खोज

Vatican News
सीरिया में युद्ध के कारण ध्वस्त इमारत सीरिया में युद्ध के कारण ध्वस्त इमारत  (Caritas italiana)

कारितास इंटरनैशनल ने संघर्ष के अंत की अपील की

21 सितम्बर को जब अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस मनाया जाता है कारितास इंटरनैशनल ने युद्ध एवं हिंसा के अंत की अपील की है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 22 सितम्बर 20 (वीएन) – अंतरराष्ट्रीय विश्व शांति दिवस को मनाते हुए कारितास इंटरनैशनल ने विश्वभर में, खासकर, मध्यपूर्व में युद्ध और हिंसा के अंत की अपील की है। उन्होंने वर्तमान में जारी राजनीतिक समस्याओं के समाधान हेतु वार्ता की आवश्यकता पर जोर दिया है। 

शांति को मजबूत करना

अंतरराष्ट्रीय विश्व शांति दिवस पर प्रकाशित संदेश में इस बात को रेखांकित किया गया है कि यह "मानवता के लिए एक अद्वितीय मूल्य के रूप में शांति बनाए रखने और सभी मतभेदों से ऊपर शांति के लिए बिना शर्त प्रतिबद्धता व्यक्त करने का एक महत्वपूर्ण अवसर है।"

कारितास ने संत पापा के शब्दों का हवाला देते हुए कहा है कि हर युद्ध भ्रातृघातक का एक रूप है जो मानव परिवार के लिए भाईचारा के स्वाभाविक बुलाहट को नष्ट करता है।

अपील

संत पापा के इन शब्दों को ध्यान में रखते हुए कारितास इंटरनैशनल मानता है कि शांति एक संस्कृति है जिसे समाज के हर स्तर पर स्थानीय समुदाय से राजनीतिक स्तर पर मजबूत किये जाने, बांटे जाने एवं जीये जाने की जरूरत है।

अपनी अपील में, एजेंसी ने सीरिया में प्रतिबंधों को हटाने की अपील की है और कहा है कि "यह स्पष्ट है कि वे शांति को बढ़ावा नहीं देते बल्कि तनाव को भड़काते और शांति के विरूद्ध हैं।"

कारितास ने यह भी अपील की है हर संभव प्रयास किया जाना एवं उन सभी प्रकार के प्रयासों को लागू किया जाना चाहिए जो तनावग्रस्त क्षेत्रों में शांति की ओर अग्रसर करते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि विकास हेतु अंतर्राष्ट्रीय सहायता समुदाय-केंद्रित शांति और सौहार्द बनाने के लिए जमीनी स्तर पर शांति और सामंजस्य बनाने पर विशेष ध्यान देती है।

इसके अलावा, यह धार्मिक नेताओं और विश्वास-आधारित समुदायों के परस्पर संबंधों को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिए समर्थन को प्रोत्साहित करता है।

तनाव से प्रभावित लोग

कारितास ने कहा है कि "हमारी मानवता दिखला रही है कि आज भी लाखों लोग युद्ध और हिंसा के कारण विकट परिस्थितियों में जी रहे हैं। जो उन्हें मानव प्रतिष्ठा के साथ जीने नहीं देता है। शांति के अभाव में लाखों लोग मर रहे हैं। युद्ध और हिंसा के कारण स्वार्थ, लालच, भ्रष्टाचार, धार्मिक और जातीय भेदभाव एवं प्राकृतिक संसाधनों के अवैध शोषण जैसे परिणाम दिखाई पड़ रहे हैं।”

उन्होंने कहा है कि "ऐसे समय में जब कोविड-19 ने हम सभी के लिए मानव अस्तित्व की नाजुकता और भेद्यता का खुलासा किया तथा पूरी मानवता को एकजुटता में लाया ताकि वायरस के प्रसार का मुकाबला किया जा सके और सभी प्रकार के विभाजन एवं नफरत के प्रलोभनों के खिलाफ लड़ सकें, हमें एक साथ खड़े होने की आवश्यकता है"।

कारितास का कार्य

कारितास इंटरनैशनल संकटपूर्णों क्षेत्रों एवं कठिन सामाजिक वातावरण में तनाव दूर करने, मध्यस्थ बनने, शांति निर्माण, साथ देने, चिंता करने और कमजोर लोगों की आवाज बनने के द्वारा संघर्ष एवं हिंसा के मूल कारणों का कामना करना चाहता है।

म्यानमार कारितास इन दिनों कचिन एवं उतरी शान राज्य में आंतरिक रूप से विस्थापित लोगों, संघर्ष से प्रभावित गाँवों एवं मेजबान समुदायों, महिलाओं, युवाओं और धार्मिक नेताओं के लिए कलीसिया से सहयोग करते हुए स्थायी शांति कार्यक्रम का संचालन कर रहा है।

इस तरह की कई योजनाएँ मध्य अफ्रीका रिपब्लिक, कोलोम्बिया, पाकिस्तान, मीनदनाओं और फिलीपींस में चलाये जा रहे हैं जहाँ कारितास एवं स्थानीय कलीसिया शांति समाधान के लिए हिंसा ग्रस्त क्षेत्रों में कार्य कर रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस पर कारितास इंटरनैशनल ने जोर दिया है कि मानव व्यक्ति एवं मानव की स्थिति को साहस पूर्वक निहित दिलचस्पी से ऊपर जब तक नहीं रखा जाता, जब तक शांति प्राप्त नहीं की जा सकती।   

22 September 2020, 13:45