खोज

Vatican News
तेजे समुदाय के संस्थापक ब्रदर रोजर तेजे समुदाय के संस्थापक ब्रदर रोजर 

ब्रदर रोजर की 15वी बर्सी पर ‘तेजे समुदाय’ ने उन्हें याद किया

ब्रदर रोजर की मृत्यु के 15 वीं सालगिरह पर तेजे समुदाय ने अपने संस्थापक को याद किया, यह इस बात को दर्शाता है कि वर्तमान में संस्थापक की विरासत को किस तरह से जीवित रखा गया है।

माग्रेट सुनीता मिंज- वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, सोमवार 17 अगस्त 2020 (वाटिकन न्यूज) : रोजर शुट्ज़, जिसे ब्रदर रोजर के नाम से जाना जाता है, 16 अगस्त 2005 को फ्रांस के बरगंडी क्षेत्र के तेजे शहर में समुदाय के घर पर हत्या कर दी गई थी। लेकिन उनकी कहानी और प्रभाव वहीं से न तो शुरू हुआ और न ही समाप्त हुआ।

ख्रीस्तीय एकता प्रयास

ब्रदर रोजर का जन्म 12 मई 1915 को प्रोवेंस, स्विट्जरलैंड में एक सम्पन्न ईसाई परिवार में हुआ था। 1940 में, द्वितीय विश्व युद्ध शुरू होने के बाद, ब्रदर रोजर ने महसूस किया कि संघर्ष के दौरान पीड़ित लोगों की मदद करने के लिए ईश्वर उन्हें बुला रहे हैं।

इसके तुरंत बाद, उन्होंने तेजे में एक खाली पड़े हुए घर को खरीदा और नाजी गुप्त पुलिस द्वारा भागने के लिए मजबूर होने से पहले ईसाई और यहूदी शरणार्थियों को छिपा दिया। उसने 1944 में तेजे समुदाय, ‘एक अंतरकलीसियाई मठवासी समुदाय’ की स्थापना की।

अब ब्रदर रोजर की मौत के 15 साल बाद, उनके प्रभाव और भावना को अभी भी 100,000 से अधिक युवा लोगों द्वारा दृढ़ता से महसूस किया जाता है, जो हर साल तेजे आते हैं।

"लोग तेजे आते हैं और वे मसीह की खोज करते हैं, जिस तरह ब्रदर रोजर मसीह की खोज कर रहे थे, मसीह में विश्वास करने की कोशिश कर रहे थे।"

कठिन समय में दृढ़ता

ब्रदर एमिल तेजे समुदाय के एक सदस्य हैं। उन्हें 30 वर्षों तक संस्थापक के साथ रहेने का सौभाग्य मिला। उसने ब्रदर रोजर के जीवन और विरासत के बारे में वाटिकन रेडियो से बातें की।

ब्रदर एमिल ने कहा कि आजकल बहुत से युवा लोग तेजे की यात्रा करते हैं जिनका जन्म शायद ब्रदर रोजर की मृत्यु के बाद हुआ है और उनके बारे में अप्रत्यक्ष रूप से सुना है।

ब्रदर इमिल ने कहा, "मुझे लगता है कि उन्हें उनका व्यक्तित्व आकर्षित करता है कि वे ऐसे व्यक्ति थे जिसने दुनिया के इतिहास में बहुत कठिन समय में कुछ नया शुरू किया था, 1940 दूसरा विश्व युद्ध के समय- ब्रदर रोजर पहली बार तेजे आए और आशा के साथ दृढ़ता से आगे बढ़े।"

उन्होंने कहा, युवा लोगों के मन में ये विचार आता है क्या उनका आदर्शवाद जीवन की कठिनाइयों को समाप्त कर देगा। "जब आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखते हैं जो विश्व इतिहास की सबसे कठिन घटनाओं से गुज़रा और आशा एवं विश्वास को बनाए रखा, तो मुझे लगता है कि उनका जीवन ही युवाओं से बात करता है।"

17 August 2020, 15:10