खोज

Vatican News
म्यानमार के कार्डिनल चार्ल्स बो, सन्त पापा फ्राँसिस के साथ साक्षात्कार, 2017 म्यानमार के कार्डिनल चार्ल्स बो, सन्त पापा फ्राँसिस के साथ साक्षात्कार, 2017 

म्यानमार, ईमानदार नेताओं को मतदान देने का आग्रह

म्यानमार में 08 नवम्बर के लिये निर्धारित आम चुनावों की पृष्ठभूमि में देश के काथलिक धर्माधिपति तथा याँगून के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल चार्ल्स बो ने अपने सहनागरिकों से आग्रह किया है कि वे लोगों की सेवा को प्रतिबद्ध नेताओं के पक्ष में ही अपना क़ीमती मत प्रदान करें।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

म्यानमार, शुक्रवार, 4 सितम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज़): म्यानमार में 08 नवम्बर के लिये निर्धारित आम चुनावों की पृष्ठभूमि में देश के काथलिक धर्माधिपति तथा याँगून के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल चार्ल्स बो ने अपने सहनागरिकों से आग्रह किया है कि वे लोगों की सेवा को प्रतिबद्ध नेताओं के पक्ष में ही अपना क़ीमती मत प्रदान करें।

08 नवम्बर 2020 के लिये निर्धारित चुनाव, 2011 में लगभग आधी सदी के बाद समाप्त सख्त सैन्य शासन के उपरान्त, दूसरा लोकतांत्रिक चुनाव होगा।

लोकतंत्र एकमात्र आशा

इस सप्ताह जारी अपील में कार्डिनल बो ने नागरिकों से आग्रह किया है कि वे उसी पार्टी एवं उसी नेता के पक्ष में मतदान करें जो ईमानदारी के साथ शान्ति में योगदान दें, लोकतंत्रवाद के माध्यम से बेज़बानों की आवाज़ को सशक्त करें तथा संघर्षों से घिरे राष्ट्र में आर्थिक एवं पर्यावरणीय न्याय को सुनिश्चित्त करें।  

एशिया के धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के संघ के अध्यक्ष तथा म्यानमार के काथलिक धर्माधिपति  कार्डिनल बो ने अपने साथी नागरिकों को स्मरण दिलाया कि मतदान एक पवित्र अधिकार एवं  प्रत्येक नागरिक का दायित्व होने के साथ-साथ लोकतंत्र के लिये अत्यधिक महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, "एक मजबूत लोकतंत्र का कुसुमित होना, भ्रातृ संघर्ष से रक्तरंजित, इस देश के इलाज के लिए एकमात्र आशा है।"

सामान्य जनकल्याण

कार्डिनल बो ने इस बात को स्पष्ट किया कि वे उन्हें "एक राजनेता के रूप में नहीं बल्कि एक धार्मिक व्यक्ति के रूप में" संबोधित कर रहे थे, जो "केवल सामान्य जन कल्याण और सम्पूर्ण म्यानमार के हित की इच्छा रखते हैं।"

म्यानमार के सभी नागरिकों, विशेष रूप से निर्धनों, का ध्यान रखते हुए कार्डिनल बो ने सभी की समृद्धि एवं खुशहाली के लिये ज़िम्मेदाराना चयनों का आग्रह किया तथा दस-बिन्दु मार्गदर्शिका प्रस्तुत की। मार्गदर्शिका में उन्होंने पर्यावरण की सुरक्षा, निर्धनों एवं हाशिये पर जीवन यापन करनेवालों के प्रति एकात्मता तथा मानव के अखण्ड विकास के प्रति समर्पित, और साथ ईमानदारी एवं पारदर्शिता के साथ नागरिकों की सेवा को इच्छुक अभ्यर्थियों के पक्ष में मतदान का प्रस्ताव किया। इस बात के प्रति भी उन्होंने सचेत किया कि नागरिक अपना क़ीमती वोट उन लोगों को न दें जो केवल वोट हासिल करने के लिये घृणा फैलाते हैं।      

04 September 2020, 11:43