशरूम खाने के कारण हमोंग की तीन लड़कियाँ मौत की शिकार हो गईं। उनके माता-पिता एवं रिश्तेदार दूर में काम कर रहे थे जब उन्होंने मशरूम जमा किया। स्थानीय काथलिक संगठनों ने दफन क्रिया में उनकी मदद की।

धर्मबहन ने कहा कि कई लोगों को अगले फसलों का इंतजार करते हुए, अपने भोजन के लिए सब्जी एवं फल जंगल से जमा करना पड़ता है। कुल उपकारक स्थानीय लोगों को दान देकर मदद करते हैं किन्तु वे भी कोरोना वायरस से प्रभावित हैं। परिणामतः धर्मबहनों के पास उनकी मदद करने के लिए कुछ नहीं है।

सिस्टर यूयेन ने कामना की कि "ईश्वर इस महामारी दो जल्दी दूर कर दे ताकि उपकारक वहाँ दौरा कर सकेंगे एवं स्थानीय लोगों की मौलिक आवश्यकताओं की पूर्ति हो पायेगी।"

माई येन पल्ली के फादर जोसेफ गुएन तिएन लिएन ने कहा कि स्थानीय अस्पताल में कई रोगी भूख से पीड़ित हैं। फादर लिएन ने कहा कि काथलिक दल प्रत्येक दिन सैंकड़ों रोगियों एवं उनके रिश्तेदारों के लिए भोजन प्रदान करता है। उन्होंने उपकारकों का आह्वान किया है कि वे दान करें ताकि उनकी मदद जारी रखा जा सके।

फादर उन परिवारों का भी दौरा करते हैं जो गरीब हैं अथवा बाढ़ से पीड़ित हैं।      

हो कि मिन्ह शहर के महाधर्मप्रांत के कारितास निदेशक फादर भिन्सेंट वू गोक डोंग ने स्थानीय लोगों से दान करने का आह्वान किया है ताकि मध्य शरदोत्सव मनाने के लिए मदद दिया जा सके जो बच्चों का सबसे बड़ा त्योहार है और इस साल इसे 1 अक्टूबर को मनाया जाएगा।

फादर डोंग ने कहा कि कारितास गंभीर कठिनाइयों वाले बच्चों के लिए समारोह आयोजित करने की योजना बना रहा है, खासकर, जो कोविद -19 संकट से प्रभावित हैं।

हो ची मिन्ह सिटी के महाधर्माध्यक्ष जोसेफ गुएन नांग ने काथलिकों से, जीवन के सभी क्षेत्रों के लोगों के साथ काम करने और रोगियों एवं उन लोगों के लिए सामग्री और भावनात्मक समर्थन प्रदान करने का आह्वान किया, जो दयनीय स्थिति में रहते हैं।

उन्होंने लोगों से अपील की है कि वे महामारी से निपटने के लिए प्रार्थना करें क्योंकि धर्म ही मानव जीवन की आत्मा है। धर्म के बिना मानव प्राणी अपनी दिशा खो देगी और नहीं जानेगी कि उसे किधर जाना है।

15 September 2020, 17:26